• Home
  • Rajasthan News
  • Tonk News
  • विधायक ने विधानसभा में रखी सआदत अस्पताल में सुविधाएं बढ़ाने की मांग
--Advertisement--

विधायक ने विधानसभा में रखी सआदत अस्पताल में सुविधाएं बढ़ाने की मांग

टोंक| टोंक विधायक अजीत सिंह मेहता ने बुधवार विधान सभा में सआदत अस्पातल में सुविधाएं बढ़ाने, आयुष चिकित्सकों के...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 07:00 AM IST
टोंक| टोंक विधायक अजीत सिंह मेहता ने बुधवार विधान सभा में सआदत अस्पातल में सुविधाएं बढ़ाने, आयुष चिकित्सकों के मानदेय, भामाशाह लाभार्थियों से निजी अस्पतालों द्वारा निशुल्क उपचार के बावजूद राशि वसूलने सहित कई मुद्दे उठाए। विधायक मेहता ने अनुदान की मांग संख्या 26 चिकित्सा एवं लोक स्वास्थ्य व सफाई पर चर्चा में भाग लेते हुए कहा कि टोंक जिला मुख्यालय पर स्थित सआदत अस्पताल जिले का सबसे बडा अस्पताल है।

सआदत अस्पताल तथा मातृ एंव शिशु स्वास्थ्य केन्द्र में माह जनवरी 2017 से दिसंबर 2017 में ओपीडी मरीजों की संख्या 5,00,614 व आईपीडी मरीजों की संख्या 43,941 से अधिक है। मातृ एंव शिशु स्वास्थ्य केन्द्र संचालित होने से तथा ट्रोमा, बर्न, एफबीएनसी, आईसीयू वार्ड होने के कारण मरीजों की संख्या में लगातार बढोत्तरी हो रही है। मरीजों को समय पर सुलभ स्वास्थ्य लाभ मिले सके इसके लिए सआदत अस्पताल को 200 बेड़ से बढ़ाकर 300 बेड में क्रमोन्नत किया जाए। विधायक मेहता ने मांग की कि एमसीएच टोंक में सोनोग्राफी की मशीन है, लेकिन सआदत अस्पताल में सोनोग्राफी की मशीन नहीं है। सआदत अस्पताल व एमसीएच की दूरी अधिक होने के कारण मरीजों को परेशान होकर भटकना पड़ता है। मरीजों को सुलभ चिकित्सा सुविधा का लाभ मिलें इसके लिए सआदत अस्पताल में एक अतिरिक्त सोनोग्राफी मशीन मय रेडियोलोजिस्ट के उपलब्ध करवाई जाए। विधायक मेहता ने मांग कि की राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत संविदा आयुष चिकित्सकों को मानदेय वर्ष 2010 से प्रतिमाह 16,800 रुपए मिल रहा है जो पूरे देश में सबसे कम है।

भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना में 30 हजार से 3 लाख तक का इलाज मुफ्त किया जाता है। इस योजना में भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना में निजी अस्पताल जांच के नाम पर जो पैसा मरीजों से वसूलते हैं वो गलत है। इसकी बारीकी से जांच करवाई जाए। जिस प्रकार सेवा भारती जांच एवं परामर्श केन्द्र सहकार मार्ग, जयपुर द्वारा मरीजों की रियायती दर पर जांच की जाती है उसी प्रकार निजी अस्पतालों में भी रियायती दर पर जांच एंव परामर्श की जाए।