वैद्य लिख रहे अंग्रेजी व बाहर की दवाइयां, पर्चियां पकड़ीं, आयुष डॉक्टर को किया एपीओ

Tonk News - मालपुरा | कस्बे के रेफरल अस्पताल में अव्यवस्थाओं की शिकायतों के चलते गुरुवार को सहायक निदेशक चिकित्सा विभाग...

Bhaskar News Network

Apr 12, 2019, 09:45 AM IST
Malpura News - rajasthan news vaidya is writing english and outside medicines parchins caught ayush doctor did the apo
मालपुरा | कस्बे के रेफरल अस्पताल में अव्यवस्थाओं की शिकायतों के चलते गुरुवार को सहायक निदेशक चिकित्सा विभाग जयपुर व सीएमएचओ टोंक ने अस्पताल का औचक निरिक्षण किया। अधिकारियों ने अस्पताल में प्रवेश करने के साथ ही मरीजों की पर्चियां जांचना शुरू किया। वार्ड में भर्ती रोगियों की दवा पर्चियों की जांच की। इसमें आयुष डॉक्टर की ओर से एलोपेथी व बाहर की दवाइयां लिखी थी।

सीएमएचओ टोंक डॉ. एस के भंडारी ने बताया कि मालपुरा में कार्यरत आयुष चिकित्सक अटल बिहारी को तत्काल प्रभाव से एपीओ किया गया है। सहायक निदेशक डॉ. एस के जैन व सीएमएचओ टोंक ने मालपुरा अस्पताल के भर्ती वार्ड सहित लेबर रूम व दवा वितरण केंद्र सहित प्रयोगशाला जांच केंद्र को जांचा।

रेफरल अस्पताल में आयुष डॉक्टर द्वारा लिखी गई पर्चियाें की जांच के दौरान जमा हुई मरीजों की भीड़

सीएमएचओ डॉ. एस के भंडारी ने बताया-अस्पताल के भर्ती वार्ड में बेड पर सात दिनों में सात रंग की चादर बदलने का नियम बना हुआ है लेकिन मालपुरा के डॉक्टरों ने कहा कि यहां तो दो रंग की चादरें ही प्राप्त हुई है। सीएमएचओ ने सात रंग की चादर जल्दी ही भेजने का आश्वासन दिया।

बाहर से जांच करवाने के मामलों की जांच होगी

सीएमएचओ ने बताया कि आउट डोर में बाजार की दवा लिखने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी यह मनमानी बर्दाश्त नहीं होगी। उन्होंने बताया कि डॉक्टर बाहर की दवाएं नहीं लिखें। डॉक्टरो द्वारा लिखी बाजार की दवा व लेब जांच पर्चियां जब्त कर जांच कार्रवाई शुरू की करने की जानकारी दी है।

यूनानी व आयुष डॉक्टर नहीं लिख सकते एलोपेथी दवाइयां

अस्पताल की जांच के दौरान सीएमएचओ ने बताया कि आयुष व यूनानी चिकित्सक एलोपेथी दवाएं लिखने के लिए एलाऊ नहीं है। वे अपनी पेथी की दवाएं अपने विभाग से मंगाए या एमआरएस से स्थानीय प्रभारी के सहयोग से प्राप्त कर अपनी पेथी की दवाएं ही लिख सकते है। आयुष व यूनानी चिकित्सकों द्वारा एलोपेथी दवा लिखना एक अतिक्रमण समान है।

निशुल्क दवा होने पर बाहर की दवा लिखना धोखा

सीएमएचओ ने कहा-अस्पताल में सरकार की ओर से तमाम दवाइंया निशुल्क योजना की मौज्ूद होने के बावजूद बाजार की दवाएं व जांच कराना रोगी व सरकार के साथ धोखा है ऐसे कार्मिकों के मामले में सख्ती बरती जाएगी। उन्होंने बताया कि लगातार जांच कार्रवाई से मालपुरा अस्पताल में समय पर कार्मिक ड्यूटी पर आने लगे है तथा ड्रेस कोड में रहते है।

X
Malpura News - rajasthan news vaidya is writing english and outside medicines parchins caught ayush doctor did the apo
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना