• Home
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • सरकारी भवन जर्जर, स्कूलों में पर्याप्त कमरे नहीं
--Advertisement--

सरकारी भवन जर्जर, स्कूलों में पर्याप्त कमरे नहीं

विधानसभा में बुधवार को लिखित सवाल के जरिए सलूंबर विधायक अमृतलाल मीणा ने जर्जर सरकारी भवनों और मावली विधायक...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 07:05 AM IST
विधानसभा में बुधवार को लिखित सवाल के जरिए सलूंबर विधायक अमृतलाल मीणा ने जर्जर सरकारी भवनों और मावली विधायक दलीचंद डांगी ने स्कूलों में कमरों की कमी का मामला उठाया। विधायक मीणा ने सवाल किया कि क्‍या सरकार सलूंबर विधानसभा क्षेत्र में पंचायतों के अधीन पुराने सरकारी जर्जर भवनों की मरम्‍मत करवा कर उनको उपयोग में लेने का विचार रखती है। पंचायतीराज मंत्री ने लिखित जवाब में सहमति दी। बताया कि गांवों में मूलभूत सुविधाओं के विकास एवं सार्वजनिक संपत्तियों के रखरखाव के लिए पंचायती राज संस्थाओं को अनुदान राशि उपलब्ध कराई जाती है। इसका उपयोग किस कार्य पर किया जाना है, यह पंचायतीराज संस्थाएं तय कर काम करवाती हैं। मावली विधायक दलीचंद डांगी ने तुलसीदास की सराय, धुणीमाता, जिंक स्मेल्टर पंचायत में उच्च‍ माध्यमिक विद्यालय खोलने का मामला उठाया। क्रमोन्नत स्कूलों में कक्षा-कक्षों की कमी की तरफ भी ध्यान दिलाया। जवाब में शिक्षा मंत्री ने बताया कि माध्यमिक विद्यालय धूणीमाता और माध्यमिक विद्यालय जिंक स्मेल्टर को उच्च‍ माध्यमिक विद्यालय में क्रमोन्नत करने के प्रस्‍ताव वित्त विभाग को भेजे हैं। क्रमोन्नत हुए जिन सरकारी विद्यालयों में छात्रों को बैठने कक्षा-कक्षों की कमी है, वहां बजट की उपलब्धता पर अतिरिक्त कक्षा-कक्ष निर्माण करवाया जा सकेगा।

विधानसभा में मेवाड़

सरकारी आवास खाली नहीं करने वालों का क्या : महर

विधायक घनश्याम माहर ने हरिशचंद्र माथुर लोक प्रशासन संस्थानों के आवासों में रहने वाले अधिकारियों का मामला उठाया। कार्मिक विभाग ने बताया कि बिना सक्षम आवंटन कोई अधिकारी नहीं रह रहा, परंतु क्षेत्रीय प्रशिक्षण केंद्र उदयपुर परिसर स्थित आवास संख्‍या आर-66 जो कि पूर्व में संस्‍थान में पदस्थापित तत्कालीन अतिरिक्त निदेशक (लेखा) को आवंटित किया था। स्थानांनतरण के बाद भी यह आवास खाली नहीं किया गया है।

पर्याप्त चिकित्सक नहीं : रावत

चिकित्सा विभाग की अनुदान मांगों पर चर्चा के दौरान भीम विधायक हरिसिंह रावत ने नेशनल हाईवे के ट्रोमा सेन्टर भीम की ऑर्थोपेडिक विंग में डॉक्टर लगाने की मांग की। सेटेलाइट अस्पताल खोलने, भीम-देवगढ़ के सीएचसी पर जरूरत के अनुसार डॉक्टर नियुक्त करने, कंडम एंबुलेंस की जगह नई की भी मांग की। आयुर्वेदिक, यूनानी और होम्योपैथिक अस्पताल भवन के लिए स्वीकृति भी मांगी।