--Advertisement--

4 साल में 1400 से बढ़ 28 सौ रुपए हो गई जेट की फीस, 10-15% अौर बढ़ सकती है

जेट की बढ़ी फीस को लेकर हर साल की तरह इस बार भी विरोध शुरू हो गया है।

Danik Bhaskar | Jan 16, 2018, 05:19 AM IST

उदयपुर. राजस्थान के कृषि महाविद्यालयों में प्रवेश के लिए हाेने वाले जॉइंट एन्ट्रेंस टेस्ट (जेट) की फीस चार सालों में बढ़कर दोगुनी हो गई है। जेट परीक्षा हर तीन साल तक एक कृषि विवि करवाता है। इस बार इसका जिम्मा महाराणा प्रताप कृषि एवं प्रौद्योगिकी विवि के को मिला है। परीक्षा मई में प्रस्तावित है। जेट की बढ़ी फीस को लेकर हर साल की तरह इस बार भी विरोध शुरू हो गया है। पिछले साल भी विवि ने फीस बढ़ोतरी करनी चाही थी, लेकिन छात्रों के विरोध के चलते उसे टाल दिया गया।

- छात्रों ने बताया 2013 में फीस 1400 रुपए थी, जो 2017 में 2800 रुपए हो गई। हर साल चार सौ से पांच सौ रुपए खर्च के नाम पर बढ़ाए गए, जबकि परीक्षा का खर्च कम ही आता है। ऐसे में कोई मध्यम वर्ग का छात्र कृषि और इससे जुड़े विषयों की पढ़ाई करना चाहे तो कैसे करे। छात्रों ने फीस को कम करने की मांग की है। जेट में कुल 4 हजार सीटें हैं इसमें 1100 सरकारी कॉलेज के लिए है। हर साल 15 हजार से ज्यादा छात्र परीक्षा देते हैं। आरसीए में यूजी की 110 और पीजी की 65 सीटें हैं।


अभी नहीं हुआ फीस बढ़ोतरी का निर्णय
जेट की फीस बढ़ाने को लेकर अभी कोई निर्णय नहीं हुआ है। अगर बढ़ी भी तो 10 से 15 प्रतिशत तक ही बढ़ेगी। सीटें भी बढ़ाई जा सकती है।
- प्रो. उमाशंकर शर्मा, कुलपति, एमपीयूएटी