--Advertisement--

भड़काऊ मैसेज करने, उसे फॉरवर्ड या कमेंट करने वालों को अरेस्ट करेगी स्पेशल सेल

72 घंटे बाद इंटरनेट सेवा बहाल, शहर में लागू धारा 144 को हटाया

Danik Bhaskar | Dec 17, 2017, 06:24 AM IST

उदयपुर. राजसमंद हत्याकांड को लेकर सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक वीडियो वायरल करने से पिछले दिनों बिगड़े माहौल के बाद एसपी और जिला कलेक्टर ने शनिवार शाम को प्रेस वार्ता कर तीन दिन से लागू धारा-144 को हटाने का आदेश दिया। वहीं बुधवार शाम 8 बजे से बंद हुई इंटरनेट सेवा 72 घंटे बाद शनिवार शाम 8 बजे शुरू हो गई।

- एसपी राजेन्द्र प्रसाद गोयल ने कहा कि सोशल मीडिया पर किसी व्यक्ति के भड़काऊ मैसेज करने और उसे फॉरवर्ड करने या उस पर कमेंट करने वालों की जांच शुरू कर दी गई है। इसके लिए जिला कलेक्टर कार्यालय और पुलिस विभाग की तरफ से स्पेशल सेल काम कर रहा है। ऐसे व्यक्तियों की पहचान कर गिरफ्तार किया जाएगा और आईपीसी धारा-153 अ के तहत कार्रवाई की जाएगी।

- हालांकि, सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक मैसेज करने वालों की मॉनिटरिंग अभय कमांड सेंटर की शुरू की जानी थी जो अब तक नहीं हुई है।

हुड़दंग में गिरफ्तार 53 लोगों को नहीं मिली जमानत

हुड़दंग करने के आरोप में गिरफ्तार 53 लोगों को शनिवार को कोर्ट में पेश किया गया जहां पर न्यायिक मजिस्ट्रेट क्रम 2 दक्षिण की जज मनीषा चौधरी ने 25 और न्यायिक मजिस्ट्रेट क्रम 1 उत्तर दीपिका सिंह ने 28 लोगों की जमानत अर्जियां खारिज कर दी।

- इसके साथ मावली थाना एसएचओ लाभूराम विश्नोई ने 9 दिसंबर को फेसबुक पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के आरोप में दो लोगों काे गिरफ्तार किया था जिसमें मावली के पीपरोली निवासी लक्ष्मी लाल उर्फ पिंटू पुत्र शोभालाल जोशी और शोभागपुरा के रविन्द्र नगर निवासी कैलाश पुत्र दूदा राम डांगी थे। उनकी भी कोर्ट ने जमानत अर्जी खारिज की है।

आगे क्या... कोई बंद या रैली नहीं

19 और 25 दिसंबर को विभिन्न संगठनों की तरफ से रैलियां और उदयपुर बंद का आह्वान वापिस ले लिया गया है। इन दोनों दिनों में किसी भी प्रकार का बंद नहीं है औैर न ही रैलियां निकाली जाएंगी।

वीडियो वायरल प्रकरण में गिरफ्तार लोगों को भेजा जेल

8 दिसंबर को उदयपुर में मुस्लिम संगठनों के बैनर तले निकाले गए जुलूस में आपत्तिजनक नारेबाजी के वायरल वीडियो प्रकरण में गिरफ्तार हुए 10 लोगों को पुलिस ने कोर्ट में पेश किया जहां से उनको जेल भेज दिया गया है।

जब्त किए 217 वाहनों में से 10 वाहन निकले चोरी के
एसपी ने कहा कि पुलिस ने पत्थरबाजी के बाद गुरुवार को शहर के विभिन्न स्थानों से 217 अज्ञात वाहनों को जब्त कर थानों में रखवाया था जिन्हें शुक्रवार से ही छोड़ा जा रहा था। खास बात ये है कि इनमें से 10 जब्त बाइकें चोरी की निकली हैं।

तीन दिन का पूरा घटनाक्रम

उल्लेखनीय है कि चेतक सर्कल पर रैली के दौरान लगेे आपत्तिजनक नारों का वीडियो वायरल होने के बाद बुधवार को विभिन्न संगठनों में आक्रोश फैल गया था। माहौल बिगड़ता देख कलेक्टर ने जिले में धारा 144 लगाई थी और संभागीय आयुक्त ने नेटबंदी की घोषणा की थी। इसके बाद गुरुवार को धारा-144 का उल्लंघन कर कोर्ट चौराहे पर कुछ लोग एकत्र हो गए थे। नारेबाजी के दौरान पुलिस और लोगों के बीच झड़प और पथराव हुआ था जिसमें 32 पुलिस जवान और अधिकारी घायल हुए थे। पुलिस ने लाठीचार्ज कर 207 लोगों को गिरफ्तार किया था। इसके बाद शुक्रवार शाम को बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद ने गिरफ्तार युवक को छोड़ने के लिए मौन रैली निकाली थी। दोनों संगठनों के पदाधिकारियों और प्रशासन के बीच लंबी वार्ता चली थी और रात को 153 लोगों को जमानत पर छोड़ा था और 53 को जेल भेजा था।

अफवाहों पर ध्यान न दें शहरवासी

जिला कलेक्टर बिष्णु मल्लिक ने नेट शुरू होते ही वाट्सअप पर ऑडियो संदेश डाला : नमस्कार, मैं जिला कलेक्टर उदयपुर बोल रहा हूं। जिले में शांति और कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए इंटरनेट पर जो पाबंदियां और धारा 144 लगाई थी, उन्हें हटा दिया है। सोशल मीडिया पर शहर में शांतिभंग करने और सौहार्द बिगाड़ने के लिए आपत्तिजनक कमेंट और तथ्य अब भी प्रसारित किए जा रहे हैं। 14 दिसंबर से उदयपुर की एक मस्जिद को नुकसान पहुंचाने की अफवाह फैलाई जा रही है, जो झूठ है। ऐसी अफवाहों पर ध्यान न दें और अफवाह की सूचना तुरंत पुलिस प्रशासन को दें।