--Advertisement--

बेटे की मौत से सदमे में थी मां, उबारने आर्मी के सूबेदार की बेटियों ने चुराया बच्चा

सिर्फ भास्कर में पढ़े किसने और क्यों जनाना अस्पताल से चुराया था नवजात।

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2018, 08:01 AM IST
new born baby stealing bhaskar investigation

भरतपुर(राजस्थान). राजकीय जनाना अस्पताल से 3 दिन पहले चोरी हुआ बच्चा शनिवार सुबह रारह क्षेत्र के गोवर्धन ड्रेन से सांतरुक जा रही सड़क के किनारे झाड़ियों में मिल गया। असल में भाई की मौत के बाद मां को सदमे से उभारने के लिए दो लड़कियों ने बच्चे को जनाना अस्पताल से चुराया था, जो स्कूटी से ही मथुरा ले गई थी। फिलहाल बच्चे को उपचार के लिए जनाना अस्पताल में ही भर्ती कर लिया है। इस मामले में पुलिस रविवार को खुलासा करेगी, पर हम उससे पहले ही अपने पाठकों के लिए ये खुलासा कर रहे हैं।

बच्चे को छोड़ने मथुरा से खुद आई थी लड़की

- शनिवार सुबह करीब 8 बजे जैसे ही रारह के पास बच्चा मिला तो भास्कर ने अपनी पड़ताल शुरू की। जिस जगह पर बच्चा मिला था, वहां से भास्कर ने पड़ताल शुरू की। जिसमें सामने आया कि बच्चे को छोड़ने मथुरा से खुद शिवानी शनिवार सुबह 5.30 बजे आई थी। जिसने बच्चा झाड़ियों में सुरक्षित छोड़ा और छुपकर निगाह भी रखी। जैसे ही ग्रामीणों ने अपने कब्जे में बच्चे को लिया तो वह वहां से फरार हो गईं।

- भास्कर की पड़ताल में सामने आया कि आरोपी लड़की शिवानी, बहन प्रियंका ने बच्चे को चुराया था। स्कूटी से ही उसे भरतपुर से मथुरा लेकर गईं।

- जब हमने अपनी पड़ताल को आगे बढ़ाया तो पता चला कि जिस स्कूटी से बच्चे को चुराया था, वह मथुरा में रहने वाली मीना देवी पत्नी लक्ष्मण सिंह निवासी गांव सरूपा नौगांवा जिला मथुरा के नाम से मथुरा आरटीओ में रजिस्टर्ड है, जो साल 2017 का मॉडल है। हालांकि, वर्तमान में यह गांव सरूपा हाथरस जिले में आता है। इस बारे में एसएचओ मथुरागेट राजेश पाठक ने बताया कि बच्चा मिल गया है। पूछताछ करके आगे मामले की जांच की जा रही है। इस संबंध में खुलासा रविवार को अधिकारी करेंगे।

हालात : दो साल पहले हो गई थी छोटे भाई की मौत

- मीना देवी की तीन बेटियां हैं, इसमें एक बेटी 23 साल की शिवानी विवाहित और मथुरा में रहती है। दूसरी बेटी 20 साल की प्रियंका आगरा में विवाहित है, लेकिन वह करीब 15 दिन से पीहर ही थी। तीसरी 15 साल की खुशबू है, जो कि मां-बाप के साथ रहती है।

- मीना के 14 साल का बेटा था, जिसकी मौत जिम करते समय फांसी का फंदा लगने से 2 साल पहले हो गई थी। मीना का पति लक्ष्मण सिंह आर्मी में सूबेदार है, वर्तमान में मेरठ में पोस्टिंग है।

- बेटे की मौत के बाद मीना देवी मायूस हो गई। इसके बाद दोनों बहनों ने तय किया कि वह एक भाई की व्यवस्था करेंगीं। आसपास तलाश के बाद उन्होंने भरतपुर को निशाना बनाया।

- 10 जनवरी को जब वह जनाना अस्पताल आईं तो उनकी नजर हैवतका पहाड़ी निवासी मनीषा पत्नी तारिफ पर पड़ी। सबसे पहले तो पूछा कि लड़का है या लड़की और फिर अस्पताल में प्रसूता को अकेला होने पर टॉयलेट ले जाकर बच्चे को चोरी कर ले गईं और फिर बच्चा चोरी कर लिया।

युवतियां भी चाहती थीं कि बच्चा मां तक सुरक्षित पहुंचे

- बच्चा छोड़ने वाले ने उसकी हिफाजत का पूरा ध्यान रखा। कंबल में लिपटा बच्चा जुर्राब से लेकर टोपा तक फुल ऊनी कपड़े पहने था। साथ ही बच्चे के छाती पर स्वेटर से सेफ्टी पिन की मदद से पर्ची टंगी मिली, जिस पर पैन से लिखा था- यह बच्चा जनाना अस्पताल पुराना चार बाग से चोरी हुआ था। कृपया इसे इसके मां -बाप को सौंप दें।

- वहीं बच्चे के बगल में दूध की बोतल भी थी। बोतल आधी खाली थी यानि छोड़ने वाला बच्चे का दूध पिलाकर वहां छोड़ गया था।

आंखों देखी-पैर से लेकर सिर तक ऊनी कपड़ा में लिपटा था

- रारह के पास गोवर्धन ड्रेन से सांतरुक जाने वाले रास्ते पर सबसे पहले राहगीर बाइक सवार की निगाह पड़ी, उसने खते में काम कर रहे रसूलपुर मथुरा निवासी किसान खजान सिंह को बोला देख इसमें क्या है। उसने आसपास के किसानों को बुला लिया। तभी एक ऑटो आकर रुका व दंपती रूपसिंह व उसकी पत्नी उतरे। उन्होंने शॉल हटाई तो देखा कि उसमें एक जीवित बच्चा था। उन्होंने ही पुलिस को बताया।

- थोड़ी देर में रारह चौकी पुलिस सहित खेतों पर कार्य करने वाले लोगों की भीड़ हो गई। ग्रामीण खजान सिंह एम्बुलेंस में बच्चे को गोद में लेकर पुलिस के साथ राजकीय जनाना अस्पताल पहुंचा।

- इसके बाद पहले बच्चा को सौंपा गया तो उसने तत्काल उसे पहचान लिया। इसके बाद उसकी सास ने बच्चे को दुलार किया। इसके बाद वही बच्चे को एफबीएनसी वार्ड में बच्चे को उपचार के लिए ले गई। डॉक्टरों ने बच्चे को एक दिन के लिए अपनी निगरानी में रखा है।

भास्कर: पहले दिन से ही खुलासे

- घटना के बाद से ही भास्कर पुलिस से पहले मामले की पड़ताल में जुट गया। हमने पता लगाया कि बच्चे को लेकर युवतियां किस-किस रूट से गई हैं। पड़ताल में एक होटल की सीसीटीवी फुटेज भास्कर ने खंगाले तो कुछ तथ्य सामने आए। भास्कर ही था जिसने दोनों लड़कियों के फुटेज सहित मामले का खुलासा किया था।

- पुलिस ने भी यहीं के सीसीटीवी फुटेज खंगाले तो स्कूटी नंबर यूपी 85-बीसी-1361 का स्पष्ट पता लग गए। इसके आधार पर पुलिस ने आरोपियों पर दबाव बढ़ाया।

- पुलिस सूत्रों का कहना है कि शनिवार शाम काे पुलिस मथुरा से एक लड़की को हिरासत में ले लिया, जबकि दूसरी को देर रात आगरा से लेकर आए। इनसे पूछताछ करने में पुलिस के अधिकारी जुटे हैं, साथ ही स्कूटी भी कब्जे में कर ली। इधर, रात में पुलिस लड़कियों से पूछती रही कि यह आइडिया कहां से आया।

X
new born baby stealing bhaskar investigation
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..