Hindi News »Rajasthan »Udaipur» एसीबी ने ब्लॉक सीएमएचओ को 1500 की रिश्वत लेते पकड़ा

एसीबी ने ब्लॉक सीएमएचओ को 1500 की रिश्वत लेते पकड़ा

उदयपुर | भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने गुरुवार रात हिरण मगरी सेक्टर छह स्थिति निवास से ब्लॉक सीएमएचओ...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 07:45 AM IST

उदयपुर | भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने गुरुवार रात हिरण मगरी सेक्टर छह स्थिति निवास से ब्लॉक सीएमएचओ डॉ.पृथ्वीराज जीनगर को 1500 रुपए की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार कर लिया। संविदाकर्मी महेश शर्मा से वेतन स्वीकृति के एवज में ब्लॉक सीएमएचओ ने रिश्वत मांगी थी। टीम ने जीनगर के घर से 22 हजार रुपए नकद और चार प्लॉटों के दस्तावेज बरामद किए हैं। एडी.एसपी डॉ.राजेश भारद्वाज ने बताया कि आरोपी रेलमगरा हाल सेक्टर छह निवासी ब्लॉक सीएमएचओ डॉ.पृथ्वीराज पुत्र सोहनलाल जीनगर माछला मगरा स्थित चिकित्सा विभाग के गिर्वा कार्यालय में कार्यरत है। प्रार्थी डबाेक निवासी महेश शर्मा भैसड़ाखुर्द स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में 2016 से मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना के तहत संविदा पर कम्प्यूटर ऑपरेटर पद पर कार्यरत है। शेष | पेज 11

जिसका मासिक वेतन 8500 रुपए है। इसका आठ माह से वेतन बकाया चल रहा था। गत दिनों ही अाए एक माह के वेतन देने के एवज में डॉ.पृथ्वीराज ने प्रार्थी से 2000 हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी। शिकायत पर एसीबी ने इसका सत्यापन किया। डॉ.पृथ्वीराज ने महेश शर्मा से कहा कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर चैक ले लेना और शाम को मेरे घर आकर 1500 रुपए दे देना। इसके बाद प्रार्थी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गया और वहां मौजूद एक नर्सिंग कर्मी की डॉ.पृथ्वीराज से फोन पर बात करवाई और 8500 रुपए का चैक प्रार्थी को सौंप दिया। इसके बाद महेश ने डॉ.पृथ्वीराज को फोन किया तो उसे शाम साढ़े सात बजे हिरण मगरी स्थित अपने घर बुलाया। महेश ने घर पहुंचकर डॉ. जीनगर को 1500 रुपए दिए, इसी दौरान एसीबी की टीम ने उसे रंगे हाथों पकड़ लिया। डॉक्टर जीनगर की प|ी सरकारी टीचर है। घर की तलाशी में प्रतापनगर की श्रीराम कॉलोनी, पुरोहितों की मादड़ी, बेदला स्थित प्लॉट और सेक्टर 6 स्थित घर के दस्तावेज मिले हैं। एसीबी इनकी भी जांच कर रही है। कार्रवाई निरीक्षक हरीशचंद्र सिंह के नेतृत्व में भगवत सिंह, दिनेश मीणा, गजेंद्र, सीताराम आैर मुनीर मोहम्मद की टीम ने की।

पहले भी ले चुका था दस हजार रुपए : एसीबी के निरीक्षक हरीश चंद्र सिंह ने बताया कि प्रार्थी महेश शर्मा 2016 से पहले भी विभाग में संविदा कर्मी के रूप में कार्यरत था। तब भी दस हजार रुपए रिश्वत के रूप में ले लिए थे। प्रार्थी ने एसीबी को जानकारी दी कि ब्लॉक गिर्वा में 23 संविदा कर्मी कार्यरत है और इन सभी के बिल इसी तरह पास होते हैं।

डॉ.पृथ्वीराज जीनगर।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Udaipur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×