--Advertisement--

भड़के डॉक्टर: धरपकड़ के लिए पुलिस ने दी दबिश, उदयपुर और राजसमंद से 1-1 को पकड़ा

संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. बामनिया सहित दो गिरफ्तार, 439 डॉक्टर हुए भूमिगत, आज से रेजीडेंट्स भी हड़ताल पर

Danik Bhaskar | Dec 18, 2017, 04:48 AM IST
गिरफ्तारी से पूर्व डॉ. एसएल. बामनिया गिरफ्तारी से पूर्व डॉ. एसएल. बामनिया

उदयपुर. रेस्मा के बाद भी हड़ताल पर रहे सेवारत डॉक्टरों पर पुलिस की स्पेशल टीम ने रविवार रात दबिशें दी। टीम ने उदयपुर से सीए सर्कल से अखिल राजस्थान सेवारत चिकित्सक संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. एसएल बामनिया और राजसमंद से डॉक्टर सुनील सोलंकी को गिरफ्तार किया है।

थानाधिकारी रविन्द्र चारण ने बताया कि टीम ने डाॅ. बामनिया को गोवर्धनविलास थाने के हवाले किया है। आईजी आनंद श्रीवास्तव ने कहा है कि रेस्मा का उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई जारी रहेगी। इधर डॉक्टरों की गिरफ्तारी पर भड़के संभाग के 439 डॉक्टर रविवार को भी भूमिगत रहे। इससे एमबी सहित अन्य हॉस्पिटलों में व्यवस्था चरमरा गई है। हालांकि 657 डॉक्टरों ने ड्यूटी दी है।

इसका कारण बताया जा रहा है कि रविवार को सिर्फ दो घंटे ही मरीज देखने पर हाजिरी लग जाना और सोमवार से हड़ताल होना। उदयपुर के 293 डॉक्टरों ने भी ड्यूटी दी। आरएनटी की रेजीडेंट्स यूनियन के अध्यक्ष डॉ. राजवीर सिंह, महासचिव डॉ. दीपाराम पटेल ने बताया कि यूनियन के सभी 341 रेजीडेंट्स डॉक्टर सोमवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर रहेंगे।

डॉ. एसएल. बामनिया बोले-गिरफ्तारी से डरते नहीं, बस बचकर रहना होगा

गिरफ्तारी से पूर्व राजस्थान सेवारत चिकित्सक संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. एसएल बामनिया ने कहा कि जिले के 900 से ज्यादा डॉक्टर सोमवार से भूमिगत रहेंगे। सरकार कितना भी तानाशाह रवैया अपना ले, हम पीछे हटने वाले नहीं हैं। सरकार 2011 में गिरफ्तारी कर चुकी है। हमने जमानत से लौटकर भी हड़ताल की। बस इस बार थोड़ा बचकर रहना होगा। इधर, जिले में पहली गिरफ्तारी होते ही अन्य डॉक्टर भी फोन स्विच ऑफ कर घरों से इधर-उधर हो गए।

एक गिरफ्तारी के बाद कई डॉक्टर फोन बंद कर घरों से हुए इधर-उधर

दी राजस्थान मेडिकल कॉलेज टीचर्स एसोसिएशन के सचिव डॉ. राहुल जैन ने बताया कि एसोसिएशन के लगभग 150 सीनियर प्रोफेसर, प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर और असिस्टेंट प्रोफेसर्स अस्पताल में सेवाएं देंगे। एसो. के करीब 100 डॉक्टर एमबी, 30-35 जनाना, 10 बाल चिकित्सालय और शेष अन्य अस्पतालों में इलाज करेंगे।

जिले में यह रहेगी वैकल्पिक चिकित्सा व्यवस्था

सीएमएचओ डॉ. संजीव टांक ने बताया कि जिले के सभी 28 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर निजी मेडिकल कॉलेजों के एक-एक चिकित्सक लगाए जाएंगे। 74 आयुष डॉक्टरों को प्राथमिक और स्वास्थ्य केंद्रों पर तैनात किया जाएगा। जो डॉक्टर ड्यूटी नहीं देगा उसकी जानकारी जिला कलेक्टर को भी भेजी जाएगी।

संभाग के 1096 में से 439 डॉक्टरों ने ड्यूटी नहीं दी है। उदयपुर जिले के 338 में से 45 चिकित्सकों के हड़ताल पर रहने की सूचना मिली है। चिकित्सकों की यह सूची विभाग के मुख्यालय जयपुर भेज दी है।
-डॉ. आरएन बैरवा, ज्वाइंट डायरेक्टर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग उदयपुर

रिटायर्ड डॉक्टर ने कमान संभाली। रिटायर्ड डॉक्टर ने कमान संभाली।