• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Suratgarh News
  • सब्जियों से भरी गाड़ियां राेकने पर किसानों की पुलिस और व्यापारियों से हुई कहासुनी
--Advertisement--

सब्जियों से भरी गाड़ियां राेकने पर किसानों की पुलिस और व्यापारियों से हुई कहासुनी

श्रीगंगानगर| किसानों की ओर से विभिन्न मांगों को लेकर की जा रही हड़ताल के तहत शहरों की फल-सब्जी एवं दूध सप्लाई बंद...

Dainik Bhaskar

Jun 03, 2018, 06:35 AM IST
सब्जियों से भरी गाड़ियां राेकने पर किसानों की पुलिस और व्यापारियों से हुई कहासुनी
श्रीगंगानगर| किसानों की ओर से विभिन्न मांगों को लेकर की जा रही हड़ताल के तहत शहरों की फल-सब्जी एवं दूध सप्लाई बंद करने का दूसरे दिन अधिक असर नजर आया। दूध और सब्जियों की किल्लत से लोग परेशान रहे। शहर के लोगों ने नाकों पर लाइनों में लगकर दूध खरीदा। यहां सब्जी भी बिकी। कुछ जगह किसानों की पुलिस एवं व्यापारियों के साथ मामूली कहासुनी के अलावा हड़ताल शांतिपूर्ण रही। वहीं, सूरतगढ़ रोड से कुछ किसान नेताओं की सब्जी चोरी छिपे सब्जी मंडी पहुंचने का आरोप लगाया गया। इससे किसान संगठनों में एक-दूसरे के प्रति एक बारगी भ्रांति का माहौल बन गया। किसानों के रात और दिन लगातार नाकाबंदी के कारण दूसरे प्रदेशों से सब्जियों एवं दूध की सप्लाई ठप हो गई। बाजार में प्रभावशाली किसानों की ओर से लगभग 20 प्रतिशत सप्लाई चाेरी छिपे की गई। किसानों ने नाथांवाला पुल, सूरतगढ़, पदमपुर एवं श्रीकरणपुर बाइपास, मिर्जेवाला फाटक, तीन पुली एवं साधुवाली पुलिया पर नाके लगाकर दूध एवं फल-सब्जी के वाहन बाजार में आने से रोके। सूरतगढ़ बाइपास पर बसें चेक कर रहे किसानों के साथ पुलिस की झड़प हुई।

जिले की विभिन्न मंडियों में दूध-सब्जी से वंचित रहे लोग, किसानों ने नाकों पर लगाई स्टाॅल

सूरतगढ़| ग्रामीण क्षेत्र से दूध-सब्जी शहर में नहीं आई इसलिए लोग वंचित रहे। पालीवाला बस स्टैंड पर नाके पर दूध वालों को रोकर किसानों ने स्टाॅल लगा कर दूध बेचा। धानमंडी में किसान दूसरे दिन भी जिंसें नहीं लेकर आए।

सादुलशहर| किसानों ने कस्बे के बाहरी मार्गों पर नाके लगा फल-सब्जी से भरे पांच वाहन रोके। इनमें से तीन वाहनों में भरी हरी सब्जियां खराब होने की आशंका के कारण गोशाला एवं खुले में विचरण करने वाले पशुओं के लिए डलवा दी। कोई जिंस बिकने को नहीं आई।

श्रीकरणपुर| श्रीगंगानगर किसान समिति के चमकौरसिंह ने बताया कि आमजन की दिक्कत को देखते हुए रविवार से नाकों पर किसान सब्जी की तरह सुबह व शाम 6 से 8 बजे तक 40 रुपए किलो दूध भी बेचेगें। उधर, बंद के चलते किसानों ने कस्बे के एक समुदाय विशेष को दूध सप्लाई करने से रोक दिया। अब समुदाय विशेष भी अपने घरों पर ही दूध की बिक्री करेगा।

अनूपगढ़| किसानों ने अंबेडकर व उधमसिंह चौक सहित अन्य चौराहों पर नाके लगाए और शहर में दूध की सप्लाई रोकी। दूध वालों से दूध जब्त कर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में मरीजों, राहगीरों को बांटा और फिर दूध में शर्बत मिलाकर छबील लगाकर सबको पिलाया। घड़साना| किसानों का गांव बंद आंदोलन जोर पकड़ने लगा है। रविवार से सब्जी के होलसेल विक्रेताओं का भी समर्थन मिलने के बाद बाजार में फल व सब्जी मिलना संभव नहीं होगा। दूध यूनियन पदाधिकारियों की शनिवार को किसान नेताओं के साथ पुन: बैठक हुई। इसमें निर्णय लिया कि दस जून तक दूध सप्लाई नहीं करेंगे। शनिवार को अधिकतर टी-स्टालों पर दूध नहीं होने से दुकानदार परेशान रहे। किसानों ने अब सभी नाकों पर 24घंटे निगरानी शुरू कर दी है।

गजसिंहपुर| किसानों की नाकों पर चैकिंग का आमजन ने विरोध जताया है। सब्जी पकड़ने गए किसानों को स्टेशन मास्टर ने आश्वस्त किया कि कोई सब्जी-दूध आया तो वे जब्त कर गुरुद्वारा साहिब भिजवा देंगे। उधर, फाटक के पास धरनास्थल पर जीआरपी के जवान ने हड़ताल व किसान वर्ग पर कथित गलत टिप्पणी कर दी जिससे आक्रोश फैल गया। किसानों व जीआरपी जवान में मामूली झड़प भी हुई।

28पीबीएन| किसानों ने बस स्टैंड पालीवाला, एक केएसआर, सरदारगढ़ मोड़ पर नाका लगाकर विरोध प्रदर्शन किया। हाइवे से बाजार को जाने वाले दूध, फल, सब्जीवाले वाहनों को बाजार नहीं जाने दिया और वहीं खाली करवा दिए। पालीवाला बस स्टैंड पर आम से भरी पिकअप रोक ली। आंदोलनकारियों ने खुद आम खाने के बाद बचे हुए फलों को हरप्रभ आश्रम में भिजवा दिया।

आंदोलनकारी किसानों ने बसों में चोरी छिपे लाया जा रहा दूध और सब्जियां पकड़ीं

साधुवाली छावनी के पास सब्जियाें भरा टेंपो खाली करवाया, तब व्यापारियों से हुई तनातनी

साधुवाली छावनी के पास किसानों एवं व्यापारियों की परस्पर झड़प हुई। साधुवाली पुलिया के पास कोई व्यापारी किसानों से लगभग दो क्विंटल मौसमी सब्जियां खरीदकर टेंपो में बाजार लेकर आ रहा था। उसी समय छावनी मोड़ पर नाका लगाकर बैठे किसानों ने टेंपो रोककर खाली करवा लिया। मौके पर पहुंचे जीकेएस नेता संतवीर सिंह मोहनपुरा और अमरसिंह में एक बारगी कहा सुनी हो गई। बाद में दोनों नेताओं ने बताया कि गाइड लाइन की सही तरीके से समझ नहीं होने के कारण गलतफहमी से सब्जी बाजार जा रही थी, जिसे रोक दिया गया।

सूरतगढ़ बाइपास पर डेयरी मालिकों ने बेचा दूध : सूरतगढ़ बाइपास पर करीब पांच क्विंटल दूध डेयरी मालिकों ने लाकर बेचा। हुआ यूं कि नाकाबंदी के दौरान शहर से अनेक लोग दूध लेने बाइपास पर पहुंचे, लेकिन वहां दूध नहीं मिला। इस पर किसान नेताओं ने इस एरिया की एचआर डेयरी रूपा डेयरी फार्म से संपर्क साधा। दोनों डेयरियों से करीब पांच क्विंटल दूध पहुंचा जो बाजार से गए लोगों ने 40 रुपए किलो हाथो हाथ खरीद लिया। एसएसबी रोड पुलिया पर दूध यूनियन के सुभाष स्वामी ने दूध विक्रेताओं को रोककर बाजार से आने वाले लोगों को लाइन में लगाकर दूध बेचा।

हिमाचल और पंजाब से आई सब्जियों के ट्रक रोके : किसान दल के नेता रघुवीर ताखर के नेतृत्व में किसानों ने नाथांवाला पुल पर हिमाचल प्रदेश और पंजाब से आए सब्जियों के तीन ट्रक रोके गए। इनमें टमाटर, गोभी, मटर, अनार और आम की भरी गाड़ियां रोक लीं।

वहीं किसान नेताओं ने 27 मई को हैदराबाद से रवाना हुआ आमों का एक ट्रक वापस भेज दिया। उसे शहर में प्रवेश नहीं करने दिया। संतवीरसिंह मोहनपुरा ने बताया कि इस ट्रक को यहां पहुंचने में देर हो गई। उसकी बिल्टी जांच कर वापस भेज दिया गया।

जिले के सब्जी उत्पादक कुछ किसान और दूध विक्रेता चोरी छिपे बसों में सब्जी और दूध लाने की कोशिश कर रहे हैं। शनिवार सुबह सूरतगढ़ बाइपास पर नाका लगा रहे कांग्रेस के पूर्व जिलाध्यक्ष पृथीपाल सिंह संधू, नगरपरिषद के पूर्व सभापति जगदीश जांदू सहित अनेक किसान नेता नाका लगाकर आने-जाने वाले वाहनों की जांच कर रहे थे। इस दौरान बसें रुकवाकर उनमें से बाजार ले जाई जा रही सब्जियां और दूध वहीं नाके पर उतरवा लिया। पुलिस ने इसका विरोध किया और परस्पर कहा सुनी हुई। बाद में सब्जी एवं दूध वाले किसानों ने बाइपास पर बाजार से आने वाले लोगों को यह उत्पाद बेचे।

X
सब्जियों से भरी गाड़ियां राेकने पर किसानों की पुलिस और व्यापारियों से हुई कहासुनी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..