--Advertisement--

भीषण हादसा / क्षमता से ज्यादा सवारियां न बैठी होती तो बच जाती आठों जिंदगी



उदयपुर. सलूंबर के पास हादसे के बाद का भयावह मंजर, क्षतिग्रस्त कार और बिखरे पड़े क्षत-विक्षत शव। उदयपुर. सलूंबर के पास हादसे के बाद का भयावह मंजर, क्षतिग्रस्त कार और बिखरे पड़े क्षत-विक्षत शव।
X
उदयपुर. सलूंबर के पास हादसे के बाद का भयावह मंजर, क्षतिग्रस्त कार और बिखरे पड़े क्षत-विक्षत शव।उदयपुर. सलूंबर के पास हादसे के बाद का भयावह मंजर, क्षतिग्रस्त कार और बिखरे पड़े क्षत-विक्षत शव।
  • जयसमंद-सलूंबर मार्ग पर खेराड़ गांव के पास

Dainik Bhaskar

Oct 14, 2018, 06:03 AM IST

उदयपुर/जयसमंद.  उदयपुर जिले में सलूंबर मार्ग पर हुए भीषण सड़क हादसे में अाठ लोगों की जान चली गई। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार कार में क्षमता से ज्यादा सवारियां होना व ओवर स्पीड होना ही हादसे का प्रमुख कारण रहा। हादसे के दौरान आस-पास खड़े लोगों ने बताया कि डंपर चालक डंपर को साइड में खड़ा कर ढाबे पर चाय पीने गया था।

 

इस दौरान काफी रफ्तार से अनियंत्रित कार आई और डंपर से जा भिड़ी। उदयपुर एमबी अस्पताल में भर्ती घायल अध्यापिका पायल सेवक ने भास्कर को बताया कि कार स्कूल संचालिका प्रेक्षा चौधरी चला रही थी। मैं पीछे की सीट पर बैठी हुई थी। गाड़ी चला रही प्रेक्षा की गोद में भी उनकी बच्ची बैठी थी। खेराड गांव के पास गोद में बैठी बच्ची को संभालने के चक्कर में गाड़ी अनियंत्रित हो गई। उधर सामने से एक और गाड़ी आ रही थी। उससे बचाने के चक्कर में ट्रक से कार जा भिड़ी।

 

हादसे में घायल स्कूल संचालिका प्रेक्षा चौधरी का इलाज इमरजेंसी के ऑब्जरवेशन रूम में किया जा रहा है। हादसे में प्रेक्षा की बेटी गौरी की भी मौत हो गई। प्रेक्षा सदमें में है और फिलहाल कुछ भी नहीं बोल पा रही हैं। हादसे में घायल एक बच्चा शाम को होश में आया। बच्चे ने भास्कर को बताया कि कार प्रेक्षा मैम चला रही थीं। कार आगे खड़ी गाड़ी से टकरा गई। जिला कलेक्टर ने हादसे के साथ स्कूल की जांच कराने की बात कही है।

 

शव लेने से इनकार, कार्रवाई की मांग : सलूंबर में पोस्टमार्टम के बाद अध्यापिका मोनिका खटीक का शव परिजनों ने लेने से इनकार कर दिया। उन्होंने मांग की कि स्कूल के खिलाफ कार्रवाई हो। इसे लेकर लोगों ने प्रदर्शन भी किया। उपखंड अधिकारी और जनप्रतिनिधियों की समझाइश के बाद मामला शांत हुआ। पुलिस ने मृतकों का पोस्टमार्टम करा शव परिजनों को सौंपा।

 

मासूम तड़पता रहा, लोग वीडियो बनाते रहे : हादसे के दौरान मानवता को शर्मसार कर देने वाली कई बातें भी देखने को मिलीं। हादसे के बाद एक मासूम दूर जा गिरा और तड़प रहा था लेकिन कई राहगीर उनकी मदद करने के बजाय मोबाइल से वीडियो बना रहे थे। सोशलमीडिया पर अपलोड करने की जल्दी में थे।

 

एसपी राष्ट्रदीप बोले- स्कूल संचालक की लापरवाही, फीस ली, गाड़ियों का इंतजाम नहीं किया : स्कूल संचालिका और कार चला रही प्रेक्षा चौधरी के पति कमलेश चौधरी ने उदयपुर में घटना की सफाई देते हुए कहा कि कार ट्रक से नहीं टकराई बल्कि ट्रक ने खड़ी कार को टक्कर मार दी। इधर, पुलिस अधीक्षक कुंवर राष्ट्रदीप ने कहा है कि घटना में स्कूल संचालक की घोर लापरवाही रही है। 5 सीटर कार में 11 शिक्षिकाओं-बच्चों पिकनिक पर भेज दिया गया। स्कूल संचालक ने बच्चों से फीस लेकर भी गाड़ियों का इंतजाम नहीं किया। पुलिस जांच कर रही है। दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

 

सीएम राजे और पायलट ने जताई संवेदना : इस भीषण हादसे पर सीएम वसुंधरा राजे और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ने ट्वीट कर संवेदना जताई है। वहीं हादसे के करीब साढ़े पांच घंटे बाद उदयपुर जिला कलेक्टर बिष्णु चरण मल्लिक और पुलिस अधीक्षक कुंवर राष्ट्रदीप भी शाम चार बजे घटनास्थल पर पहुंचे। कलेक्टर ने हादसे के साथ स्कूल की जांच कराने की बात कही और मृतकों को सवा-सवा लाख रुपए देने की घोषण की है। 

 

वीकेंड पर पिकनिक मनाने जा रहे थे : शनिवार सुबह स्कूल में पैरंट्स मीटिंग हुई। इसके बाद वीकेंड पर पिकनिक मनाने के लिए बच्चों के साथ शिक्षक जयसमंद झील रवाना हुए। जयसमंद से 6 किलोमीटर पहले ही हादसा हो गया। हादसे के बाद स्कूल के साथ आस-पास के कई गांवों में मातम पसर गया।

 

अस्पताल में लोगों की भीड़ जमा हो गई। जिस कार से हादसा हुआ वह शिक्षिका ने 4 दिन पहले ही खरीदी थी। हादसे में अलवर निवासी सरोज पत्नी देवेंद्र सिंह और उसके बेटे लक्ष यादव की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। सरोज के पति देवेंद्र सिंह शेषपुर राजकीय विद्यालय में शिक्षक हैं। पूरा परिवार सलूंबर में रहता है। मोनिका निजी विद्यालय में पढ़ाकर अपनी मां का भरण पोषण करती थी।

--Advertisement--
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..