• Home
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • Udaipur - पुलिस बैंड के दो पदों पर मिले 221 आवेदन, 70 ने दौड़ में लिया हिस्सा
--Advertisement--

पुलिस बैंड के दो पदों पर मिले 221 आवेदन, 70 ने दौड़ में लिया हिस्सा

उदयपुर. गांधी ग्राउंड में कांस्टेबल भर्ती के लिए दौड़ लगाते अभ्यर्थी। सिटी रिपोर्टर | उदयपुर पुलिस कांस्टेबल...

Danik Bhaskar | Sep 08, 2018, 07:35 AM IST
उदयपुर. गांधी ग्राउंड में कांस्टेबल भर्ती के लिए दौड़ लगाते अभ्यर्थी।

सिटी रिपोर्टर | उदयपुर

पुलिस कांस्टेबल भर्ती के तहत शुक्रवार को गांधी ग्राउंड में उदयपुर जिले के टीएसपी और नॉन टीएसपी अभ्यर्थी और राजसमंद के कुछ अभ्यर्थियों की शारीरिक मापतौल और क्षमता परीक्षण परीक्षा हुई। इनके साथ ही पुलिस बैंड के दो पदों के लिए भी दौड़ हुई, इसमें हिस्सा लेने के लिए विभाग को 221 अभ्यर्थियों के आवेदन प्राप्त हुए थे, हालांकि दौड़ में हिस्सा लेने 70 से 80 अभ्यर्थी ही पहुंचे।

सुबह से दोपहर के बीच तीन चरणों में अभ्यर्थियों की दौड़ कराई गई। इसमें 600 से अधिक अभ्यर्थी शामिल हुए। मौसम अच्छा होने और मामूली बूंदा-बांदी से अभ्यर्थियों को दौड़ में मदद मिले और तबियत खराब होने के मामले कम हुए। हालांकि इसके बावजूद 25 मिनट में 5 किमी दौड़ करीब आधे अभ्यर्थी ही पूरी कर सके। परीक्षा स्थल पर आईजी विशाल बंसल, एसपी कुंवर राष्ट्रदीप, डूंगरपुर एसपी शंकरदत्त शर्मा, राजसमंद एसपी सहित अन्य अधिकारियों के नेतृत्व में पूरी परीक्षा हुई। दौड़ के दौरान अधिकारी भी अभ्यर्थियों पर पूरी नजर रखे रहे। आईजी विशाल बंसल ने बताया कि भर्ती होने वाले अभ्यर्थियों का परिणाम पुलिस मुख्यालय से जारी होगा। उदयपुर में संभाग के सभी जिलों के अभ्यर्थियों की परीक्षा करवाई जा रही है और परीक्षा में पास होने वाले अभ्यर्थियों की सूची मुख्यालय भेज रहे हैं। 8 सितंबर को राजसमंद जिले के अभ्यर्थियों की परीक्षा होगी और इसी के साथ संभाग के सभी जिलों के अभ्यर्थियों की शारीरिक मापतौल और क्षमता परीक्षा पूरी हो जाएगी।

नंगे पैर दौड़े अभ्यर्थी तो फूटे छाले

दौड़ में शामिल होने आए कुछ अभ्यर्थियों ने दौड़ की प्रेक्टिस गत सप्ताह परीक्षा परिणाम जारी होने के बाद शुरू की। आदिवासी क्षेत्र होने से अभ्यर्थियों ने प्रेक्टिस बगैर जूते-चप्पल पहन कर की, तो उनके पैरों में छाले पड़े हुए थे। ऐसे अभ्यर्थियों ने जब गांधी ग्राउंड में नंगे पांव दौड़ शुरू की तो कुछ ही देर में उनके पैर के छाले फूट गए, हालां कि इसके बावजूद कुछ ने दौड़ पूरी की।