--Advertisement--

बाइक चोरी का होता था कॉम्पिटीशन, ज्यादा चुराने वाला बनता था मुखिया

मुखिया के कहने पर चोरी की प्लानिंग बनती थी, गांवों में था खौफ, कोई नहीं करता था शिकायत।

Danik Bhaskar | Dec 20, 2017, 05:45 AM IST
उदयपुर. चोरी की गई बरामद बाइक। उदयपुर. चोरी की गई बरामद बाइक।

उदयपुर. हिरणमगरी थाना पुलिस ने वाहन चोर गिरोह का बड़ा खुलासा करते हुए गिरोह के प्रतापगढ़ जिले के पारसोला निवासी उंकार उर्फ अनिल पुत्र धूलिया मीणा और दिनेश उर्फ देवा पुत्र इन्द्रलाल मीणा को गिरफ्तार कर 80 बाइक बरामद की हैं। इनमें उदयपुर के साथ डूंगरपुर, बांसवाड़ा, चितौड़ जिले से चुराई गई कई गाड़िया भी शामिल हैं। हिरण मगरी थाना पुलिस की एक माह में यह दूसरी बड़ी कार्रवाई है।

इससे पहले 4 दिसंबर को भी 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया था जिनसे 26 बाइक बरामद की थी। दोनों मामलों में एक ही गिरोह के बदमाश शामिल हैं। कुल मिलाकर इस माह पुलिस 4 आरोपियों को गिरफ्तार करने के साथ 106 बाइक बरामद कर चुकी है।

- थानाधिकारी संजीव स्वामी ने बताया कि चुराई गई बाइक को बेचने के बाद पैसे मिलने पर सभी आरोपी मिलकर गांव या जंगलों में पार्टी करते थे फिर अगली चोरी की रणनीति बनाते थे। जो भी ज्यादा बाइक चोरी कर लाता था उसे मुखिया का दर्जा मिलता था। फिर मुखिया के कहने पर ही चोरी की वारदात की प्लानिंग की जाती थी।

- गिरफ्तार दोनों आरोपियों ने गांव में अपना खौफ बना रखा है। इनके खिलाफ कोई भी शिकायत नहीं करता है। प्रतापगढ़ में दोनों के खिलाफ पहले से ही कई मुकदमे दर्ज हैं।

- मंगलवार को दो आरोपियों को कोर्ट में पेश किया जहां से पीसी रिमांड पर लाया गया। पुलिस गिरोह के अन्य साथियों और बाइक के बारे में पूछताछ करेगी।

80 हजार तक की बाइक भी 2-3 हजार में बेच देते थे

- 4 दिसंबर को भी पारसोला निवासी पांसू राम उर्फ पासिया उर्फ पांचू उर्फ वासुराम पुत्र इन्द्र मल मीणा और प्रतापगढ़ के आमली फला नाड लोदिया निवासी अमरलाल उर्फ भमरिया उर्फ भंवरिया पुत्र रामा उर्फ राया मीणा को गिरफ्तार किया था, जिनसे 26 बाइक बरामद की थी।

- पुलिस ने बताया कि आरोपी गांवों में 80 हजार की बाइक को 2-3 हजार रुपए में ही बेच देते थे।

मजदूरी करने शहर आते, फिर वारदात कर कच्चे रास्तों से लौट जाते थे
- पुलिस ने बताया कि दोनों आरोपी मजदूरी करने उदयपुर आते थे और शहर सहित आस-पास के क्षेत्रों से बाइक चुराकर ले जाते थे। चोरी के बाद वे बाइक मेन रोड से न ले जाकर गांव आैर कच्चे रास्तों से होकर ले जाते थे। फिर बाड़े या खेतों में बाइक छुपाकर रख देते थे। मौका मिलते ही बाइक के कीमती पार्ट्स निकालकर बाइक बेच देते थे।

- पुलिस ने बताया कि दोनों आरोपी 18 दिसंबर को शहर में चोरी की वारदात करने आए थे। मुखबीर की सूचना पर दोनों को दबोचा और बाइक बरामद की।

उदयपुर. बाइक चोरी के आरोपी। उदयपुर. बाइक चोरी के आरोपी।