--Advertisement--

देश के 200 सरकारी स्कूल बनेंगे ‘ब्रांड’, राजस्थान से होगा 10 का सिलेक्शन

एसआईईआरटी उदयपुर ने राज्य के सभी जिलों से 6 बिंदुओं के आधार पर मांगे टॉप स्कूलों के नाम

Danik Bhaskar | Jan 28, 2018, 05:33 AM IST

उदयपुर. राज्य सरकार प्रदेश में टॉप-10 सरकारी स्कूलों का चयन कर रही है जिन्हें “ब्रांड’ स्कूल कहा जाएगा। ये स्कूल राज्य में सरकारी स्कूलों की ब्रांडिंग करेंगे। प्रत्येक जिले में माध्यमिक और प्रारंभिक शिक्षा विभाग के एक-एक स्कूल चुने जाएंगे। इसके लिए राज्य शैक्षिक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान (एसआईईआरटी) उदयपुर ने प्रत्येक जिले के माध्यमिक और प्रारंभिक शिक्षा अधिकारियों से एक सीनियर सैकंडरी और एक मिडिल स्कूल के नाम मांगे हैं। ये नाम निर्धारित 6 बिन्दुओं के आधार पर भेजने होंगे।

- दरअसल, केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्रालय के केन्द्रीय शिक्षा सलाहकार मंडल ने एनसीईआरटी को ऐसा सुझाव दिया था जिसमें देशभर में करीब 200 सरकारी ब्रांड स्कूल चुने जाने की सिफारिश की गई है। - प्रत्येक राज्य से करीब 10-10 स्कूल चुने जाएंगे। एनसीईआरटी को प्रत्येक जिले से करीब 66 स्कूलों के नाम भेजे जाएंगे, जिनमें से टॉप-10 ब्रांड स्कूल चुने जाएंगे।

इन 6 बिंदुओं पर चुने जाएंगे ‘ब्रांड’ स्कूल

- सबसे ज्यादा नामांकन वाला सरकारी स्कूल हो।
- 10 साल या इससे अधिक समय से पहले संचालित हो।
- स्कूल को सरकारी या निजी संस्थाओं की तरफ से राज्य या राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कार प्राप्त हो।
- बेहतर परीक्षा परिणाम के साथ विद्यार्थियों खेलकूद सहित अन्य गतिविधियों में राज्य-राष्ट्रीय स्तर पर प्रदर्शन हो।
- विद्यालय ने खेल, कला या अन्य गतिविधि में राज्य, राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिनिधित्व किया हो।
- विद्यालय ने बेहतर शिक्षण विधि से विद्यार्थियों में कौशल और गुणात्मक विकास किया हो।

इन स्कूलों को राष्ट्रीय कार्यक्रमों में बुलाया जाएगा, अलग से बजट भी मिल सकता है

- एसआईईआरटी में रिसर्च प्रभारी डॉ. अमृता दाधीच ने बताया कि जो स्कूल ब्रांड के रूप में चयनित होंगे, उन्हें केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्रालय समय-समय शिक्षा आधारित राष्ट्रीय स्तरीय कार्यक्रमों और कार्यशालाओं में बुलाएगा। ये ब्रांड स्कूल प्रदेश के सभी सरकारी स्कूलों को शिक्षा में नयापन के लिए प्रेरित करेंगे।

- सरकारी योजनाओं की सफल क्रियान्वित और सुविधाओं के लिए भी जाने जाएंगे। मानव संसाधन मंत्रालय चयनित होने वाले ब्रांड स्कूलों को अलग से बजट जारी करने पर भी विचार कर रहा है।