--Advertisement--

बारिश से सर्विस रोड पर अनेक जगह बन गए बड़े गड्ढे

भास्कर संवाददाता|श्रीगंगानगर। नेशनल हाईवे पर प्रस्तावित सर्विस रोड को लेकर यूआईटी व वन विभाग के बीच बीते दो...

Dainik Bhaskar

Jun 09, 2018, 06:55 AM IST
बारिश से सर्विस रोड पर अनेक जगह बन गए बड़े गड्ढे
भास्कर संवाददाता|श्रीगंगानगर।

नेशनल हाईवे पर प्रस्तावित सर्विस रोड को लेकर यूआईटी व वन विभाग के बीच बीते दो माह से खींचतान के चलते काम रुकने का खमियाजा हजारों लोगों को भुगतना पड़ रहा है। दो दिन पूर्व शहर में हुई 18.5 एमएम बारिश के बाद निर्माणाधीन इस सर्विस रोड पर पानी भर गया। इससे यहां अनेक जगहों पर गहरे गड्ढे हो गए और कीचड़ की वजह से लोगों का यहां से निकल पाना तक मुश्किल हो गया। हाईवे पर इसी मार्ग पर होटल व अन्य दुकानें स्थित हैं, इनके कारोबार पर भी इसका प्रतिकूल असर पड़ा है। न्यास की ओर से हाईवे पर करीब 160 करोड़ की लागत से सर्विस रोड बनाना प्रस्तावित है। माह फरवरी में इस रोड का काम भी शुरू कर दिया गया था। लेकिन वन विभाग ने अप्रैल माह में यह कहते हुए काम पर रोक लगा दी थी कि नेशनल हाईवे की जमीन वन विभाग के नाम पर चढ़ी हुई है और वन संरक्षण अधिनियम के तहत वन भूमि पर किसी प्रकार के खनन पर रोक है। इसके बाद से आज तक दोनों ही विभागों की ओर से एक दूसरे को गलत ठहराया जा रहा है और पत्र व्यवहार में ही पूरा समय व्यतीत किया जा रहा है।

यूआईटी की ओर से बनाई जा रही 160 करोड़ की सर्विस रोड को वन विभाग ने हाईवे पर अपनी जमीन बताते हुए काम रुकवा दिया था

सर्विस रोड के होंगे तीन बड़े फायदे

1. सर्विस रोड बनने से इस क्षेत्र में धूल मिट्टी से स्थायी निजात मिल जाएगी। वर्तमान में सूरतगढ़ बाईपास से वृद्ध आश्रम रोड तक धूल के दिनभर गुबार उड़ते रहने से सांस लेने तक की दिक्कत रहती है।

2. डिवाइडर रोड और टाइलें लगने से शहर का प्रवेश मार्ग साफ सुथरा दिखेगा। शहर को स्वच्छता की ओर बढ़ाए जा रहे कदमों में यह मील का पत्थर साबित होगा। मिट्टी पूरी तरह से साफ हो जाएगी।

3. शिव चौक से सूरतगढ़ बाईपास तक दोनों और करीब डेढ़ सौ से अधिक दुकानें बजरी, रेता और अन्य सामान बेचने वालों की हैं। ये लोग वर्षों से सड़क पर ही अतिक्रमण कर कारोबार क र रहे हैं। इनसे सड़क साफ हो जाएगी।

अनुमति का इंतजार, शेष काम 15 दिन में कर देंगे पूरा


X
बारिश से सर्विस रोड पर अनेक जगह बन गए बड़े गड्ढे
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..