Hindi News »Rajasthan »Suratgarh» डाक डिलीवर की सूचना वाली वेबसाइट का अकसर काम नहीं करना आमजन की परेशानी का सबब बना

डाक डिलीवर की सूचना वाली वेबसाइट का अकसर काम नहीं करना आमजन की परेशानी का सबब बना

श्रीगंगानगर| सरकारी विभाग, गैर सरकारी संस्थान या फिर व्यक्ति विशेष को डाक डिलीवर हाेने की सूचना देने वाली डाक...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 08, 2018, 06:45 AM IST

श्रीगंगानगर| सरकारी विभाग, गैर सरकारी संस्थान या फिर व्यक्ति विशेष को डाक डिलीवर हाेने की सूचना देने वाली डाक विभाग की वेबसाइट www.indiapost.gov.in का अकसर काम नहीं करना लोगों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है। इस वेबसाइट पर पार्सल, रजिस्टर्ड एडी और स्पीड पोस्ट को ट्रैक करने वाली लिंक पर ट्रैकिंग आईडी डालने के बाद सर्च करने पर एरर का मैसेज फ्लैश हो रहा है। इसके चलते श्रीगंगानगर मंडल में सात हजार सहित देशभर के डाक सेवाओं का उपयोग करने वाले लाखों ग्राहक परेशान हो रहे हैं। डाक विभाग के अफसरों को भी इस संबंध में रोजाना शिकायतें की जाती हैं, लेकिन समस्या का कोई स्थायी समाधान नहीं होता दिखाई दे रहा है। महत्वपूर्ण डाक भेजने के लिए लोग डाक विभाग की रजिस्टर्ड पोस्ट विद एक्नोलेजमेंट ड्यू (रजिस्टर्ड एडी) और पैकेज सर्विस का इस्तेमाल करते हैं। इसका कारण यह है कि यह डाक भेजने के बाद एक ट्रैकिंग नंबर मिलता है, जिससे डाक को ऑनलाइन ट्रैक किया जा सकता है। इससे पता चल जाता है कि ग्राहक द्वारा भेजा गया पार्सल या डाक कहां तक पहुंचा है और कब तक डिलीवर हो जाएगा, लेकिन पिछले कुछ दिनों से यह डाक ट्रैक करने वाली लिंक आए दिन काम बंद कर देता है। कुछ ग्राहकों की शिकायत पर भास्कर टीम ने मामले की पड़ताल की, तो खुलासा हुआ कि जैसे ही ग्राहक डाक विभाग की वेबसाइट www.indiapost.gov.in पर ट्रैकिंग नंबर डालते हैं, तो इस वेबसाइट पर एरर का मैसेज शो होने लगता है। ऐसे में अफसर अब मुख्यालय स्तर से चर्चा कर इस समस्या को सुलझाने की बात कर रहे हैं।

लोगों की शिकायत

स्पीड पोस्ट को ट्रैक करने वाली लिंक पर ट्रैकिंग आईडी डालने के बाद सर्च करने पर एरर का मैसेज दिख रहा

श्रीगंगानगर में रोजाना 7 हजार से ज्यादा डाक का वितरण

श्रीगंगानगर मंडल में श्रीगंगानगर, सूरतगढ़, घड़साना, विजयनगर, श्रीकरणपुर, सादुलशहर, हनुमानगढ़ जंक्शन, हनुमानगढ़ टाउन, नोहर, भादरा, रावतसर, संगरिया, टीबी व पीलीबंगा सहित कई अन्य एरिया भी आते हैं। अगर ये डाक जिलों के अंदर ही डिलीवर होनी है, तो उन्हें लोकल स्तर पर छंटाई कर भेज दिया जाता है। बाहरी राज्यों में जाने वाली डाक को ट्रेनों के माध्यम से भेजा जाता है।

ऐसे काम करता है ट्रैकिंग सिस्टम

डाक विभाग की वेबसाइट www.indiapost.gov.in खोलने पर होमपेज पर ही ट्रैक एंड ट्रेस कैप्शन के साथ लिंक खुलती है। इसमें ग्राहक को ट्रैकिंग आईडी डालना होता है। इसमें शुरुआती दो अक्षर अंग्रेजी भाषा के होते हैं। इसके बाद नौ अंक व आखिरी दो अक्षर भी अंग्रेजी वर्णमाला के होते हैं। इसके नीचे के कॉलम में कैप्चा डालने के बाद ट्रेस बटन पर क्लिक किया जाता है। इससे डाक या पार्सल कहां तक पहुंचा है, इसकी जानकारी मिल जाती है।

प्रधान डाकघर के एएसपी साजन राम ने बताया कि विभाग की वेबसाइट का समय-समय पर मेंटीनेंस का काम चलता रहता है। हो सकता है कि इसी कारण से अभी ट्रैकिंग सुविधा काम न कर रही हो। मैं तकनीकी लाइन के स्टाफ से इसे चेक करा लेता हूं। अगर किसी को समस्या है, तो वह हमसे इस संबंध में संपर्क कर सकता है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Suratgarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×