--Advertisement--

कचरे से बनाया इतना सुंदर आर्ट, हर कोई देख कह उठता है वाह !

लेकसिटी की प्रतिभाओं के अनूठे अिभयान : आर्टिस्ट चिमन और ब्राइडी कई देशों में लगा चुके प्रदर्शनियां, जीते पुरस्कार

Danik Bhaskar | Jan 10, 2018, 04:16 AM IST

उदयपुर. शहर को स्वच्छ रखने और पर्यावरण बचाने के लिए लेकसिटी की कई प्रतिभाएं अनूठे तरीके से देश-विदेश में अभियान चलाकर लोगों को जागरूक कर रही हैं। शहर के आर्टिस्ट चिमन डांगी कचरों का कलेक्शन कर व उससे सुंदर कलाकृतियां बनाकर स्वच्छता का संदेश देते हैं वहीं शरद भारद्धाज ब्लू थीम पर ही संदेशात्मक पेंटिंग बनाकर पानी बचाने और सफाई का संदेश दे रहे हैं। चिमन फिलहाल न्यूजीलैंड में प्रदर्शनियों में कैंप लगाकर जागरूक कर रहे हैं जहां उनका साथ न्यूजीलैंड की आर्टिस्ट ब्राईडी भी देती हैं। चिमन ने उदयपुर के ब्रह्मपोल पर भी कलरफुल वेस्ट मेटेरियल के कपड़े पहनकर आसपास क्षेत्र की सफाई की थी और लोगों को जागरूक किया।

फ्रांस में खेजड़ली फॉर द ट्री थीम पर लगाई प्रदर्शनी, जीता 7 लाख का इनाम

- फ्रांस में चिमन ने खेजड़ली आंदोलन को लेकर खेजड़ली फॉर द ट्री थीम पर प्रर्दशनी लगाई, जो पिछले महीने ही खत्म हुई। यह प्रदर्शनी फ्रांस के एक जंगल में गुफा में लगाई गई थी। इसके लिए डांगी को सात लाख रुपए का इनाम भी मिला। इस प्रदर्शनी के लिए दुनियाभर से पांच हजार एंट्री आई, जिसमें से राजस्थान को दर्शाती प्रर्दशनी आकर्षक रही।

- चिमन बताते हैं कि दो साल पहले मुंबई के मातेरन में एक फेस्टिवल से इस अभियान की शुरुआत की गई थी। अब तक देश के कई शहरों के अलावा वे विदेशों में जर्मनी, फ्रांस, न्यूजीलैंड, रशिया, जॉर्जिया, उज्बेकिस्तान में 15 प्रदर्शनियां लगा चुके हैं। इन प्रदर्शनियों में लोगों को पेड़, जंगल, आसपास का पर्यावरण बचाने का लोगों को प्रेरक संदेश दे चुके हैं।

कूड़े से डस्टबिन को बना देते हैं आकर्षक, फिर कूड़ा भी ढंग से फेंकते हैं लोग

हाल ही में वहां वेस्ट मटेरियल से कलाकृतियां बनाकर उनका प्रदर्शन किया। दोनों ने वहां पड़े कचरे को एकत्र कर उससे सुंदर सा घोड़ा बनाया और उसे कचरे के ढेर के ऊपर रख दिया। इससे जहां डस्टबिन की खूबसूरती बढ़ गई वहीं डिब्बे में लोग सावधानी से कूड़ा रखने लगे। कलाकृतियों को देखकर लोग कचरे को फेंकने की तहजीब सीख रहे हैं। चिमन के अभियान से लोग जुड़कर सफाई का संकल्प ले रहे हैं।

ऐसी कलाकारी करें जो लोगों को प्रेरित करे : चिमन

चिमन का कहना है कि पेंटिग करना या मूर्ति कला मेरे लिए आर्ट नहीं है। आर्ट के लिए जरूरी नहीं कि कलर ही उपयोग में लिया जाए। बिना कलर के भी लोगों को सामाजिक कामों की प्रेरणा का संदेश दे सकते हैं।