--Advertisement--

अजमेर लोकसभा उपचुनाव: एसडीएम ऑफिस से सेंसिटिव बूथों की लिस्ट लीक

शराबबंदी अभियान से जुड़े महिला-पुरुषों ने घर-घर जाकर की 20 जनवरी को वोट डालने की अपील

Danik Bhaskar | Jan 17, 2018, 06:54 AM IST

अजमेर. अजमेर संसदीय क्षेत्र में 29 जनवरी को होने जा रहे लोकसभा उपचुनाव के लिए जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा संवेदनशील आैर अतिसंवेदनशील बूथों की सूची जारी नहीं की, लेकिन किशनगढ़ एसडीएम कार्यालय से किशनगढ़ विधानसभा क्षेत्र के उक्त बूथों की सूची मंगलवार को लीक हो गई। जबकि नियमानुसार यह सूची जिला निर्वाचन अधिकारी स्तर पर ही जारी की जाती रही हैं। मामला सामने आने के बाद जिला निर्वाचन अधिकारी गौरव गोयल ने गंभीरता से लिया आैर तथ्यों की जानकारी जुटाई, कहा कि - यह अंतिम सूची नहीं है।


उम्मीदवार तय होने से पहले एडवांस फोर्स की जरूरतों को देखते हुए बूथों का आकलन करवाया गया था। किशनगढ़ एसडीएम कार्यालय से स्पष्टीकरण मांगा गया है। वहीं संवेदनशील आैर अतिसंवेदनशील बूथों की सूची विधानसभावार आगामी एक दो दिनों में जारी की जाएगी।

एसडीएम कार्यालय से जारी सूची में यह है चौंकाने वाली जानकारी
लीक हुई सूची में सबसे ऊपर लिखा हुआ है कार्यालय सहायक रिटर्निंग ऑफिसर (एसडीएम) किशनगढ़ (98) लोकसभा उपचुनाव - 2018 क्रिटिकल मतदान केंद्र विधानसभा क्षेत्र किशनगढ़। इसके बाद नीचे कुल 93 बूथों को क्रिटिकल श्रेणी में रखा गया है। क्रिटिकल के कारण बताए गए हैं, वो चौंकाने वाले हैं। सूची के नीचे सहायक रिटर्निंग अधिकारी आैर पुलिस उपअधीक्षक वृत्त किशनगढ़ के हस्ताक्षर हैं।

संवेदनशील व अतिसंवेदनशील बूथ जारी करने की प्रक्रिया

जिला निर्वाचन अधिकारी गोयल ने कहा कि एक प्रक्रिया के तहत संवेदनशील व अतिसंवेदनशील बूथों की सूची जारी की जाती है। इसमें एसडीएम, सीआे आैर इंटेलिजेंस की रिपोर्ट के आधार पर विधानसभावार इनकी जानकारी जुटाई जाती है। इसके बाद चुनाव पर्यवेक्षक के साथ सूची को अंतिम रूप दिया जाता है। सूची को जारी करने से पहले भौतिक सत्यापन, निरीक्षण आैर अन्य प्रक्रियाएं अपनाई जाती हैं। जिला निर्वाचन अधिकारी आैर एसपी की मौजूदगी में संवेदनशील आैर अतिसंवेदनशील बूथों की सूची को जारी किया जाता है। इसके हिसाब से बूथों पर अतिरिक्त सुरक्षा व्यवस्था की जाती है। किशनगढ़ एसडीएम कार्यालय की यह सूची अधिकृत नहीं मानी जाए।

सूची पर मेरे हस्ताक्षर नहीं, रूपनगढ़ एसडीएम के हैं
इधर, एसडीएम अशोक कुमार ने कहा कि पिता के स्वर्गवास के कारण वे अवकाश पर थे, उस दौरान रूपनगढ़ एसडीएम के पास चार्ज था। यह उनके हस्ताक्षर युक्त सूची है। सूची तैयार करते समय कच्चा काम चल रहा था, वर्तमान में यह सूची अधिकृत नहीं है। मेरे द्वारा किसी तरह की कोई संवेदनशील आैर अतिसंवेदनशील बूथों की सूची जारी नहीं की गई है। किसी अज्ञात ने गड़बड़ी फैलाने की मंशा से भ्रमित करने का प्रयास किया है।