• Hindi News
  • Rajasthan
  • Suratgarh
  • दो दिन में 150 क्यूसेक घटने के साथ गंगनहर में रह गया 1200 क्यू. पानी, एसई बोले आज शाम कर देंगे 1850
--Advertisement--

दो दिन में 150 क्यूसेक घटने के साथ गंगनहर में रह गया 1200 क्यू. पानी, एसई बोले- आज शाम कर देंगे 1850

Dainik Bhaskar

Jun 21, 2018, 06:45 AM IST

Suratgarh News - भास्कर संवाददाता| श्रीगंगानगर किसानों के धरने के बावजूद गंगनहर का जल संकट समाप्त होने का नाम नहीं ले रहा। दो दिन...

दो दिन में 150 क्यूसेक घटने के साथ गंगनहर में रह गया 1200 क्यू. पानी, एसई बोले- आज शाम कर देंगे 1850
भास्कर संवाददाता| श्रीगंगानगर

किसानों के धरने के बावजूद गंगनहर का जल संकट समाप्त होने का नाम नहीं ले रहा। दो दिन पूर्व कलेक्ट्रेट में वार्ता के दौरान विभाग ने किसानों को बीबीएमबी में तय शेयर 1850 क्यूसेक पूरा करने का आश्वासन दिया था, लेकिन पानी 1350 के करीब चल रहा था जो घटकर 1200 क्यूसेक रह गया। इस पर यहां बेमियादी धरना दे रहे किसान संघर्ष समिति एवं अखिल भारतीय किसान सभा के नेताओं ने बुधवार को कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया। बाद में फिर से कलेक्ट्रेट में वार्ता हुई, जिसमें गंगनहर सर्किल के एसई अरुण कुमार सिडाना ने किसानों को आश्वासन दिया कि गुरुवार शाम तक शेयर के अनुसार 1850 क्यूसेक पानी कर दिया जाएगा। बावजूद इसके कोई हल नहीं निकला। अब कलेक्टर ने अधिकारियों को 1850 क्यूसेक लाने के निर्देश दिए हैं। कलेक्ट्रेट सभागार में बुधवार को हुई वार्ता के दौरान किसानों ने कहा कि विभाग ने हद कर दी। अब तो खखां क्या आरडी-45 पर ही शेयर के मुताबिक 1850 क्यूसेक पानी नहीं मिल रहा। इस पर सिडाना ने कहा कि पानी पीछे से कम आ रहा है। किसानों ने सवाल किया कि कम पानी का खमियाजा गंगनहर पर क्यों पड़ता है? भाखड़ा में तो एक क्यूसेक ही कम नहीं हुआ।

आरोप...पंजाब पी रहा हमारा पानी, खखां-शिवपुर हैड के बीच हो रही चोरी

किसान नेताओं ने आरोप लगाया कि खखां से शिवपुर हैड के बीच पंजाब के किसान नहर से सीधे पानी उठाते हैं। इस पर कलेक्टर ने सुरक्षा के लिए एसडीएम की देखरेख में एक टीम गठित कर पानी की चाेरी रोकने के निर्देश दिए हैं। वहीं किसानों ने कलेक्टर के समक्ष यह आरोप भी लगाया कि जल संसाधन मंत्री डॉ. रामप्रताप ने गंगनहर अधिकारियों को आदेश दे रखा है कि वे किसी नहर में बैलेंस का पानी न छोड़ें। इससे बेहतर है पौंड लेवल बढ़ा लें अन्यथा छोटे माइनरों को पानी दिया जाए। इन आदेशों के बावजूद विभाग के अधिकारी मंत्री के आदेशों की अवहेलना करते हुए बैलेंस में पानी छोड़कर यूं ही बर्बाद कर देते हैं। इस पर बैलेंस में नहरें नहीं चलाने पर सहमति बनी।

किसान नेता बोले- जब तक 2500 क्यूसेक पानी नहीं, तब चलेगा धरना

2500 क्यूसेक पानी देने की मांग पर दोनों किसान संगठनों का कलेक्ट्रेट पर बुधवार को तीसरे दिन धरना जारी रहा। धरने एवं वार्ता में पूर्व विधायक हेतराम बेनीवाल, एडवोकेट सुभाष सहगल, कालू थोरी, श्योपत मेघवाल, हरजीत उप्पल, अमरसिंह बिश्नोई, राकेश ठोलिया, रविन्द्र तरखान, मास्टर केवलसिंह सहित बड़ी संख्या में किसान शामिल रहे। किसानों ने कहा है कि जब तक गंगनहर में 2500 क्यूसेक पानी नहीं दिया जाता, तब तक धरना जारी रहेगा।

श्रींगगानगर। कलेक्टर से वार्ता करने जाते किसान।

कम पानी का नुकसान देखिए...अनूपगढ़ व रायसिंहनगर में फसल बुआई महज 10190 हेक्टेयर : अनूपगढ़ एवं रायसिंहनगर कृषि सहायक खंडों में 10190 हेक्टेयर में बुआई है, जबकि अकेले श्रीकरणपुर खंड में 19 हजार 448 हेक्टेयर में बुआई हुई है। श्रीगंगानगर में सर्वाधिक 32297 हेक्टेयर में बुआई हुई है। इस खंड में सूरतगढ़ तहसील का एरिया भी शामिल है। जिले के गंगनहर क्षेत्र में अब तक 68 हजार 197 हेक्टेयर में बुआई हुई है। इसमें सबसे बुरी हालत रायसिंहनगर एवं अनूपगढ़ कृषि सहायक खंडों में है। इसके अलावा सादुलशहर में 6222 हैक्टेयर में बुवाई हुई है।

X
दो दिन में 150 क्यूसेक घटने के साथ गंगनहर में रह गया 1200 क्यू. पानी, एसई बोले- आज शाम कर देंगे 1850
Astrology

Recommended

Click to listen..