Hindi News »Rajasthan »Suratgarh» फसल बीमा योजना में बीमित राशि बढ़ने से किसानों पर पड़ा करोड़ों का भार

फसल बीमा योजना में बीमित राशि बढ़ने से किसानों पर पड़ा करोड़ों का भार

भास्कर संवाददाता| श्रीगंगानगर प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत खरीफ 2018 की अधिसूचना तब जारी की है जब फसल...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 31, 2018, 07:45 AM IST

भास्कर संवाददाता| श्रीगंगानगर

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत खरीफ 2018 की अधिसूचना तब जारी की है जब फसल बीमा के लिए आखिरी दिन बचा है। बीमा 31 जुलाई तक ही करवाया जा सकता है। इस साल सरकार ने बीमित राशि भी काफी बढ़ा दी है। इससे जिले के किसानों से करोड़ों रुपए अतिरिक्त वसूली की जाएगी। इस साल जिले में खरीफ 2018 की फसलों में फसल बीमा के लिए एग्रीकल्चर इंश्योरेंस कंपनी ऑफ इंडिया को अधिकृत किया गया है। डिप्टी डायरेक्टर डॉ. सतीश कुमार शर्मा ने बताया कि अनूपगढ़ तहसील में पटवार सर्किल में ग्वार, मूंग, कपास, धान एवं तहसील स्तर पर बाजरा संसूचित किया गया है। घड़साना में ग्वार, मूंग पटवार सर्किल स्तर पर तथा कपास तहसील सर्किल पर, श्रीकरणपुर तहसील में ग्वार, मूंग एवं कपास पटवार सर्किल पर, पदमपुर में पटवार सर्किल पर ग्वार, मूंग, कपास, रायसिंहनगर, सादुलशहर, श्रीगंगानगर में पटवार मंडल स्तर पर ग्वार, मूंग और कपास, सूरतगढ़ में मूंगफली एवं तिल तहसील स्तर पर, श्रीबिजयनगर में ग्वार, कपास एवं धान पटवार सर्किल पर तथा रावला में ग्वार एवं मूंग पटवार सर्किल पर एवं कपास तहसील स्तर पर संसूचित की गई है।

खरीफ 2018 की अधिसूचना आखिरी दिवस से एक दिन पूर्व जारी की, अंतिम तिथि आज

7 हैक्टेयर तक अधिसूचित फसलों का बीमा अनुदानित दर पर करवा सकेंगे

डिप्टी डायरेक्टर ने जिले के सभी लोनी एवं गैर लोनी तथा बटाईदार किसानों से आग्रह किया है कि निर्धारित अवधि में फसल बीमा करवाकर प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में लाभ उठाएं। उप निदेशक ने बताया कि तहसीलवार अधिसूचित फसलों का योजनांतर्गत वर्ष 2018-19 में फसली लोन लेने वाले किसान, गैर लोनी एवं बटाईदार किसान फसलों का बीमा करवा सकते हैं। एक किसान 7 हैक्टेयर तक अधिसूचित फसलों का बीमा अनुदानित दर पर करवा सकेगा। सात हैक्टेयर से अधिक भूमि पर फसल बीमा के लिए पूरी प्रीमियम राशि भरनी पड़ेगी।

जीएसएस सदस्य किसान भी पात्र : लोनी किसानों को अनिवार्य आधार पर अधिसूचित इकाई क्षेत्र एवं अधिसूचित फसलों के लिए वित्तीय संस्थान (सहकारी बैंक एवं सहकारी समिति, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, व्यावसायिक बैंक एवं भूमि विकास बैंक आदि) द्वारा खरीफ 2018 मौसम के लिए फसल लोन सीमा अनुमोदित (स्वीकृत) की गई हो तथा 31 जुलाई तक लोन वितरण किया गया हो, पात्र होगा। ऐसे लोनी किसानाें की अधिसूचित फसलों का फसल बीमा अनिवार्य रूप से किया जाएगा।

किसान रमन रंधावा ने की बैंक गिरदावरी देखकर बीमित राशि काटने की मांग

खेती बचाओ किसान बचाओ मोर्चा अध्यक्ष रमन रंधावा ने बताया कि बुआई की सूचना देने के लिए किसानों को एक प्रपत्र छपवाकर दिया है। किसान फसल बुआई की सूचना प्रपत्र में देने जाते हैं तो बैंक अधिकारी प्रपत्र लेने से कन्नी काटते हैं। अधिकारी कहते हैं उनका सॉफ्टवेयर अपडेट है। उसी हिसाब से प्रीमियम कटेगा। हमारे पास इतना समय और कर्मचारी नहीं कि खाते अपडेट कर सकें, जबकि बैंक को फसल बीमा करने के लिए किसान के प्रीमियम का 4% कमीशन मिलता है। रंधावा ने वर्तमान फसल अनुसार प्रीमियम काटने की मांग की है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Suratgarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×