फैमिली कोर्ट की समझाइश के बाद छह साल से अलग रह रहे दंपती फिर एक हुए

Tonk News - राष्ट्रीय लोक अदालत में शनिवार को पारिवारिक न्यायालय की समझाइश के बाद छह साल से अलग रह रहे दंपति एक हो गए। जिला...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 11:20 AM IST
Tonk News - rajasthan news after separation from family court couples living separately for six years
राष्ट्रीय लोक अदालत में शनिवार को पारिवारिक न्यायालय की समझाइश के बाद छह साल से अलग रह रहे दंपति एक हो गए। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सचिव पंकज बंसल ने बताया कि जिला एवं सेशन न्यायाधीश व जिला विधिक सेवा प्राधिकरण अध्यक्ष रवि कुमार गुप्ता के मार्गदर्शन में लोक अदालत आयोजित कर लंबित व विवाद पूर्व श्रेणी के मुकदमों के निस्तारण किया गया। इसके तहत जिला मुख्यालय स्थित पारिवारिक न्यायालय में दाम्पत्य जीवन की पुनः स्थापना के लिए पति प्रेमचंद ने 2018 में प्रार्थना पत्र पेश किया गया था। इस पर राष्ट्रीय लोक अदालत में सुनवाई करते हुए पारिवारिक न्यायालय लोक अदालत बैंच की अध्यक्ष राज व्यास की मौजूदगी में पति प्रेमचंद व प|ी बादाम के बीच में समझाइश कर राजीनामे के प्रयास किया गया।

दोनों पिछले आपसी विवाद के कारण 6 साल से एक दूसरे से अलग रह रहे थे और विवाद के कारण दो बच्चे माता के पास रह रहे थे। बैंच की समझाइश के बाद दोनों ने साथ रहना स्वीकार किया। इसी प्रकार पारिवारिक न्यायालय में ही एक अन्य प्रकरण में पति घनश्याम की ओर से विवाह विच्छेद के आवेदन सुनवाई में पति-प|ी में समझाइश की गई, इसपर दोनों साथ रहने को राजी हुए बैंच की अध्यक्ष राज व्यास से आशीर्वाद लेकर घर लौटे। इस दौरान लोक अदालत बैंच की सदस्या शालू सैन भी उपस्थित रही। पारिवारिक कोर्ट की ओर से कुल 27 प्रकरणों का निस्तारण किया गया।

टोंक | राष्ट्रीय लोक अदालत में प्रकरणों के लिए निस्तारण के लिए आए लोग।

कोर्ट परिसर में पर्यावरण संरक्षण का दिया संदेश

राष्ट्रीय लोक अदालत का शुभारंभ जिला न्यायालय परिसर में जिला एवं सेशन न्यायाधीश रवि कुमार गुप्ता ने पौधारोपण कर किया। जिला एवं सेशन न्यायाधीश महोदय रवि कुमार गुप्ता के अलावा पारिवारिक न्यायालय न्यायाधीश राज व्यास, एमएसीटी न्यायाधीश माधवी दिनकर, एससी-एसटी कोर्ट न्यायाधीश भंवर भदाला, अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश पंकज बंसल व ललिता शर्मा, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट पल्लवी शर्मा, अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सावित्री सिंह, सिविल न्यायाधीश व न्यायिक मजिस्ट्रेट ऋतु चंदानी ने भी पौधे लगाकर पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया।

18 बेंचों के माध्यम से 2557 में से 548 प्रकरणों का निस्तारण

जिला विधिक प्राधिकरण सचिव पंकज बंसल ने बताया कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की ओर से जिले के सभी न्यायिक न्यायालयों में लंबित श्रेणी के 2557 प्रकरण रखे गए। इसके लिए गठित 18 लोक अदालत बेंचों के माध्यम से 548 प्रकरणों का निस्तारण किया गया एवं 1 एक करोड़ 97 लाख 86 हजार 211 रुपए का अवार्ड पास किया गया। वही प्री-लिटिगेशन श्रेणी के 3530 प्रकरण रखे गए जिनमें से 85 प्रकरणों का निस्तारण किया गया एवं 57 लाख 60 हजार 186 रुपए का अवार्ड पास किया गया। उन्होंने बताया कि लोक अदालत में दौरान वैवाहिक पारिवारिक विवाद, मोटर दुर्घटना क्लेम प्रकरण, सभी दीवानी प्रकरण, सभी राजीनामा योग्य फौजदारी प्रकरणों का एवं प्री-लिटिगेशन प्रकरणों का राजीनामे के माध्यम से निस्तारण किया गया।

X
Tonk News - rajasthan news after separation from family court couples living separately for six years
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना