--Advertisement--

रेप पीड़ित और उसकी मां के फोटो जारी किए, पूछा तो बोले- गलती हो गई

मासूम को चार दिन पहले दुष्कर्म कर फेंक दिया था झाड़ियों में, रातभर तड़पती रही...एमबी में ऑपरेशन कर निकालनी पड़ी थी बच्चे

Danik Bhaskar | Mar 10, 2018, 06:33 AM IST
आयोग सदस्य सुषमा बोलीं : फोटो भेज कर मुझसे गलती हो गई आयोग सदस्य सुषमा बोलीं : फोटो भेज कर मुझसे गलती हो गई

उदयपुर. महिला आयोग सदस्य, कांग्रेस और शिवसेना के पदाधिकारियों ने शुक्रवार को कानून की धज्जियां उड़ाते हुए बाल चिकित्सालय में भर्ती हैवानियत की शिकार चित्तौड़गढ़ के भदेसर निवासी 5 साल की मासूम बच्ची और उसकी मां के फोटो सार्वजनिक कर मीडिया तक को जारी कर दिए। जबकि एडवोकेट राजेन्द्र सिंह हिरन ने बताया कि किसी भी दुष्कर्म पीड़ित की पहचान उजागर करने वाले के खिलाफ आईपीसी की धारा 228ए के तहत मामला दर्ज किया जा सकता है। इसमें दो वर्ष के कारावास और जुर्माने की सजा का प्रावधान है।

- संवेदनहीनता की हद तो यह है कि महिलाओं के अधिकारों की रक्षा के लिए बने महिला आयोग की सदस्य सुषमा कुमावत ने मासूम और उसकी मां की फोटो sushmakumawat105@gmail.com ईमेल से खबर प्रकाशित कराने के लिए मीडिया तक को भेज दी।

- वहीं भदेसर के पूर्व प्रधान और कांग्रेस नेता अर्जुन सिंह चुंडावत ने भी बच्ची और उसकी मां के फोटो krishnapalsinghmlsu@gmail.com ईमेल से भेज सार्वजनिक कर दिए। ऐसे ही शिवसेना ने gaurav.nagdashivsena@gmail.com से बच्ची की मां की फोटो मय प्रेस विज्ञप्ति जारी कर दी। भास्कर ने जब उनसे इस बारे में सवाल किया था तीनों के ही पदाधिकारियों ने गलती स्वीकार करते हुए कहा कि-हमसे बहुत बड़ी भूल हो गई है।

बच्ची की हालत में सुधार
एमबी अस्पताल के आईसीयू में भर्ती बच्ची की हालत में सुधार हो रहा है। महिला एवं बाल चिकित्सालय की डॉ. दीप्ति श्रीवास्तव ने उसकी सेहत जानी। उन्होंने बताया कि टांके रहने तक उसे खाना नहीं दिया जा सकता।

मामला सामने आया तो जांच कर कार्रवाई करेंगे जेजे एक्ट में पीड़ित का फोटाे नहीं जारी कर सकते

यदि ऐसा है तो जांच करेंगे कि कहां से औैर किसने दुष्कर्म पीड़ित बच्ची के फोटो जारी किए हैं। इसके बाद कानून के अनुसार कार्रवाई की जाएगी।
-हर्ष रत्नू, एएसपी, उदयपुर


जेजे एक्ट के तहत पीड़िता का इस प्रकार से फोटाे नहीं जारी सकते हैं। फिलहाल प्रकरण हमारे सामने नहीं आया है। हम जांच करेंगे।
-सुधीर जोशी, एएसपी, चितौडग़ढ़

आईसीयू में फोटोग्राफी प्रतिबंधित है, मामले की जांच कराएंगे : उपाधीक्षक

नियमानुसार आईसीयू में भर्ती बच्ची की हालत देखने मास्क, कैप, अंदर की चप्पलें आदि पहनकर जा तो सकते हैं, क्योंकि भर्ती गंभीर मरीजों को संक्रमण का सर्वाधिक खतरा रहता है। आईसीयू सैरसपाटा करने की जगह नहीं है, जहां फोटोग्राफी प्रतिबंधित है। पब्लिसिटी के लिए दुष्कर्म पीड़ित बच्ची और उसकी मां के फोटो वायरल करना निंदनीय है। मामले की जांच कराई जाएगी।
-डॉ. रमेश जोशी, उपाधीक्षक एमबी हॉस्पिटल

परिजनों से मिलकर मदद का दिलाया भरोसा

- महिला आयोग की सदस्य सुषमा कुमावत ने परिजनों को भरोसा दिलाया कि वे आरोपी को कड़ी सजा दिलवाने में मदद करेंगी। आयोग केंद्र सरकार से गुजारिश करेगा कि वह ऐसे दुष्कर्म के मामले में आरोपी को सीधे ही फांसी की सजा दिलवाने का कानून बनाए। वहीं भदेसर पूर्व प्रधान अर्जुन सिंह चुंडावत ने परिजनों से पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से फोन पर बात करवाई।

- चुंडावत ने बताया कि गहलोत ने हर संभव सहायता का आश्वासन दिया है। शिवसेना ने मामले की सुनवाई फास्टट्रैक कोर्ट में चलाने की मांग की है। शिवसेना के ललित लौहार, सुधीर शर्मा, गजेंद्र सिंह राठौड़, गौरव नागदा आदि मौजूद थे।

आयोग सदस्य सुषमा बोलीं : फोटो भेज कर मुझसे गलती हो गई

Q. महिला आयोग की सदस्य को भी जानकारी नहीं कि दुष्कर्म पीडि़ता की पहचान उजागर नहीं की जाती है?
- मैं बच्ची को देखने गई थी और उसकी मां से बातचीत की थी। फोटो भेजकर गलती हो गई। मैं माफी मांगती हूं।

शिव सेना के प्रवक्ता गौरव बोले : मां का फोटो गलती से जारी हो गया

Q. क्या आपको पता है कि दुष्कर्म पीडि़ता की पहचान उजागर करने पर आप पर मुकदमा दर्ज हो सकता हैω?
- बच्ची का फोटो जारी नहीं किया है। मां से बातचीत का जारी कर दिया है। गलती हो गई।

पूर्व प्रधान और कांग्रेस नेता अर्जुन सिंह चुंडावत : मैं इनोसेंट हूं , माफ कर दें

Q. आपको पता है कि दुष्कर्म पीडि़ता की पहचान उजागर करना कानूनी अपराध है ?
-मैं इनोसेंट हूं। गलती हो गई है। माफी मांगता हूं।

शिव सेना के प्रवक्ता गौरव बोले : मां का फोटो गलती से जारी हो गया शिव सेना के प्रवक्ता गौरव बोले : मां का फोटो गलती से जारी हो गया
पूर्व प्रधान और कांग्रेस नेता अर्जुन सिंह चुंडावत : मैं इनोसेंट हूं , माफ कर दें पूर्व प्रधान और कांग्रेस नेता अर्जुन सिंह चुंडावत : मैं इनोसेंट हूं , माफ कर दें