• Home
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • करंट से झुलस कर अंग गंवाने वाले किशोर को 20 लाख का मुआवजा दे बिजली निगम
--Advertisement--

करंट से झुलस कर अंग गंवाने वाले किशोर को 20 लाख का मुआवजा दे बिजली निगम

सलूंबर तहसील के उथरदा गांव में डेढ़ वर्ष पहले मकान में बिजली की हाई पावर लाइन के करंट से झुलस कर अपाहिज हुए किशोर के...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 06:20 AM IST
सलूंबर तहसील के उथरदा गांव में डेढ़ वर्ष पहले मकान में बिजली की हाई पावर लाइन के करंट से झुलस कर अपाहिज हुए किशोर के जीवन यापन के लिए 20 लाख रुपए मुआवजा देने का आदेश स्थाई लोक अदालत ने अजमेर विद्युत वितरण निगम प्रबंधन को दिया। हादसे में चार जने करंट से झुलसे थे, जिनमें से एक की मृत्यु हो गई थी।

स्थायी लोक अदालत के अध्यक्ष के.बी. कट्टा, सदस्य सुशील कोठारी व बृजेंद्र सेठ ने हादसे का जिम्मेदार विद्युत निगम काे मानने के साथ माल दास स्ट्रीट में सुराणा सेहरी निवासी 13 साल के भावेश स्वर्णकार के साथ हुई इस दुर्घटना का दोषी निगम के अधिकारियों को माना। स्थाई लोक अदालत में एवीवीएनएल के खिलाफ वाद भावेश ने अपने संरक्षक मेनार निवासी हीरालाल के जरिए दर्ज कराया था। गौरतलब है कि भावेश 29 अगस्त 2016 को पिता के साथ उथरदा में रिश्तेदार शांति लाल के घर शादी में गया था, जो पूनम चंद सोनी के घर में किराए पर रहता था। भावेश हम उम्र बच्चों के साथ खेल रहा था। उसने मकान की पहली मंजिल की खिड़की खोली कि बाहर से टच हो रहे 11 केवीए हाईपावर लाइन से जोरदार करंट लगा। किशोर को बचाने के प्रयास में राकेश, हितेश, हेमलता व दिनेश भी करंट से चिपक गए थे। भावेश व हितेश को इलाज के लिए अहमदाबाद के सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया था, हितेश की मृत्यु हो गई थी। इसका प्रकरण सलूंबर न्यायालय में विचाराधीन है। अहमदाबाद में चिकित्सकों ने भावेश के झुलसे अंगों में जहर फैल जाने से एक हाथ काट दिया था। दूसरे हाथ का अंगूठा व उंगलियां काटनी पड़ी थीं। भावेश का एक कान भी बाहर से काटा गया था, जबकि एक पांव पूरी तरह से अयोग्य करार दिया था। स्थाई लोक अदालत ने 20 लाख रुपए एकमुश्त ब्याज सहित देने का आदेश दिया। बताया गया कि भावेश जब करंट से झुलसा था, तब सातवीं का छात्र था। शत प्रतिशत झुलसने से वह आगे पढ़ने-लिखने के काबिल नहीं रहा।

इन्होंने की निस्वार्थ भाव से मदद

भावेश के केस की निशुल्क पैरवी अधिवक्ता ललित सोनी व गीत तलेसरा ने की। किशोर के इलाज और दवाइयों की निशुल्क व्यवस्था मेढ़ क्षत्रिय स्वर्णकार समाज जागृति संस्थान के अध्यक्ष किशन सोनी व उनकी टीम ने की थी।