• Hindi News
  • Rajasthan
  • Suratgarh
  • सफाईकर्मी भर्ती; वंचित आवेदकोंं का प्रदर्शन,अस्थायी कर्मी समर्थन में, 22 ठेका वार्डों में नहीं हुई सफाई

सफाईकर्मी भर्ती; वंचित आवेदकोंं का प्रदर्शन,अस्थायी कर्मी समर्थन में, 22 ठेका वार्डों में नहीं हुई सफाई / सफाईकर्मी भर्ती; वंचित आवेदकोंं का प्रदर्शन,अस्थायी कर्मी समर्थन में, 22 ठेका वार्डों में नहीं हुई सफाई

Suratgarh News - भास्कर संवाददाता| श्रीगंगानगर स्वायत शासन विभाग की ओर से जारी की गई सफाईकर्मी भर्ती में परिणाम जारी होने के बाद...

Bhaskar News Network

Jul 15, 2018, 06:40 AM IST
सफाईकर्मी भर्ती; वंचित आवेदकोंं का प्रदर्शन,अस्थायी कर्मी समर्थन में, 22 ठेका वार्डों में नहीं हुई सफाई
भास्कर संवाददाता| श्रीगंगानगर

स्वायत शासन विभाग की ओर से जारी की गई सफाईकर्मी भर्ती में परिणाम जारी होने के बाद अपना नाम सूची में ना पाकर आवेदकों ने शनिवार को नगरपरिषद व कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन किया। वंचितों ने परिषद प्रशासन पर आरोप लगाए कि भर्ती में अनुभव प्रमाण-पत्रों की पड़ताल में घोर लापरवाही बरती गई है। गैर वाल्मीकि समाज के लोगों ने कभी झाडू हाथ में नहीं पकड़ी, लेकिन भर्ती में उन्हें शामिल कर लिया गया। वहीं, समाज के आवेदकों जिन्हें 10 से 15 वर्ष का सफाई मजदूर का अनुभव है, उन्हें प्रमाण पत्र देने के बावजूद भर्ती में शामिल नहीं किया। अखिल भारतीय सफाई मजदूर कांग्रेस के पदाधिकारियों के नेतृत्व में समाज के अनेक महिला, पुरुषों ने केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री अर्जुनराम मेघवाल का घेराव कर अनुभव प्रमाण-पत्रों की जांच करने की मांग की। इस मंत्री ने सरकार से वार्ता करने की बात कही। कलेक्टर ज्ञानाराम ने जरूरी बैठक की बात कह मामला शांत किया। सफाई कर्मचारी यूनियन के पदाधिकारियों ने घोषणा की है कि मांगें नहीं मानी जाने की स्थिति में सोमवार से शहर की सफाई व्यवस्था ठप कर दी जाएगी। अधिक प्रभाव ठेका के 22 वार्डों पर पड़ेगा। शनिवार को भी शहर में कई वार्डों में सफाई नहीं हुई। नगरपरिषद में शाम आयुक्त सुनीता चौधरी ने परिषद सभागार में चयनित हुए आवेदकों को नियुक्ति पत्र देते हुए काम पर आने के लिए कहा। इस दौरान परिषद के सचिव लाजपत बिश्नोई सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

श्रीगंगानगर नगरपरिषद ने कुल 144 पदों के लिए सफाईकर्मी भर्ती निकाली थी। इसमें सबसे अधिक पदों पर अनुसूचित जाति के आवेदकों को नियुक्ति मिली है। इसके बाद अन्य पिछड़ा वर्ग व अनु सूचित जनजाति के आवेदन रहे। परिषद में 85 पदों पर अनुसूचित जाति, 19 पर अनुसूचित जनजाति, 4 पद सामान्य, 01 पद पर विशेष अन्य पिछड़ा वर्ग व अन्य पिछड़ा वर्ग के 35 आवेदकों को नियुक्ति दी गई है।

आरोप: समाज को भर्ती में प्राथमिकता नहीं दी गई

यूनियन के संभाग प्रभारी उमेश वाल्मीकि, महामंत्री बंटी वाल्मीकि सहित अन्य का आरोप है कि भर्ती प्रक्रिया में लापरवाही बरती गई है। अनुभव प्रमाण-पत्रों की जांच के बाद हकीकत सामने आ जाएगी। 144 पदों पर सफाई कर्मी भर्ती में वाल्मीकि समाज को प्राथमिकता नहीं दी गई। जबकि समाज के लोग बीते कई वर्षों से सफाई मजदूर का काम कर रहे हैं। दस्तावेजों की जांच के दौरान इन बातों का कोई ख्याल नहीं रखा गया।

विरोध की एक वजह यह भी बनी; दौसा-हनुमानगढ़ जिले के आवेदकों को दी नियुक्ति

विरोध का एक बड़ा कारण यह भी बना कि भर्ती में नगरपरिषद श्रीगंगानगर क्षेत्र की बजाए दौसा व हनुमानगढ़ जिले के आवेदकों को लिया गया। सफल आवेदकों में सादुलशहर, भादरा, सूरतगढ़, चूनावढ़, पदमपुर, आदि जगहों से आवेदन करने वालों को भी नियुक्ति दी गई है। वहीं, एक आवेदक रसूल अली को अनुसूचित जनजाति में शामिल कर नियुक्ति देना चर्चा का विषय बना।

144 पदों में अनुसूचित जाति के 85 को मिली नियुक्ति

श्रीगंगानगर. सफाई कर्मचारी भर्ती काे लेकरकेंद्रीय मंत्री का घेराव करते सफाई कर्मचारी।

आगे क्या:आज होगी बैठक, सफाई ठप करने पर होगा विचार

उमेश वाल्मीकि का कहना है कि समाज के लोगों के साथ ही ठेका वार्डों में लगे अस्थायी सफाई कर्मियों को रविवार को 11 बजे बैठक के लिए बुलाया गया है। इसमें यूनियन के पदाधिकारी भी शामिल होंगे। इस दौरान शहर की सफाई व्यवस्था ठप करने से लेकर आगामी रणनीति तैयार की जाएगी। जिला प्रशासन को अवगत कराया जाएगा कि समाज के लोगों को भर्ती में और प्राथमिकता दी जानी चाहिए थी।

यह किया: सफल रहे आवेदकों को नियुक्ति पत्र दे दिए

डीएलबी के निर्देश की पालना करते हुए नगर परिषद प्रशासन ने शनिवार शाम ही भर्ती में सफल हुए आवेदकों को विरोध प्रदर्शन व हंगामे के बीच ही नियुक्ति पत्र जारी कर दिए। जानकारी के अनुसार आयुक्त सुनीता चौधरी का कहना है कि इस संबंध में शनिवार को अवकाश के बावजूद अधिकारियों को काम पर बुलाया गया। निर्देश दिए गए कि सभी प्रकार की तैयारियां पूरी रखें। ताकि आगे कोई परेशानी ना आए।

X
सफाईकर्मी भर्ती; वंचित आवेदकोंं का प्रदर्शन,अस्थायी कर्मी समर्थन में, 22 ठेका वार्डों में नहीं हुई सफाई
COMMENT