• Hindi News
  • Rajasthan
  • Suratgarh
  • शिविर के लिए सरकार खर्च रही ‌Rs.27 लाख, खाना खाया, हाजिरी लगाई और घर चले गए 75% शिक्षक
--Advertisement--

शिविर के लिए सरकार खर्च रही ‌Rs.27 लाख, खाना खाया, हाजिरी लगाई और घर चले गए 75% शिक्षक

Dainik Bhaskar

May 23, 2018, 07:05 AM IST

Suratgarh News - भास्कर संवाददाता|श्रीगंगानगर शिक्षकों के आवासीय प्रशिक्षण शिविर में नियमों का जमकर उल्लंघन हो रहा है। कारण यह...

शिविर के लिए सरकार खर्च रही ‌Rs.27 लाख, खाना खाया, हाजिरी लगाई और घर चले गए 75% शिक्षक
भास्कर संवाददाता|श्रीगंगानगर

शिक्षकों के आवासीय प्रशिक्षण शिविर में नियमों का जमकर उल्लंघन हो रहा है। कारण यह है कि सिर्फ छह दिन चलने वाले इस आवासीय शिविर में रात को ज्यादातर शिक्षक अपने घर चले जाते हैं। सूत्रों से जानकारी मिलने के बाद भास्कर ने मंगलवार रात शिविर का निरीक्षण किया तो पाया कि ज्यादातर शिक्षक खाना खाने के बाद बॉयोमैट्रिक उपस्थिति लगाकर अपने घर चले जाते हैं। भास्कर ने लगभग एक घंटे शिविर पर नजर रखी। इस दौरान ज्यादातर शिक्षक अपने परिजनों के साथ कैंप में आए और उपस्थिति लगाकर वापस लौट गए। रात होते-होते हालत ये रहे कि 158 शिक्षकों के इस शिविर में रात में सिर्फ 37 शिक्षक दिखे। श्रीकरणपुर में भी यही हाल देखने को मिला। 169 शिक्षकों के इस शिविर में रात में सिर्फ 24 शिक्षक रुके। आंकड़ों के मुताबिक श्रीगंगानगर जिले में शिविरों पर सरकार करीब 27 लाख रुपए खर्च करेगी।

डीईओ की आंखों में भी झोंकी धूल: विद्यार्थियों को शिक्षा देने वाले यह गुरुजी जिला शिक्षा अधिकारी की आंखों में भी धूल झोंकने से पीछे नहीं रहे। रात लगभग 8 बजे डीईओ माध्यमिक शिवराम यादव शिविर में पहुंचे और शिक्षकों के साथ कैंप में भोजन किया। जब वह वह कैंप में रहे तो शिक्षक भी वहां रुके रहे और उनके जाने के बाद एक एक करके शिक्षक कैंप से निकल गए।

जिले के 9 ब्लॉक में चल रहा प्रशिक्षण, सबमें एक से हालात

भास्कर लाइव

बदले हुए पाठ्यक्रम और नई शिक्षा प्रणाली की जानकारी देने के लिए हर साल सरकार शिक्षकों को प्रशिक्षण देती है। वरिष्ठ अध्यापकों का प्रशिक्षण जिले के बाहर चल रहा है। जबकि ग्रेड थर्ड के शिक्षकों का प्रशिक्षण जिले के सभी 9 ब्लाक में चल रहा है। इसमें सभी शिक्षकों को सुबह 7 से 8 व रात 8 से 9 के बीच अपनी बॉयोमैट्रिक हाजिरी दर्ज करानी होती है। फिर भी शिक्षक नियमों को ताक पर रखकर रात होते ही अपने घर चले जाते हैं।

पहला चरण|1498 शिक्षक हो रहे हैं शामिल

थर्ड ग्रेड शिक्षकों को तीन चरण में प्रशिक्षण दिया जा रहा है। 21 से 26 मई तक चलने वाले इस आवासीय प्रशिक्षण शिविर में कुल 1498 शिक्षक शामिल हो रहे हैं। जिले के सभी 9 ब्लाॅक में प्रशिक्षण शिविर चल रहा है। इसमें श्रीगंगानगर के डीएवी स्कूल में चल रहे शिविर में 160, अनूपगढ़ में 195, घड़साना में 160, श्रीकरणपुर में 169, पदमपुर में 160, रायसिंहनगर में 182, सादुलशहर में 154, सूरतगढ़ में 160 और श्रीविजयनगर में 158 शिक्षकों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

अधिकारी बाेले - रात नहीं रुके तो की जाएगी अनुशासनात्मक कार्रवाई


आवासीय प्रशिक्षण शिविर में हाजिरी लगाकर वापस जाते शिक्षक।

बजट | 300 रुपए प्रतिदिन मिलता है

आवासीय शिविर में शामिल होने वाले हर एक शिक्षक के लिए सरकार की ओर से 300 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से बजट आता है। इसमें उनके रहने-खाने की सारी व्यवस्था सर्व शिक्षा अभियान को देखनी होती है। शिविर में शामिल होने वाले शिक्षकों को सुबह चाय, फिर 11 बजे चाय नाश्ता, दोपहर 1 से 2 बजे के बीच भोजन दिया जाता है। शाम को चाय व नाश्ता और रात में भोजन दिया जाता है।


X
शिविर के लिए सरकार खर्च रही ‌Rs.27 लाख, खाना खाया, हाजिरी लगाई और घर चले गए 75% शिक्षक
Astrology

Recommended

Click to listen..