दूनी तालाब पर तीन साल बाद चादर, चंदवाड़ तालाब टूटने के कगार पर

Tonk News - सीजन की सबसे मूसलाधार बारिश शुक्रवार को हुई। जिसके तेज बरसात के चलते तहसील क्षेत्र के बांध, तालाब, एनिकट लबालब...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 08:21 AM IST
Duni News - rajasthan news after three years sheet at dooni pond chandwad pond on the verge of breakdown
सीजन की सबसे मूसलाधार बारिश शुक्रवार को हुई। जिसके तेज बरसात के चलते तहसील क्षेत्र के बांध, तालाब, एनिकट लबालब होकर ओवरफ्लो हो गए। दूनी तालाब की चादर भी 3 साल बाद चल पडी। चादर चलने के साथ ही लोगों की भीड़ उमड़ पडी। दूनी तालाब के बीच स्थित दूणजा माता मंदिर में पानी घुस गया। चंदवाड़ का तालाब टूटने के कागार पर, चारनेट में स्कूली बच्चों को ट्रैक्टरों से घर पहुंचाया।

गुरुवार की रात व शुक्रवार को झमाझम व मुसलाधार बारिश का दौर चलता रहा। जिसके चलते लोगों को काफी परेशानी उठानी पडी। शुक्रवार को दिनभर बारिश का दौर चलता रहा। जिसके चलते तालाबों में पानी की आवक हो गई।

तहसील क्षेत्र के कई स्कूलों, सरकारी इमारतों में पानी घुस गया। चंदवाड़ के तालाब को टूटता-टूटता बचा। समय पर पता चल जाने स ग्राम पंचायत व घाड़ पुलिस ने जेसीबी की मदद से तालाब की उगाल को काटकर पानी की निकासी कराई गई। तालाब के टूटने की आशंका के चलते विद्यालय के बच्चों को ट्रैक्टरों से अपने घरों तक पहुंचाया गया। चारनेट गांव के लोगों का कहना है कि 50 साल बाद पहली बार ऐसी बारिश हुई है। पहाड़ी के नीचे बसे चारनेट के घरों से होकर पानी का दौर चलता रहा।

लगातार हो रही बरसात से दूनी-घाड मार्ग स्थित नाले में पानी की भारी आवक के से कई घंटों तक मार्ग जाम रहा। लोग सडक के दोनों तरफ नाले के पानी का बहाव कम होने का इंतजार करना पड़ा। संथली-राहमहल मार्ग पर नाले में आए तेज उफान के कारण यात्रियों को देवली होकर जाना पड़ा। चांदसिहपुरा गांव में नाले में अवरोध हो जाने के कारण बैरवा बस्ती में पानी घुस गया। मौके पर पहुंचे गिरदावर रामदेव धाकड ने पहुंचकर नाले को जेसीबी की मदद से साफ करवाया।

बारिश से चारों ओर से आवागमन का संपर्क टूटा

नगरफोर्ट | कस्बे सहित क्षेत्र में शुक्रवार सुबह से ही तेज मूसलाधार बारिश होने से दोपहर तक कस्बे के चारों तरफ पानी लबालब होने के कारण बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं। कस्बे के चारों तरफ का आवागमन बंद हो गया है। रामस्वरूप सैनी का मकान बारिश के कारण गिर गया।

बारिश के कारण नगर फोर्ट बड़े तालाब की फिर से करीब 3 फीट चादर चलने के कारण नगरफोर्ट-नैनवां स्टेट हाईवे 34 अवरुद्ध हो जाने के कारण राहगीरों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। का बड़ा तालाब व चांद तालाब सहित धार्मिक आस्था का प्रतीक लघु पुष्कर मांडकला सरोवर भी लबालब हो गए। शुक्रवार को कस्बे की हालात यह थी कि तेज बारिश के कारण कई मकानों में पानी भर गया। लगातार हो रही तेज बारिश के कारण किसानों की फसलें चौपट होती नजर आ रही है। किसानों की पकी पकाई ज्वार, उड़द, मूंग, सोयाबीन की फसलों में पानी भरने के कारण फसलें नष्ट होने के कगार पर पहुंच गई है। किसानों ने शीघ्र मुआवजा दिलवाने की मांग की है।

मोर | गुरुवार की देर रात गर्जन व तेज हवाओं के साथ मूसलाधार बरसात ने जन जीवन प्रभावित हो गया। तेज मूसलाधार बरसात से लोगों को संभलने का समय ही नहीं िदया। बरसात ने मवेशियों के सामने संकट खड़ा कर दिया। मवेशियों के बाड़ों में पानी भरने से खड़े रहने की समस्या बन गई। क्षेत्र के सभी जलाशयों में पानी की आवक लगातार बनी हुई है। अधिकांश तालाब, एनिकट लबालब भर चुके है। पंवािलया, घारेड़ा, भांवता, लक्ष्मीपुरा, कूकड़, श्रीनगर, रतवाई, मांदोलाई आदि गांवों में भी जमकर बरसात हुई है।

उनियारा में फसल गली

उनियारा | कस्बे सहित क्षेत्र में इस बार मानसून अधिक होने से हजारों बीघा फसल गल गई। बरसात अधिक होने से पहले ही फसल पहले से ही पानी में डूबी रहती थी। शुक्रवार को बोसरिया, रानीपुरा, नगरफोर्ट सहित कई जगह कई घंटे तक मूसलाधार बरसात होने से फसल दो से चार फीट फसल पानी में डूब गई। चारों ओर पानी ही पानी हो गया। किसानों ने बताया कि देवपुराकला पंचायत में भारी बरसात से इस करीब साढ़े तीन सौ बीघा उड़द की फसल गल चुकी है।

बरसात से गिरा मकान, दबने से महिला घायल

पचेवर | बरसात के कारण राजपुराबास मार्ग स्थित एक कच्चा मकान गिर जाने से उसकी मिट्टी में महिला दब गई। हादसा शुक्रवार सुबह करीब 6 बजे हुआ। परिजन महिला को परिजनों ने अस्पताल में भर्ती कराया। हादसे के समय परिवार के अन्य सदस्य दूसरे स्थान पर होने की वजह से बड़ा हादसा टल गया। सरपंच व पटवारी ने मौका मुआयना कर रिपोर्ट तैयार करवाई। घर के मालिक रामकिशन माली ने बताया कि पूरा परिवार रात के समय मकान के इसी हिस्से में सो रहा था। सुबह करीब 6 बजे बेटी पूजा चाय बना रही थी। वह कप लेने के लिए बाहर आ गई। इस दौरान प|ी सीतादेवी भगोनी लेने कमरे में चली गई। अचानक पूरा कमरा भरभराकर गिरने लगा। सीतादेवी सम्भल पाती इससे पूर्व ही कच्चे मकान की मिट्टी उसके ऊपर आ गिरी। जिससे उसके दायें हाथ, कमर व सिर में हल्की चोटें आई।

दूनी | दूनी तालाब की तीन साल बाद चादर चलने पर लोग तालाब पहुंचकर नहाने का आनंद उठा रहे हैं।

नगरफोर्ट। बरसात से रामस्वरूप का कच्चा मकान ढह गया।

Duni News - rajasthan news after three years sheet at dooni pond chandwad pond on the verge of breakdown
X
Duni News - rajasthan news after three years sheet at dooni pond chandwad pond on the verge of breakdown
Duni News - rajasthan news after three years sheet at dooni pond chandwad pond on the verge of breakdown
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना