--Advertisement--

चौथे साल भी चैत्र नवरात्रि 8 दिन की, सर्वार्थ सिद्धि योग में शुरुआत

नव संवत्सर 2075 की शुरुआत 18 मार्च को, वृषभ लग्न में घट स्थापना होगी

Danik Bhaskar | Mar 05, 2018, 06:58 AM IST

उदयपुर. चैत्र प्रतिपदा पर 18 मार्च को विक्रम संवत 2075 और चैत्र नवरात्रि की शुरुआत होगी। खास बात यह है कि लगातार चौथे वर्ष चैत्र नवरात्रि 8 दिन की होगी, क्योंकि अष्टमी-नवमी तिथि एक साथ है। नवरात्रि की शुरुआत प्रतिपदा को सर्वार्थ सिद्धि योग में होगी। शहर के प्रसिद्ध शक्ति पीठ नीमज माता, अंबा माता, आवरी माता, बेदला माता, कालका माता, करणी माता मंदिर सहित अन्य मंदिरों में घट स्थापना के साथ विशेष पूजा-अर्चना होगी।

- ज्योतिषविद् डॉ. अलकनंदा शर्मा, प्रो. नीरज शर्मा व अन्य के मुताबिक घट स्थापना का श्रेष्ठ मुहूर्त सुबह 9.44 से 11.40 बजे तक चर, लाभ और अमृत के चौघड़िया और वृषभ लग्न में है। हालांकि प्रतिपदा एक दिन पहले 17 को शाम 7.45 बजे ही शुरू हो जाएगी।

- ‘विरोधकृत’ संवत्सर के शुरू होते ही नया आकाशीय मंत्रिमंडल भी सक्रिय हो जाएगा। राजा सूर्य और मंत्री पद शनि देव संभालेंगे। वित्त मंत्रालय और हरियाली का दायित्व चंद्रमा के पास रहेगा। लेकसिटी के पर्यटन को चंद्रमा के वित्तमंत्री और शुक्र के दुर्गेश होने से विशेष लाभ की संभावना है।

- बता दें कि इससे पहले वर्ष 2015 में 21 से 28 मार्च तक, 2016 में 8 से 15 मार्च तक और 2017 में 29 मार्च से 5 अप्रैल तक और इससे पहले पूरे नौ दिन के 2014 में 31 मार्च से 8 अप्रैल तक के थे। नवरात्र की शुरूआत और समापन दोनों ही रविवार के दिन होंगे।


इसलिए अहम माना जाता है विक्रम संवत्सर

हिन्दू पर्व/त्योहार, विवाह संस्कार, मुंडन, अनुष्ठान, गृह निर्माण आदि कार्य नव संवत्सर की तिथियों के अनुसार ही मनाए/किए जाते हैं। चैत्र प्रतिपदा 18 मार्च से नए संवत की शुरूआत होगी।

जानिए, आपकी राशि के लिए क्या हैं नए वर्ष के संकेत

मेष : कार्य में सफलता के संयोग।
वृषभ : उन्नति की राह आसान।
मिथुन : स्वास्थ्य पर ध्यान देना होगा।
कर्क : व्यवसाय में समझदारी से निवेश करें।
सिंह : शुभ कार्यों के अवसर मिलेंगे।
कन्या : जॉब में प्रगति की उम्मीद।
तुला : कार्य में रुकावट आ सकती है।
वृश्चिक : यात्रा-व्यापार में उन्नति के पूरे आसार।
धनु : शिक्षा में व्यवधान हो सकता है।
मकर : यात्रा के प्रबल योग रहेंगे।
कुंभ : शत्रु पर विजय।
मीन : भवन आदि नए निर्माण की उम्मीद।