--Advertisement--

‘मीरा’ उपन्यास को दिया जाने वाला ‘रांगेय राघव’ अवॉर्ड स्थगित

हिन्दी साहित्य अकादमी ने मीरा उपन्यास काे पुरस्कार के लिए चुना, जिसमें कई महाराणाओं को नाकाबिल बताया गया है।

Danik Bhaskar | Mar 19, 2018, 01:55 AM IST

उदयपुर. जयपुर के हरदान हर्ष के उपन्यास ‘मीरा’ को रविवार को दिया जाने वाला ‘रांगेय राघव’ पुरस्कार विभिन्न समाजों के भारी विरोध के बाद राजस्थान साहित्य अकादमी ने स्थगित कर दिया। रविवार को साहित्य अकादमी का लेखक सम्मान समारोह था। जिसमें हरदान हर्ष को ‘रांगेय राघव’ सम्मान के लिए चुना गया था।

दैनिक भास्कर ने रविवार को खुलासा किया था कि जिस मीरा उपन्यास के लिए यह पुरस्कार दिया जा रहा है उसमें मेवाड़ के शासकों को ढीठ, छिछोरा और कापुरुष बताया गया है। विरोध इतना बढ़ गया कि अकादमी ने उदयपुर पहुंच चुके हरदान हर्ष को वापस भेज दिया। कई समाज के पदाधिकारियों ने आयोजन स्थल पर पहुंचकर विरोध जताया और बैनर उतरवा दिए।

पुलिस जाब्ता भी तैनात कर दिया गया। साहित्य अकादमी के अध्यक्ष डॉ. इंदुशेखर तत्पुरुष बोले- मीरा और मेवाड़ के महाराणाओं पर हमें गौरव है। इस पर कोई विवाद स्वीकार्य नहीं है। रांगेय राघव पुरस्कार स्थगित कर दिया है। पुरस्कार देने का निर्णय तीन सदस्यीय कमेटी ने लिया था।


गौरतलब है कि हिन्दी साहित्य अकादमी ने मीरा उपन्यास काे पुरस्कार के लिए चुना, जिसमें कई महाराणाओं को नाकाबिल बताया गया है।