--Advertisement--

गोदाम में लगी आग, धुएं से ऊपर मकान में सो रही लड़की की मौत और किसी को पता नहीं

धुआं उठता रहा, लेकिन परिवार के लोगों को पता ही नहीं चला।

Dainik Bhaskar

Nov 26, 2017, 08:32 AM IST
आशिता सेठी। आशिता सेठी।

कोटड़ी. कस्बे के पुराना बस स्टैंड पर शुक्रवार रात 2:30 बजे किराणा गोदाम में लगी आग से ऊपर मकान में सो रहे व्यापारी के परिवार के 10 लोग धुएं से अचेत हो गए। इनमें से एक बालिका की शनिवार को इलाज के दौरान जिला अस्पताल में मौत हो गई, जबकि 5 जने अभी भर्ती हैं। दमकल की मदद से करीब पांच घंटे में आग पर काबू पाया गया। शॉर्ट सर्किट से आग लगना बताया जा रहा है।

- किराणा व्यवसायी अभय कुमार सेठी का परिवार गोदाम व दुकान के ऊपर मकान में सो रहा था। देर रात किराणा दुकान व गोदाम में आग लग गई। धुआं उठता रहा, लेकिन परिवार के लोगों को पता ही नहीं चला। दम घुटने से परिवार 10 लोग अचेत हो गए। अचेत हुए लोगों को कोटड़ी सीएचसी ले जाया गया। हालत गंभीर होने से उन्हें महात्मा गांधी जिला अस्पताल रैफर किया गया।

- इलाज के दौरान आशिता पुत्री मनोज सेठी ने दम तोड़ दिया। जबकि, मकान मालिक अभय कुमार पुत्र घीसा लाल सेठी, पत्नी निर्मला देवी, विद्या कुमार, मनोज कुमार पुत्र अभय कुमार सेठी, आयुष पुत्र विद्या कुमार, शशि पत्नी विद्या कुमार, संतोष पत्नी मनोज कुमार, अभय कुमार की बेटी अंजना पत्नी संजय पाटनी निवासी जावद, बाबू पुत्र मनोज तथा आशिता पुत्री मनोज कुमार सेठी अचेत हो गए। जिनमें से पांच जने भर्ती हैं। शनिवार दोपहर आशिता सेठी का दाह संस्कार किया गया।

आशिता परीक्षा देने नहीं पहुंची, मौत का पता चला तो सहपाठी कोटड़ी पहुंचे

बालिका की मौत पर जैन समाज ने बंद रखी दुकानें...आग लगने के बाद दम घुटने से एक बालिका की मौत से कस्बे में शोक की लहर छा गई। कक्षा 11वीं की छात्रा आशिता पुत्री मनोज सेठी की मौत की सूचना मिलते ही परिवार में हाहाकार मच गया। घटना के बाद शनिवार को जैन समाज के लोगों ने व्यवसाय बंद रखा।

- जहाजपुर विधायक धीरज गुर्जर भी परिवार को ढांढस बंधाने पहुंचे। महात्मा गांधी जिला अस्पताल में भाजपा मंडल अध्यक्ष योगेंद्र सिंह छापड़ेल, पूर्व उपप्रधान मनीष गुर्जर, कांग्रेस नेता नीरज गुर्जर व कोटड़ी सरपंच जमना लाल डीडवानिया ने पहुंचे।

- इधर, आशिता की मौत हो गई, लेकिन उसकी मां संतोष देवी को होश आते ही वह बेटी से मिलने की जिद करने लगी। परिवार के लोगों ने उसकी तबीयत खराब होने से जयपुर इलाज के लिए ले जाने की कहकर सांत्वना दी।

- थानेदार बिजली के खंभे पर चढ़ तीसरी मंजिल पर पहुंचे, खिड़की के कांच तोड़े और लोगों को निकाला

- किराणा व्यापारी के परिवार के लोगों को जिंदगी व मौत से जूझता देख थाना प्रभारी राजेंद्र सिंह बिजली के खंभे के सहारे तीसरी मंजिल पर पहुंचे। छत का रास्ता बंद मिला। धुएं से दम घुटने से परेशान परिवार के लोगों की आवाज सुनकर थाना प्रभारी ने छत पर रखे पत्थर से दरवाजा तोड़ दिया और अंदर पहुंचने की कोशिश की, लेकिन धुआं ज्यादा होने से वे सफल नहीं हो पाए।

- इस पर उन्होंने छत पर रखे रस्से को नीचे लटकाया और उसके सहारे नीचे उतरकर खिड़की के कांच तोड़े और अंदर पहुंच गए। थाना प्रभारी की हिम्मत देखकर वहां मौजूद कुछ युवाओं ने भी व्यापारी के परिवार को बचाने की कोशिश शुरू की। कस्बा निवासी अभिषेक उर्फ प्रमोद पोखरना, बालू लाल सेठी एवं राज कुमार टेलर ने खंभे के सहारे कमरों में पहुंच गए।

- कमरे में देखा तो कुछ लोग अचेत पड़े थे। परिवार के सभी सदस्यों को बाहर निकाला। थाना प्रभारी ने बताया कि धुआं इतना ज्यादा था कि कमरों में सांस भी नहीं ले पा रहे थे। इस कारण बार-बार खिड़की के पास आना पड़ रहा था। कुछ देर बाद ट्रेलर वहां पहुंचा। इसमें सीढ़ी लगाकर अचेत लोगों को बाहर निकाला।

अभय कुमार, विद्या कुमार, मनोज कुमार तथा आयुष की कुछ देर बाद होश आ गया। शेष 6 जनों को भीलवाड़ा रैफर किया गया। लोगों ने शटर तोड़कर आग पर काबू पाने का प्रयास किया।

किराणा गोदाम से सामान निकालते हुए। किराणा गोदाम से सामान निकालते हुए।
X
आशिता सेठी।आशिता सेठी।
किराणा गोदाम से सामान निकालते हुए।किराणा गोदाम से सामान निकालते हुए।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..