Home | Rajasthan | Udaipur | Teacher s job will be canceled who Women category recruitment

महिला श्रेणी में भर्ती होने वाले शिक्षक की नौकरी होगी निरस्त

पुरुष शिक्षक को महिला की श्रेणी में नौकरी देने के मामले की जांच शुरू, वेरीफिकेशन करने वालों पर होगी कार्रवाई

Bhaskar News| Last Modified - Feb 08, 2018, 07:31 AM IST

Teacher s job will be canceled who Women category recruitment
महिला श्रेणी में भर्ती होने वाले शिक्षक की नौकरी होगी निरस्त

उदयपुर. जिला परिषद से ग्रेड थर्ड शिक्षक भर्ती-2013 में पुरुष शिक्षक पारसमल अहारी को महिला की श्रेणी में नौकरी देने के मामले में विभागीय जांच शुरू हो गई है। जिला परिषद गड़बड़ी से नौकरी पाने वाले शिक्षक पारसमल की नौकरी को निरस्त करेगा और मैरिट में आने वाली महिला अभ्यर्थी को नौकरी दी जाएगी। वहीं उन अधिकारियों पर भी सख्त कार्रवाई होगी, जिन्होंने इस गड़बड़ी में साझेदारी कर शिक्षक पारसमल का वेरीफिकेशन किया था।

 

जानकारी के अनुसार   प्रक्रिया में तत्कालीन जिला परिषद में सामुदायिक विकास के सहायक अभियंता प्रकाश चन्द्र जैन, पंचायत समिति गिर्वा में तत्कालीन ब्लॉक प्रारंभिक शिक्षा अधिकारी वीएस यादव और तत्कालीन एएओ-द्वितीय निमेश  राठौड़ मौजूद थे। इन तीनों ने ही पारसमल के सभी दस्तावेजों के वेरीफिकेशन किया था। इसके अलावा उस समय नियुक्ति अधिकारी झाड़ोल बीडीओ शैलेन्द्र जोशी थे। ऐसे में जिला परिषद ने अब इन सभी की भूमिका की जांच शुरू कर दी है और मुख्य रूप से वेरीफिकेशन करने वाले तीनों अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई भी होगी। इस मामले में जब सत्यापन करने वाले इन तीन अधिकारियों से संपर्क किया गया तो ये जवाब देने से बचते रहे और कुछ याद नहीं रहने का 

 

जिला परिषद सीईओ अविचल चतुर्वेदी बोले- मामले में जिम्मेदार अफसरों  पर जरूर होगी कार्रवाई  
Q. महिला श्रेणी में पुरुष अभ्यर्थी को भर्ती कर देने के मामले में क्या कार्रवाई होगी?
A. संबंधित शिक्षक की नौकरी निरस्त कर उसकी जगह मैरिट में आने वाली महिला अभ्यर्थी को नौकरी दी जाएगी।
 
Q. मामला धोखाधड़ी का है, तो क्या नौकरी पाने वाले शिक्षक पारसमल के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाएंगे?
A. विभाग से मार्गदर्शन लेकर कार्रवाई करेंगे।
 
Q. जिन्होंने अभ्यर्थी का सत्यापन किया था, उनके खिलाफ क्या कार्रवाई होगी?।
A. उन सभी के खिलाफ विभागीय कार्रवाई होगी, जांच शुरू कर दी है।
 
अभ्यर्थी को बुला सत्यापन किया था, गलती  कैसे हुई, पता नहीं 
 अभ्यर्थी और उसके दस्तावेजों के सत्यापन का काम पूरी गहराई से किया गया था। ये कैसे-क्या हो गया, क्या कह सकते हैं। 
 वीएस यादव, तत्कालीन ब्लॉक प्रारंभिक शिक्षा अधिकारी

 उस समय सत्यापन प्रक्रिया में मैं शामिल था, मामला पुराना हो गया है, तो इतना पुराना कुछ ध्यान नहीं है। अभ्यर्थी के व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होने के बाद ही सत्यापन किया था। महिला श्रेणी में पुरुष भर्ती हो गया, इस बारे में कुछ पता नहीं है। 
निमेश राठौड़, तत्कालीन एएओ
 
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now