• Hindi News
  • Rajasthan
  • Suratgarh
  • पांच दिन से चल रही थीं धूल भरी हवाएं, आसमान में 3 किमी तक छाया गुबार बरसात से धुला
--Advertisement--

पांच दिन से चल रही थीं धूल भरी हवाएं, आसमान में 3 किमी तक छाया गुबार बरसात से धुला

भास्कर संवाददाता|श्रीगंगानगर प्री मानसून की रविवार अल सुबह से दोपहर तक हुई बरसात से एक तरफ जहां आसमान में छाई...

Dainik Bhaskar

Jun 18, 2018, 06:25 AM IST
पांच दिन से चल रही थीं धूल भरी हवाएं, आसमान में 3 किमी तक छाया गुबार बरसात से धुला
भास्कर संवाददाता|श्रीगंगानगर

प्री मानसून की रविवार अल सुबह से दोपहर तक हुई बरसात से एक तरफ जहां आसमान में छाई धूल और गर्मी से राहत मिली है। वहीं नगर निकायों के कुप्रबंधन के चलते महज 19.5 एमएम हुई बरसात का पानी ही सड़कों पर ठहर गया। इससे लोगों को आवागमन में परेशानी हुई। हालांकि कलेक्टर ने करीब 25 दिन पहले ही प्रमुख 15 विभागों को पत्र लिखकर और बैठक लेकर बरसात से निबटने की माकूल व्यवस्थाएं करने के आदेश दिए थे। इसके बावजूद निकायों द्वारा कोई प्रयास तक नहीं किए गए।

नतीजा देखिए, मामूली बरसात से सड़कें पानी से भर गई। सीवरेज प्रभावित मधुबन कॉलोनी, शंकर कॉलोनी, एलआईसी कॉलोनी, सरस्वतीनगर और वृद्ध आश्रम रोड एरिया में सड़कें धंस गई। खोदी गई सड़कों पर कीचड़ पसर जाने से आवागमन रुक गया। परिषद और यूआईटी प्रशासन ने टेंकरों की मदद से सड़कों पर खड़े पानी को उठाने के देर रात तक प्रयास जारी रखे। यूआईटी अध्यक्ष संजय महीपाल, एसडीएम यशपाल आहूजा, नगर परिषद आयुक्त सुनीता चौधरी व यूआईटी सचिव कैलाश शर्मा ने बरसात के बाद से शहर के हालात देखे। इसके बावजूद पुरानी आबादी टावर रोड़, वार्ड नंबर 3, गोल बाजार, गोदारा कॉलेज रोड, रविंद्र पथ, सुखाडिय़ा सर्किल से मीरा चौक, गगन पथ, मीरा चौक से चहल चौक, शिव चौक से चहल चौक और एल ब्लॉक एरिया में पानी देर रात तक भरा हुआ था। आने वाले 24 घंटे के दौरान भी बरसात होने की मौसम विभाग ने सूचना प्रसारित की है। अगर बरसात तेज हुई तो निकायों द्वारा सड़कों पर से पानी निकासी को दिक्कतें आएंगी।

डेढ़ घंटे बंद रही बिजली सप्लाई: शहर की बिजली सप्लाई बंद कर दी, जो लगभग डेढ़ घंटे बाद शुरू कराई गई। जैसे ही सप्लाई शुरू हुई शहर के विभिन्न इलाकों में एक के बाद एक फाल्ट आने शुरू हो गए। ब

भास्कर पड़ताल

रविंद्र पथ

कलेक्टर ने 21 मई को नगर परिषद और यूआईटी सहित 15 विभागों को पत्र लिखकर और बैठक बुलाकर मानसून की बरसात से निपटने को तैयारियां करने के निर्देश दिए थे। शहर में करीब 20 किलोमीटर लंबाई के नाले और नालियां हैं। यूआईटी और परिषद ने मिलकर बीते 25 दिनों में महज 5 पांच किलोमीटर में ही नाले और नालियों को साफ किया है। परिषद चेंबर से चेंबर नालों को साफ कर रही है जबकि बीच में पाइपें और नाले पूरी तरह से मिट्टी व पॉलीथिन के कारण जाम हुए पड़े हैं। इस कारण न तो नालों का सामान्य दिनों का पानी निकल पा रहा है और न ही बरसात का पानी निकासी हो रहा है। परिषद ने अभी तक मानसून से निपटने को अभी तक न तो विशेष टीम गठित की है, न ही पंपसेट, पाइपें, जेसीबी मशीनें, टैंकर, मिट्टी भरने को थैले, बाल्टियां, रस्से आदि की ही व्यवस्था की है। वार्ड नंबर तीन और गुरुनानक बस्ती स्थित गड्ढे की सफाई तक नहीं करवाई गई है।

अब जागे...यूआईटी ने करवाई सदभावनानगर नाले की सफाई

यूआईटी की ओर से बरसात रुकने के बाद सदभावनानगर स्थित मुख्य नाले की सफाई कार्य शुरू किया गया। इस कच्चे नाले की एक दीवार को मजबूत किया जा रहा है। सदभावनानगर के नेशनल हाइवे के साथ चिपते भूखंडों से पानी सूखने के बावजूद शहर की सड़कों से निकासी नहीं हो पा रही है। इसका मुख्य कारण नालों की सफाई नहीं हो पाना है। परिषद की ओर से टेंकरों से पानी उठाकर पार्कों में डाला जा रहा है।

हालात चिंताजनक... रिपोर्ट कलेक्टर को दे दी है

एसडीएम यशपाल आहूजा ने बताया कि दो बार शहर में पानी निकासी का जायजा लिया है। शाम 7 बजे तक वार्ड 3, टावर रोड, गोल बाजार, रविंद्र पथ, सुखाड़िया सर्किल से चहल चौक तक के क्षेत्र में पानी भरा हुआ था। रिपोर्ट कलेक्टर को दे दी है। 19.5 एमएम बरसात से ही हालात चिंताजनक हो गए हैं।

आगे क्या... 24 घंटों के दौरान तेज बरसात

मौसम विभाग के अनुसार सोमवार दिनभर में तेज बरसात होने का अनुमान जताया गया है। मौसम वैज्ञानिकों ने इस संबंध में जिला प्रशासन को भी चिट्ठी भेजकर अवगत करवाया है। कलेक्टर ने यूआईटी, नगरपरिषद और अन्य 15 विभागों को अलर्ट जारी किया है।

हकीकत:परिषद 20 में से महज 5 किमी नाले नालियां ही साफ करवा सकी, नतीजा-19 एमएम में सड़कें लबालब

आगे भी शहर परेशानी भुगतने को तैयार रहे, क्योंकि नगर परिषद और यूआईटी ने कलेक्टर की चेतावनी के बावजूद बरसाती पानी से निबटने को कोई तैयारियां नहीं की

तीन ई छोटी स्थित नई बनाई गई सड़क पर बरसात से हुआ गड्ढा और खराब हुआ पेवर।

चिंता...इरान से उठा था बवंडर जो आसमान में छाया हुआ था

इरान के रेगिस्तान से उठे बवंडर से आसमान में करीब 3 किलोमीटर तक रेत का गुबार शुष्क हवाओं के कारण ठहर गया था। रविवार अल सुबह उत्तरी-पूर्वी हवाएं चलने से पंजाब और उतराखंड में बने विशेष सिस्टम से यही धूल ऊपर उठकर पानी से भरे बादलों से टकराई और बरसात के रूप में गर्द भी छंट गई। हालांकि सूरतगढ़, रायसिंहनगर, श्रीविजयनगर, अनूपगढ़, घड़साना और रावला क्षेत्र में बरसात नहीं हुई।

सुखाड़िया सर्किल

....और 3 फायदे भी

1. तापमान में 8 डिग्री की गिरावट गर्मी से परेशान लोगों को मिली राहत :लगभग 15 मिनट में 19.5 मिलीमीटर पानी बरसा। इससे रविवार सुबह 8 डिग्री और दोपहर का तापमान 8.5 डिग्री गिरा। सुबह 23.4 एवं दोपहर को 32.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। गर्मी से राहत मिली।

2. करीब सवा लाख हेक्टेयर क्षेत्र में ग्वार और मूंग की बिजाई :जिले में 4.59 लाख हेक्टेयर के मुकाबले महज 1.15 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में ही बिजाई हो पाई थी। अब श्रीगंगानगर, सादुलशहर,श्रीकरणपुर तहसील के करीब सवा लाख हेक्टेयर में मूंग और ग्वार की बिजाई हो पाएगी।

3. आसमान में छाई धूल हटी, लोग खुलकर लेने लगे सांस :आसमान में करीब 3 किलोमीटर तक छाए धूल के महीन कणों से अस्थमा के रोगियों को बहुत परेशानी से राहत मिली। हर तरफ धूल से जनजीवन पूरी तरह प्रभावित हो गया था। बरसात से आसमान साफ हा़े गया।

पांच दिन से चल रही थीं धूल भरी हवाएं, आसमान में 3 किमी तक छाया गुबार बरसात से धुला
पांच दिन से चल रही थीं धूल भरी हवाएं, आसमान में 3 किमी तक छाया गुबार बरसात से धुला
पांच दिन से चल रही थीं धूल भरी हवाएं, आसमान में 3 किमी तक छाया गुबार बरसात से धुला
पांच दिन से चल रही थीं धूल भरी हवाएं, आसमान में 3 किमी तक छाया गुबार बरसात से धुला
पांच दिन से चल रही थीं धूल भरी हवाएं, आसमान में 3 किमी तक छाया गुबार बरसात से धुला
पांच दिन से चल रही थीं धूल भरी हवाएं, आसमान में 3 किमी तक छाया गुबार बरसात से धुला
X
पांच दिन से चल रही थीं धूल भरी हवाएं, आसमान में 3 किमी तक छाया गुबार बरसात से धुला
पांच दिन से चल रही थीं धूल भरी हवाएं, आसमान में 3 किमी तक छाया गुबार बरसात से धुला
पांच दिन से चल रही थीं धूल भरी हवाएं, आसमान में 3 किमी तक छाया गुबार बरसात से धुला
पांच दिन से चल रही थीं धूल भरी हवाएं, आसमान में 3 किमी तक छाया गुबार बरसात से धुला
पांच दिन से चल रही थीं धूल भरी हवाएं, आसमान में 3 किमी तक छाया गुबार बरसात से धुला
पांच दिन से चल रही थीं धूल भरी हवाएं, आसमान में 3 किमी तक छाया गुबार बरसात से धुला
पांच दिन से चल रही थीं धूल भरी हवाएं, आसमान में 3 किमी तक छाया गुबार बरसात से धुला
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..