Hindi News »Rajasthan »Udaipur» घोड़े-गधे और खच्चरों के भी दस्तावेज जांचेंगे पुलिस व परिवहन विभाग

घोड़े-गधे और खच्चरों के भी दस्तावेज जांचेंगे पुलिस व परिवहन विभाग

अब पुलिस और परिवहन विभाग जिले में आने और यहां से जाने वाले घोड़े-गधों और खच्चरों की भी जांच करेंगे। पड़ताल इनके...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 02, 2018, 07:00 AM IST

घोड़े-गधे और खच्चरों के भी दस्तावेज जांचेंगे पुलिस व परिवहन विभाग
अब पुलिस और परिवहन विभाग जिले में आने और यहां से जाने वाले घोड़े-गधों और खच्चरों की भी जांच करेंगे। पड़ताल इनके ग्लैंडर्स निगेटिव-पॉजिटिव होने संबंधी रिपोर्ट की होगी। निगेटिव घोड़े-खच्चरों को आने-जाने देंगे, लेकिन पॉजिटिव की सूचना तुरंत पशुपालन विभाग को दी जाएगी। जांच रिपोर्ट नहीं होने पर ऐसे घोड़े-घोड़ी न जिले के अंदर आ सकेंगे, न बाहर जा सकेंगे। कलेक्टर बिष्णुचरण मल्लिक ने भास्कर को बताया कि पशुपालन विभाग ने केन्द्र सरकार की गाइड लाइन के तहत इस व्यवस्था लागू कराने की सिफारिश की थी। इस पर मुहर लगा दी गई है। विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. ललित जोशी ने बताया कि दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश सहित अन्य राज्यों से आने वाले ज्यादातर अश्व वंशी ग्लैंडर्स रोग से ग्रस्त पाए जा रहे हैं। इस जानलेवा संक्रामक रोग से इंसानों को भी खतरा है।

होगी निगेटिव-पॉजिटिव रिपोर्ट की पड़ताल, उदयपुर में कलेक्टर ने जारी किए आदेश

इसलिए बढ़ी चिंता : इस साल ग्लैंडर्स ग्रस्त बता दो खच्चर मारकर दफनाए, पिछले साल 27 मारे थे

डॉ. जोशी ने बताया कि हाल ही उत्तर प्रदेश से आए दो खच्चर ग्लैंडर्स पॉजिटिव पाए गए थे। इन्हें नियमानुसार इंजेक्शन से मारकर दफना दिया गया है। मौजूदा साल में पहली बार ये दो नए केस सामने आने से विभाग फिर अलर्ट हो गया है। पिछले साल उदयपुर संभाग में रोग और आशंका पर ऐसे 10 घोड़े मार दिए गए थे, जबकि प्रदेश में यही संख्या 27 थी। राजसमंद में जांच रिपोर्ट आने से पहले अश्व को मारने का मामला सुर्खियों में रहा। जांच रिपोर्ट के हवाले से डॉ. जोशी ने दावा किया कि उदयपुर जिले के सभी घोड़े-घोड़ी स्वस्थ हैं, लेकिन सबसे ज्यादा खतरा उत्तर प्रदेश से आने वाले अश्वों से है।

शादी समारोह में एक बार लगा चुके रोक

पशुपालन विभाग ने उदयपुर, राजसमंद, अजमेर और धौलपुर में शादी समारोह में घोड़ा-घोड़ी के इस्तेमाल पर पाबंदी लगा दी थी। अश्वपालकों के विरोध के चलते टेस्टेड घोड़ों से पाबंदी हटानी पड़ी थी।

संक्रमण से बचने 10 फीट गहरे गड्ढे में करते हैं दफन

प्रदेश में ग्लैंडर्स का पहला केस नवंबर 2016 में धौलपुर में मिला था। इंसानों में इस बीमारी से संक्रमण का खतरा इतना ज्यादा है कि अश्वों को मारने के बाद 10 फीट तक गहरे गड्ढे में दफन किया जाता है। डॉक्टर बताते हैं कि यह बीमारी छूने से फैल सकती है। पशु के संपर्क में आने से मनुष्य में भी बीमारी हो सकती है। रोकथाम का कोई टीका ईजाद नहीं किया जा सका है। रोग ग्रस्त घोड़े-घोड़ी के शरीर में गांठें होने लगती हैं। धीरे-धीरे ये गांठें जानलेवा बन जाती हैं। नाक और मुंह से लगातार पानी बहता रहता है। सम्पर्क में आने वाला हर जानवर और यहां तक कि इंसान भी इसका शिकार बन जाता है।

प्रदेश में 30 हजार और उदयपुर में 750 घोड़े

अकेले उदयपुर में अश्वों की संख्या करीब 750 है।

एक घोड़े की औसत कीमत 2 लाख।

कुल कीमत : 15 करोड़ रुपए। प्रदेश में करीब 30 हजार अश्व।

कुल कीमत : 600 करोड़

सबके पास निगेटिव रिपोर्ट है, दिखाने में ऐतराज नहीं

पशुपालन विभाग से घोड़े-घोड़ियों की ग्लैंडर्स निगेटिव जांच रिपोर्ट मिल चुकी है, जो सबके पास सुरक्षित है। रिपोर्ट दिखाने में कोई एेतराज नहीं हैं, लेकिन रिपोर्ट खो जाने पर फिर से जांच भी जल्दी होनी चाहिए। जितेन्द्र खत्री, पूर्व अध्यक्ष घोड़ा-घोड़ी तांगा मजदूर यूनियन, उदयपुर

घोड़े-घोड़ियों की तीन-तीन बार जांच करा चुके हैं। हिसार से आई जांच रिपोर्ट हमारे पास है। साथ रखने में कोई परेशानी नहीं है। हकीम भाई घोड़ीवाला, उदयपुर

India Result 2018: Check BSEB 10th Result, BSEB 12th Result, RBSE 10th Result, RBSE 12th Result, UK Board 10th Result, UK Board 12th Result, JAC 10th Result, JAC 12th Result, CBSE 10th Result, CBSE 12th Result, Maharashtra Board SSC Result and Maharashtra Board HSC Result Online
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Udaipur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: घोड़े-गधे और खच्चरों के भी दस्तावेज जांचेंगे पुलिस व परिवहन विभाग
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Udaipur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×