--Advertisement--

डेढ़ साल पहले बनी थी ये लेडी पेट्रोल टीम, अब इसलिए कमा रही है हर जगह नाम

सीएम ने की घोषणा : ऐसी यूनिट हर संभाग और जिला मुख्यालय पर बनेंगी

Danik Bhaskar | Mar 08, 2018, 07:52 AM IST
ट्रेनिंग से लेकर फील्ड तक आसान नहीं थी राहें...पर हार नहीं मानी ट्रेनिंग से लेकर फील्ड तक आसान नहीं थी राहें...पर हार नहीं मानी

उदयपुर. पहली बार बनी लेकसिटी की ये पुलिस लेडी पेट्रोल टीम पूरे प्रदेश के लिए मिसाल है। दरअसल महिलाआें आैर बच्चियों से जुड़े अपराधों पर काबू करने की सोच के साथ 6 अक्टूबर 2016 को शुरू किया गया यह पायलट बैच इस डेढ साल के दौरान 400 से ज्यादा कार्रवाई कर अपनी उपयोगिता साबित कर चुका है।

इसी का परिणाम है कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने मंगलवार को विधानसभा में हर संभाग और जिला मुख्यालय पर ऐसी टीम बनाने की घोषणा की है। अति आधुनिक साधन संसाधनों से लैस 22 महिलाओं की इस टीम ने बुधवार को दैनिक भास्कर कार्यालय में अपने अनुभव साझा किए। टीम ने बताया कि ट्रेनिंग से लेकर फील्ड तक उनकी राहें आसान नहीं थीं, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी।

शरीर पर गर्म तेल डाला तो भी डटीं रही

टीम की लीडर हैड कांस्टेबल कमला बुनकर ने बताया कि वे 1990 में पुलिस विभाग में आई थी। यह उदयपुर जिले की पहली महिला पुलिसकर्मी हैं, जिनको हैड कांस्टेबल के लिए प्रमोट किया गया। मानसी वाकल डेम बनने के दौरान हुए हुड़दंग में हुड़दंगियों के पत्थर खाए फिर भी खदेड़ दिया। साथ ही धानमंडी में एक जुलूस के दौरान दुकानदार ने उन पर गर्म तेल डाल दिया। अब वह लेडी पेट्रोल टीम की प्रभारी के रूप में तैनात हैं।

लड़की को परेशान कर रहा था, सबक सिखाया

तुलसी डांगी ने बताया कि एमजी कॉलेज में पढ़ने वाली एक लड़की ने कॉलेज के पास से ही फार्म भरा था। दुकान पर काम करने वाले लड़के ने उसके नंबर ले लिए और फोन करके परेशान करता था। ऐसी सूचना मिली पर लड़की के ही नंबर से उस लड़के से बात की और एमजी कॉलेज बुलाया। वहां पर लेडी पेट्रोल टीम की तीन गाड़ियां पहुंची, जिसमें अलका कुमारी, कन्या कुमारी, मोनिका और प्रियंका चौधरी थीं। लड़के को सबक सिखाकर पुलिस के हवाले किया।

कार्रवाई करते समय साथ दें शहरवासी

लेडी पेट्रोल टीम ने भास्कर के माध्यम से अपील की है कि अपराधियों पर कार्रवाई के दौरान शहरवासी उनका साथ दें। कई बार कार्रवाई के दौरान लोग खड़े होकर तमाशा देखते हैं लेकिन मदद के लिए नहीं आते। महिला उत्पीड़न रोकने को पुलिस का साथ दें।

शराबी पति कर रहा था पिटाई, पहुंचे तो भागा, दौड़कर दबोचा

शीला मीणा ने बताया कि हिरण मगरी सेक्टर तीन से एक महिला का फोन आया था। उसने बताया कि शराब पीकर पति पिटाई करता है। टीम की भुवनेश, प्रियंका, धर्मा और इंदु ओला ने उसके घर के सामने जैसे ही बाइक राेकी तो उस वक्त भी वह महिला की पिटाई कर रहा था। टीम को देखते ही भाग छूटा तो उसे रास्ते पर भागते हुए दबोचा। बाद में थाना पुलिस को सूचना दी।

..तो कॉलोनी विरोध में आ गई

धर्मा चौधरी ने बताया कि यूनिवर्सिटी रोड पर श्रेया गर्ल्स हॉस्टल से फोन आया था कि सामने वाले घर में रहने वाले लड़के शराब पीकर परेशान करते हैं। वहां कार्रवाई करने पहुंचे तो कॉलोनी वाले इकट्ठे हो गए। इसके बाद भी वहीं डटे रहे। बाद में प्रतापनगर थाना पुलिस को सूचना दी और पांच लड़कों को गिरफ्तार कराया। कार्रवाई में विमला, राम स्नेही, विजय लक्ष्मी, लक्ष्मी जाट और पार्वती थी।