--Advertisement--

आधी रात बाद 15-20 बदमाशों का धावा, कार्मिक को बंधक बना 3 घंटे पीटा

गोगुंदा थाने से डेढ़ किलोमीटर दूर एवीवीएनएल के पाॅवर हाउस पर शुक्रवार की आधी रात बाद 1 बजे 15 से 20 बदमाशों ने धावा बोल

Danik Bhaskar | Jan 07, 2018, 07:58 AM IST

उदयपुर/ गोगुंदा. गोगुंदा थाने से डेढ़ किलोमीटर दूर एवीवीएनएल के पाॅवर हाउस पर शुक्रवार की आधी रात बाद 1 बजे 15 से 20 बदमाशों ने धावा बोल दिया। वहां ठेके पर लगे कर्मचारी शंकरलाल तेली, उसके बेटे पन्नालाल और 14 साल के भतीजे राहुल को तीन घंटे बदमाशों ने बंधक बनाकर पीटा। बदमाशों ने तड़के 4 बजे पॉवर हाउस में लगे 10 ट्रांसफाॅर्मर तोड़ उनमें से तांबे की कॉइल लूट ली। पुलिस को जानकारी लगी तो वे मौके पर पहुंचे और गंभीर घायल पिता-पुत्र को निजी हॉस्पिटल में भर्ती कराया। निगम ने कहा कि दो माह में 40 ट्रांसफार्मर चोरी हो चुके हैं, लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। डिप्टी ओमकुमार ने कहा कि आरोपी जानकार लोग हो सकते हैं, इसलिए ठेकेदारों की भी जांच की जाएगी। घटनास्थल पर एक जैकेट, चाबी का छल्ला और एक हाथ दस्ताना मिला। बाद में तलाशी के दौरान नेशनल हाइवे पर निगम का पिकअप वाहन खड़ा मिला।


वारदात की कहानी राहुल की जुबानी
शंकर के भतीजे छपरा निवासी राहुल ने बताया कि शुक्रवार को वह अपने दोस्तों के साथ माउंट आबू घूमने गया था। लौटते वक्त रात हो जाने पर वह अपने काका शंकर के पास पाॅवर हाउस जाकर वहीं रुक गया। रात 1 बजे बाद पाॅवर हाउस के बाहर कुछ आवाज आई। शंकर और पन्ना बाहर गए तो देखा बदमाश खड़े हैं। इतने में बदमाशों ने दोनाें को पकड़ा और पीटते हुए अंदर लेकर आए। अंदर आने के बाद मेरे साथ मारपीट की। शंकरलाल ने चिल्लाने और भागने की कोशिश की तो बदमाशों ने उसके गले में तार का फंदा कस दिया और एक पेड़ पर लटकाने का प्रयास भी किया। लेकिन थोड़ी देर बाद फिर हॉल में लाए और वहां लोहे के उपकरणों पर दोनों को पटक-पटककर अधमरा कर दिया। फिर तीनों के हाथ-पैर बांध दिए और मुंह पर कपड़ा लगा दिया। बाद में ट्रांसफाॅर्मर से तांबा निकाल परिसर में खड़ी एवीएनएल की किराए की पिकअप में डालकर ले भागे। जाते-जाते पन्ना और शंकर के मोबाइल छीनकर सिम कार्ड निकाल लिए। फिर मोबाइल वहीं फेंककर चले गए।

पन्ना ने अपने दांतों से बंधन खोला
राहुल ने बताया कि बदमाशों के जाने के बाद जख्मी पन्ना ने अपने दांतों से उसके हाथों का बंधन खोला। फिर राहुल ने उन दोनों को तारों के बंधन से मुक्त कराया। उसके बाद राहुल कस्बे के पास एवीएनएल के जेईएन के घर गया और उन्हें घटना की जानकारी दी। जेईएन राहुल के साथ पाॅवर हाउस आया और पुलिस को सूचना दी। मौके पर एंबुलेंस और डिप्टी ओमकुमार सहित सायरा, टीडी, गोवर्धन विलास के थानाधिकारियों की टीम भी मौके पर पहुंची। इधर, पुलिस ने एवीएनएल के जेईएन अमरेन्द्र त्रिपाठी की रिपोर्ट पर अज्ञात चोरों के खिलाफ मामला दर्ज किया।

सवालों के जवाब ढूंढ रही पुलिस
- जिस पिकअप को लेकर बदमाश भागे, वह एनएच-27 पर मिली। संभवतया लुटेरे पुलिस को गुमराह करने के लिए पिकअप को वहां छोड़कर भागे हैं। पुलिस का अनुमान है कि बदमाश क्षेत्र के जानकार हैं तो स्थानीय भी हो सकते हैं।
-हाल ही ओगणा थाने की एक कार्रवाई में ट्रांसफार्मर से तांबा चोरी के तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया था। पुलिस इस घटना को ओगणा में वारदात करने वाली गैंग से जोड़कर जांच कर रही है।
-ट्रांसफार्मर में 8-10 किलो तांबा होता है। वहीं तांबे के तार स्क्रेप में 350 रुपए किलो के भाव से बिकता है। ऐसे में चुराए तांबे की कीमत 40-45 हजार रुपए बनती है। कम राशि का तांबा चोरी करने के लिए इतनी बड़ी वारदात कैसे की जा सकती है।

9 पुराने, 1 नए सिंगल फेज ट्रांसफार्मर को तोड़कर कॉपर निकाला
जेईएन रोहित सिंह गुहिल ने बताया कि पावर हाउस में सिंगल फेज और थ्री फेज के ट्रांसफार्मर पड़े हुए थे। इनमें 3 सिंगल फेज के नए ट्रांसफार्मर भी थे। थ्री फेज के ट्रांसफार्मर में कॉपर नहीं होता है, जबकि सिंगल फेज के ट्रांसफार्मर में कॉपर होता है। चोर 9 पुराने व 1 नए सिंगल फेज के ट्रांसफार्मर को तोड़ कर कॉपर ले गए। दो नए ट्रांसफार्मर को वे खोल नहीं पाए, इसलिए वे बच गए। ट्रांसफार्मर पड़े थे, इन्हें कुछ दिनों पूर्व चोरों ने ही तोड़े थे। इसकी रिपोर्ट पुलिस थाने में दी थी। बताया गया कि ट्रांसफार्मर में ऑयल कम पड़ने या उनमें तकनीकी खराब आने पर उन्हें पावर हाउस लाते हैं। यहीं पर ठीक कर वापस लगा देते हैं।