Hindi News »Rajasthan »Udaipur» अस्थायी समाधान : वार्ड पांच-छह में कराएंगे सीजेरियन और सामान्य प्रसव, एमबी के एंडोस्कोपी रूम में होगी गायनिक सर्जरी

अस्थायी समाधान : वार्ड पांच-छह में कराएंगे सीजेरियन और सामान्य प्रसव, एमबी के एंडोस्कोपी रूम में होगी गायनिक सर्जरी

जिला प्रशासन के जनाना अस्पताल को खाली करने के बाद बुधवार को शिफ्टिंग की अंतिम रूपरेखा तय की गई। अब...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 12, 2018, 07:05 AM IST

अस्थायी समाधान : वार्ड पांच-छह में कराएंगे सीजेरियन और सामान्य प्रसव, एमबी के एंडोस्कोपी रूम में होगी गायनिक सर्जरी
जिला प्रशासन के जनाना अस्पताल को खाली करने के बाद बुधवार को शिफ्टिंग की अंतिम रूपरेखा तय की गई। अब सामान्य-सीजेरियन प्रसव कॉटेज के पीछे वार्ड नंबर 5 और 6 में कराए जाएंगे। गायनिक सर्जरी एमबी के एंडोस्कोपी रूम में कराई जाएंगी। गर्भवती महिलाओं को कोई परेशानी न हो, इसके लिए ब्लड बैंक में 6 खिड़कियां खोली गई हैं। यहां जनाना की इमरजेंसी भी शिफ्ट कर शुरू कर दी गई है। ताकि आउटडोर में दिखाने से लेकर भर्ती होने तक की सभी पर्चियां कटने और सोनोग्राफी जांच एक ही छत के नीचे हो सके। एंटीनेटल क्लीनिक (प्रसव पूर्व जांच) के बाहरी हिस्से में अब गायनिक आउटडोर रहेगा। पीछे की ओर एंटीनेटल क्लीनिक चलेगा। अस्पताल अधीक्षक डॉ. सुनीता माहेश्वरी ने बताया कि एंटीनेटल क्लीनिक के पास ही कमरे में सोनोग्राफी की रसीद मिलेगी। जांच के साथ रिपोर्ट भी वहीं दे दी जाएगी। ताकि गर्भवती महिलाओं को जांच के लिए भटकना नहीं पड़े। पहले सोनोग्राफी जांच एमबी में होती थी। बता दें कि दैनिक भास्कर लगातार गर्भवती-प्रसूताओं और नवजातों सी जुड़ी इस समस्या के समाधान के लिए प्रशासन को आगाह करता आ रहा है।

परीक्षा भवन में शिफ्ट कराने 24 घंटे तैनात रहेंगी एंबुलेंस

सामान्य और सीजेरियन प्रसव अब कॉटेज वार्ड के पीछे स्थित पुराने 5 और 6 नंबर वार्ड में कराए जाएंगे। प्रसव के बाद ऐसी सभी प्रसूताओं को परीक्षा हॉल के तीनों फ्लोर में शिफ्ट किया जाएगा। इसके लिए वहां करीब 180 बेड लगाए जा रहे हैं। प्रसूताओं को लाने-ले जाने के लिए एंबुलेंस की भी सुविधा 24 घंटे मुहैया कराई जाएगी।

जनाना का दफ्तर परीक्षा भवन के फोर्थ फ्लोर पर चलेगा।

अब गायनिक सर्जरी एंडोस्कोपी में रूम में होगी। सर्जरी के बाद महिलाओं को पोस्ट ऑपरेटिव 30 बैड्स के वार्ड-11 डी में रखा जाएगा, जहां जो अभी पुरुष सर्जिकल वार्ड है।

सिक्स विंडो सिस्टम लागू करने से ये सुविधाएं मिलेगी

एंटीनेटल क्लीनिक में सिक्स विंडो सिस्टम लागू करने से गायनिक आउटडोर, गायनिक आईपीडी, भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना, एंटीनेटल दवा पर्ची और सोनोग्राफी की पर्चियों के लिए गर्भवतियों को इधर-उधर चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। इससे छोटे एंटीनेटल क्लीनिक में भीड़भाड़ भी नहीं होगी और काम भी आसान हो सकता है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Udaipur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×