• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Suratgarh News
  • तबादले के लिए कलेक्ट्रेट में बन रही पटवारियों व गिरदावरों की सूची, अगले सप्ताह जारी होने की उम्मीद
--Advertisement--

तबादले के लिए कलेक्ट्रेट में बन रही पटवारियों व गिरदावरों की सूची, अगले सप्ताह जारी होने की उम्मीद

4 दिन से चल रही कशमकश, 143 नए पटवारी जाएंगे फील्ड में भास्कर संवाददाता|श्रीगंगानगर जिले में पटवारियों की लंबी...

Dainik Bhaskar

Jul 29, 2018, 07:00 AM IST
4 दिन से चल रही कशमकश, 143 नए पटवारी जाएंगे फील्ड में

भास्कर संवाददाता|श्रीगंगानगर

जिले में पटवारियों की लंबी चौड़ी तबादला सूची तैयार की जा रही है। बीते चार दिनों से इस सूची को अंतिम रूप देने को प्रयास किया जा रहा है लेकिन अब भी एक-दो दिन और लग सकते हैं। इसमें नई भर्ती के करीब डेढ़ सौ पटवारियों को प्रशिक्षण की अंतिम परीक्षा के लिए भेजा जा रहा है। इस परीक्षा के परिणाम के बाद सफल रहे पटवारियों को ही फील्ड पोस्टिंग दी जाएगी। मनचाही पोस्टिंग के लिए और मनचाहे पद पर ही बने रहने के लिए पटवारियों और गिरदावरों ने डिजायर भी करवाई हैं। सूत्रों के अनुसार कलेक्ट्रेट में स्थापना शाखा में चार दिनों से पटवारियों की सूची तैयार करने में कसरत हो रही है। जिले में पटवारियों के 453 पद स्वीकृत हैं। इनमें से 144 पटवारी नए भर्ती किए गए थे। मतलब इतने पद तो पहले से ही रिक्त चल रहे हैं। शेष पदों पर तबादले किए जाने हैं। इसको लेकर स्थापना शाखा इन दिनों हॉट रूम के तौर पर मशहूर हो रही है। कई पटवारी तो पहले से ही मनपसंद कमाई वाली सीट पर जमे हुए हैं। इन्होंने अपनी वर्तमान सीट को बचाए रखने को तौर तरीके अपनाए हैं। कुछ पटवारी अपनी इच्छा से ही नवीन पद पर जाना चाहते हैं। ऐसे में सिफारिशें, मान-मनौव्वल और साम-दाम का सहारा ले रहे हैं। यही स्थिति गिरदावरों के साथ है। जिले में गिरदावरों के 101 पद हैं। इनमें से भी कईयों के तबादले किए जाने हैं। चार पटवार सर्किल पर एक गिरदावर पद है।

नजदीक और दूर की पोस्टिंग के लिए हो रही पटवारियों की कसरत : पंजाब राज्य सीमा से लेकर बीकानेर की सीमा खाजूवाला जिले तक 205 किलोमीटर लंबे फैले जिले में कई पटवारी जिला मुख्यालय से दूर नहीं जाना चाहते तो कई अन्य दूर की तहसीलों के पटवारी जिला मुख्यालय की ओर नहीं आना चाहते। अनूपगढ़, रावला, घड़साना और सूरतगढ़ क्षेत्र में बारानी भूमि अधिक होने के कारण पटवारियों के पास काम कम है। इसलिए कई पटवारी उसी क्षेत्र में बने रहना चाहते हैं। यहां तक कि कई पटवारी और गिरदावर काम के अच्छे जानकार होने के कारण भी एसडीओ, तहसीलदार और नायब तहसीलदारों की पसंद बने हुए हैं। इसलिए ऐसे जानकार पटवारी और गिरदावरों को नहीं हटाने के लिए भी सिफारिशें की गई हैं। सूत्रों की मानें तो श्रीगंगानगर में यह तबादला सूची आचार संहिता लगने के आसपास ही जारी की जाएगी ताकि बाद में पटवारी और गिरदावर इसको लेकर ज्यादा भागदौड़ न कर सकेंगे।

पाेस्टिंग के लिए विधायकों से करा रहे सिफारिश

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..