• Home
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • Udaipur - गुटों में बंटी कांग्रेस एकजुट हो सड़कों पर उतरी, वामदल भी साथ
--Advertisement--

गुटों में बंटी कांग्रेस एकजुट हो सड़कों पर उतरी, वामदल भी साथ

पेट्रोल, डीजल और गैस की बढ़ती कीमतें और महंगाई के विरोध में कांग्रेस, वामदलों सहित अन्य विपक्षी दलों के भारत बंद के...

Danik Bhaskar | Sep 11, 2018, 07:22 AM IST
पेट्रोल, डीजल और गैस की बढ़ती कीमतें और महंगाई के विरोध में कांग्रेस, वामदलों सहित अन्य विपक्षी दलों के भारत बंद के तहत सोमवार को उदयपुर बंद रहा। 5 दिन में दूसरी बार बंद से बाजार प्रभावित रहा। सुबह 9 बजे से दोपहर 3 बजे तक मेडिकल स्टोर और स्वास्थ्य से जुड़ी इमरजेंसी सेवाओं को छोड़ सभी संस्थान बंद रहे। चैम्बर ऑफ कॉमर्स और अन्य व्यापारी संगठनों के समर्थन मिलने के बाद लगभग सभी दुकानें, शो-रूम सहित पेट्रोल पम्प, ठेला व्यापारी, सब्जी मार्केट, डेयरियां तक बंद रही। कांग्रेसी सहित अन्य बंद समर्थन सुबह 8.30 बजे से दिल्ली गेट पर एकत्रित होना शुरू हुए। बरसात के चलते सुबह 9.30 बजे के बाद कांग्रेसियों ने दिल्ली गेट से शुरू कर पूरे शहर में घूम कहीं-कहीं खुले प्रतिष्ठानों को बंद कराया। दोपहर 3 बजे बाद शहर में ज्यादातर बाजार खुल गए। बंद के दौरान कहीं भी हिंसा, मारपीट, झड़प या बहसबाजी जैसे वाकये देखने को नहीं मिले। हालांकि नारेबाजी और रैली से कहीं-कहीं राहगीरों को दिक्कतें हुईं। जिलाध्यक्ष गोपाल शर्मा ने बताया कि अपनी मर्जी से जनता ने इस बंद में सहयोग किया है इससे पता चलता है कि जनमानस क्या है। चौराहे और मुख्य बाजारों में पुलिस तैनात रही। साथ ही रैली के साथ-साथ दो-दो पुलिस वाहन साथ चलते रहे।

डबोक | भारत बंद के तहत खेमली ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष मांगी लाल मेघवाल के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने डबोक व आस पास के क्षेत्र में पेट्रोल पंप, दुकानें आदि शांतिपूर्ण सफल बंद करवाने में योगदान दिया।

5 दिन में दूसरा बंद... शांतिपूर्ण रहे हालात

दुकानें, ठेले-थड़ियां, सब्जी मार्केट सहित पेट्रोल पम्प, डेयरियां तक बंद

बंद के दौरान पूर्व सांसद रघुवीर मीणा कार्यकर्ताओं के साथ।

बाजार में ज्यादातर कारोबार प्रभावित

व्यापारिक संगठनों के मुताबिक शहर भर में 40 करोड़ से ज्यादा का कारोबार प्रभावित होने का अनुमान है। 28 पेट्रोल पम्पों का लगभग 18 करोड़ का कारोबार प्रभावित हुआ।

कई बैंकों को भी कराया बंद

शहर में एकजुट दिखी कांग्रेस

बंद के दौरान उदयपुर में कांग्रेस काफी समय बाद एकजुट दिखी। इससे जुडे सभी संगठनों के पदाधिकारी और नेता बंद में शामिल हुए। सीडब्ल्यूसी मेंबर रघुवीर मीणा ने बंद की अगुवाई की। वहीं शहर कांग्रेस से गोपाल शर्मा, पंकज शर्मा, देहात से सज्जन कटारा, विवेक कटारा, शहर से दिनेश श्रीमाली, सेवादल के गोपाल नागर, नेता प्रतिपक्ष मोहसीन खान, कांग्रेस विचार विभाग अध्यक्ष प्रो.पीआर व्यास, महिला कांग्रेस की शांता प्रिंस, प्रवक्ता फिरोज शेख और सुधीर जोशी सहित ज्यादातर कांग्रेसी बंद में शामिल रहे। हालांकि कांग्रेस देहात अध्यक्ष लालसिंह झाला के परिवार में निधन होने से वे और उनके पुत्र यूथ कांग्रेस के जिलाध्यक्ष अभिमन्यु झाला बंद में शामिल नहीं हो पाए। कुशलेश चौधरी की अगुवाई में एनएसयूआई भी कॉलेज-यूनिवर्सिटी में बंद के दौरान सक्रिय दिखी।

बंद समर्थकों ने टाउनहॉल, शास्त्री सर्किल, चेटक सर्किल, सहेली मार्ग, गोवर्धन विलास, हिरण मगरी, अशोक नगर और बापू बाजार में कई बैंकों और एटीएम के शटर भी गिरवाए।

निजी स्कूल बंद रहे, सरकारी में भी रहा छुट्टी सा माहौल

निजी स्कूल बंद रहे, वहीं सरकारी स्कूलों में शिक्षक और छात्र काफी कम संख्या में पहुंचे। कॉलेज और यूनिवर्सिटी में मिलाजुला असर रहा।

बाजार से ठेले रहे नदारद, थड़ियां भी बंद दिखी

बंद काे ठेला यूनियनों का समर्थन मिलने से ठेले भी नदारद रहे। सड़कों पर चाय की थड़ियां और फल-सब्जी के ठेले भी दिखाई नहीं दिए।

स्वास्थ्य सेवाएं रही बंद से मुक्त

मेडिकल, डायग्नोस्टिक सेंटर, अस्पताल और एम्बुलेंस सेवाओं को पूरी तरह बंद से मुक्त रखा गया। एमबी सहित सभी अस्पताल खुले थे।

वामदलों ने ऑटो-बाइक से निकाली रैली, किया विरोध

वामदलों ने सूरजपोल चौराहे पर एकत्र होकर अलग-अलग क्षेत्रों में बाइक और ऑटो से बंद की अपील की। पारस तिराहे पर टायर जलाकर और बैंक तिराहे पर नारेबाजी विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शन में जिला माकपा सचिव प्रताप सिंह देवड़ा, शहर सचिव राजेश सिंघवी, भाकपा माले के राज्य कमेटी सदस्य शंकरलाल चौधरी, पार्षद राजेन्द्र वसीटा, ठेला यूनियन के अध्यक्ष गुमानसिंह राव आदि थे।

उदयपुर. बंद पेट्रोल पम्प के बाहर तैनात पुलिसकर्मी।

पेट्रोल पम्प बंद