Hindi News »Rajasthan News »Udaipur News» Father Beaten To Children In Rajasamand

पिटते बच्चों को मां भी नहीं बचाती थी, दोनों मासूम बोले- पापा म्हाणे रोज कूटे...

Bhaskar News | Last Modified - Feb 03, 2018, 01:19 AM IST

बच्चों ने टीम से कहा, पापा म्हाणे रोज रोज कूटे (मारते ) हैं...
    • इस पिता ने तो निर्दयता की हदें ही तोड़ दी, कोई अपने बच्चों को ऐसी बेरहमी से पीटता है क्या?

      राजसमंद/उदयपुर. सोशल मीडिया पर बच्चों के साथ मारपीट की घटना देखने के बाद बाल कल्याण समिति ने घटना स्थल फुकियाथड़ (जिला राजसमंद,त. देवगढ़) जाकर जायजा लिया। पीड़ित बच्चों से पूछताछ में पता चला कि-बच्चों के पिता चैन सिंह रावत अक्सर उनके साथ बेरहमी से मारपीट करता है। 5 साल के ललित सिंह रावत और साढ़े तीन साल की बेटी लाजवंति उर्फ पूजा ने बताया कि 28 जनवरी (रविवार) को दोपहर एक बजे उनके पिता चैन सिंह ने बेटे ललित सिंह को रस्सी से बांधकर लटकाया और बेरहमी से पिटाई की। इसी तरह बेटी पूजा को भी बेंत से पीटा। इस दौरान उनकी मां भी उन्हें नहीं बचाती थी। यह जानकारी भी समिति को वीडियो देखकर मिली।

      - जब चैन सिंह की पत्नी डोली से पूछा तो उसने भी यह बात कबूल की कि उसने बच्चों को कभी नहीं छुड़ाया। बच्चों की पिटाई का वीडियो चैन सिंह के छोटे भाई बन्ना सिंह ने बनाया।

      -यह रिपोर्ट बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष भावना पालीवाल, सदस्य राजेश देव, गजेंद्र सिंह चुंडावत ने थाने पर उपस्थित होकर दी।

      - आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस ने अभियुक्त पिता के खिलाफ धारा 323, 342, 308, 34 व जेजे एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है। (बाल कल्याण समिति अध्यक्ष भावना पालीवाल ने चैन सिंह पुत्र मोती रावत और वन्ना सिंह के खिलाफ मामला दर्ज करवाया)

      #वार्डपंच रह चुका है आरोपी, शराब ठेके पर सेल्समैन

      - आरोपी चैनसिंह 2008 से 2012 तक विजयपुरा ग्राम पंचायत का वार्ड पंच रह चुका है। अभी वह फुकिया का थड़ गांव में शराब की दुकान का सेल्समैन है।

      #वीडियो बनाता रहा चाचा
      चेन सिंह का भाई वन्नासिंह गाड़ी चलाता है। मारपीट का वीडियो उसी ने बनाया।

      बाल कल्याण समिति के सामने मां डाली ने कबूल किया- उसने बच्चों को कभी नहीं बचाया...

      मां बोली, उन्हें पकड़ा तो आत्महत्या कर लूंगी
      - पुलिस घटना की जानकारी मिलने पर आरोपी के घर पहुंची तो डालीदेवी ने पुलिसकर्मियों को वहां से चले जाने को कहा। पति चैनसिंह को पकड़ने पर उसने आत्महत्या करने की धमकी तक दी।

      - पुलिस पति, पत्नी और बच्चों को थाने लाई तो वे किसी की तरफ से रिपोर्ट नहीं आई। बच्चों की मां का रुख देखकर बाल कल्याण समिति अध्यक्ष भावना पालीवाल, सदस्य गजेंद्र सिंह लसानी, राजेश दवे ने राज्य बाल आयोग की अध्यक्ष मनन चतुर्वेदी से बात की।

      - मामले में कार्रवाई करवाने के लिए जिला बाल कल्याण समिति की तरफ से चैन सिंह पुत्र मोती रावत और उसके छोटे भाई वन्ना सिंह के खिलाफ मामला दर्ज करवाया।

      वीडियो देखकर गांव वालों ने पहचान लिया

      - वायरल वीडियो मंगलवार सुबह गांव वालों ने देखा तो इसमें चैनसिंह को बच्चों की पिटाई करते हुए देखा। गांव वालों ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।

      #शरीर पर छड़ी के निशान, मेडिकल करवाया
      - रस्सी बांधने से ललित की कमर और कंधे पर निशानों के साथ छड़ी से पीटने पर गहरे निशान हो गए। लाजवंती के शरीर पर भी निशान मिले। इनका मेडिकल करवाया है।


    • पिटते बच्चों को मां भी नहीं बचाती थी, दोनों मासूम बोले- पापा म्हाणे रोज कूटे...
      +3और स्लाइड देखें
      रस्सी से लटका कर जब पिता मासूम बच्चों को मारता था, तब मां भी उन्हें नहीं छुड़ाती

      दोनों बच्चे दादा को सौंपे

      - बाल कल्याण समिति अध्यक्ष भावना पालीवाल, सदस्य गजेंद्र सिंह, राजेश दवे मौके पर पहुंचे।

      - पालीवाल ने बताया कि बच्चों की मां का रुझान अपने पति को बचाने की तरफ ज्यादा सामने आया। ऐसे में बच्चों के उनके दादा मोती सिंह रावत को सौंप दिया है।

      - समिति अध्यक्ष, पुलिस ने उन्हें पाबंद भी किया है। चैन सिंह रावत के पांच बच्चे हैं।

    • पिटते बच्चों को मां भी नहीं बचाती थी, दोनों मासूम बोले- पापा म्हाणे रोज कूटे...
      +3और स्लाइड देखें
      आरोपी के घर पुलिस पहुंची तो उसकी पत्नी ने पुलिसवालों को वहां से चले जाने को कहा।

      राज्य बाल आयोग अध्यक्ष- बोलीं बच्चे तो फूल के समान होते हैं, इनके साथ क्रूरता बर्दाश्त नहीं
      - राज्य बाल आयोग अध्यक्ष मनन चतुर्वेदी ने इस मामले में चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि बच्चे तो फूल की तरह होते हैं। उनके साथ क्रूरता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। भविष्य में ऐसी घटनाओं की पुनरावृति नहीं हो इसके लिए अभिभावकों और बच्चों में आपसी सामंजस्य बैठाने की जरूरत है। बच्चों के साथ ऐसा करने वाले अभिभावकों के खिलाफ त्वरित कार्रवाई की जाएगी।

      - उन्होंने बताया कि घटना की जानकारी मिलते ही राजसमंद एएसपी मनीष त्रिपाठी से बात कर आरोपियों के खिलाफ जल्द कार्रवाई करने को कहा था।

      - आरोपियों को कड़ी सजा दिलवाने के लिए बाल कल्याण समिति ने रिपोर्ट दर्ज करवाई है। मारपीट के शिकार बच्चे इस घर में असुरक्षित महसूस करते हैं तो बच्चों के पुनर्वास के लिए प्रबंध करना निश्चित किया जाएगा।

    • पिटते बच्चों को मां भी नहीं बचाती थी, दोनों मासूम बोले- पापा म्हाणे रोज कूटे...
      +3और स्लाइड देखें
      आरोपी चैनसिंह 2008 से 2012 तक विजयपुरा ग्राम पंचायत का वार्ड पंच रह चुका है।

      बाल कल्याण समिति ने इसलिए दर्ज कराया केस

      - मामले में मां या परिवार के किसी व्यक्ति की तरफ से रिपोर्ट दर्ज होने पर कोर्ट में गवाह मुकर सकते थे या मामला कमजोर हो सकता था।

      - इसी कारण बाल कल्याण समिति ने अपनी तरफ से इस मामले में रिपोर्ट दर्ज करवाई।

      - बाल कल्याण समिति अध्यक्ष भावना पालीवाल ने बताया कि धारा 75 में किसी बालक के प्रति क्रूरता, दंड देने, हमला करता है। तीन साल की सजा व एक लाख रुपए जुर्माना हो सकता है।

    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Udaipur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
    Web Title: Father Beaten To Children In Rajasamand
    (News in Hindi from Dainik Bhaskar)

    Stories You May be Interested in

        रिजल्ट शेयर करें:

        More From Udaipur

          Trending

          Live Hindi News

          0
          ×