उदयपुर

  • Home
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • प्रशासन की कोई तैयारी नहीं, खुदी सड़कें और बेतरतीब झूलते तारों के बीच निकलेगी रथयात्रा!
--Advertisement--

प्रशासन की कोई तैयारी नहीं, खुदी सड़कें और बेतरतीब झूलते तारों के बीच निकलेगी रथयात्रा!

शहर में 14 जुलाई को निकलने वाली विशाल जगन्नाथ रथयात्रा की तैयारियों में विभिन्न समाज-संगठन जुटे हुए हैं। हर ओर...

Danik Bhaskar

Jul 12, 2018, 07:10 AM IST
शहर में 14 जुलाई को निकलने वाली विशाल जगन्नाथ रथयात्रा की तैयारियों में विभिन्न समाज-संगठन जुटे हुए हैं। हर ओर भक्ति-आस्था और उत्साह का माहौल है। वहीं प्रशासनिक स्तर पर रथयात्रा मार्ग की सड़कें दुरुस्त नहीं करने, अवरुद्ध को नहीं हटाने से लोगों में भारी आक्रोश है। जगन्नाथ रथ यात्रा समिति अध्यक्ष दिनेश मकवाना ने बताया कि रथयात्रा की तैयारियों में प्रशासन के असहयोग से कार्यकर्ताओं में भारी आक्रोश है। प्रशासन ने रथयात्रा को सुगम तरीके से निकलवाने के लिए कोई प्रयास नहीं किए हैं। रथ यात्रा मार्ग में जगह-जगह सड़कें खुदी हैं। हादसे को न्यौता देते बिजली के तार झूल रहे हैं, जबकि 20 फीट की ऊंचाई तक तार नहीं होने चाहिए। इसके लिए प्रशासन ने अभी तक कोई रूट मार्च नहीं निकाला है। हालांकि विरोध के चलते रूट मार्च गुरुवार को दोपहर 12.30 बजे होगा। वहीं जगन्नाथ धाम सेक्टर-7 का रथ प्रथम चरण में बनकर तैयार हो गया है। रथ निर्माण संघ अध्यक्ष डाॅ. प्रदीप कुमावत ने बताया कि यह रथ मेवाड़ के स्थापत्य के अनुरूप नवनिर्मित रथ नंदी घोष जो आसाम से मंगाई सागवान की लकड़ी से बनाया गया है। 21 किमी की इस यात्रा का यह नवीन रथ नंदी घोष ध्वजा सहित 21 फीट ऊंचा है। द्वितीय चरण में स्वर्ण रथ बनाने की योजना है। अभी पालिश कर रथ को लोगों के दर्शनार्थ उतारा जाएगा। जिस पर प्रभु नगर भ्रमण पर निकलेंगे।

उदयपुर. रथ की पूजा करते आयोजन समिति के पदाधिकारी।

21 बंदूकों से देंगे सलामी, चक्र पूजन किया, आमंत्रण यात्रा निकालेंगे

शिवसिंह सोलंकी ने बताया कि सिन्धु ब्रिगेड 14 जुलाई को जगन्नाथ धाम सेक्टर-7 से निकलने वाली रथ यात्रा का शुभारंभ 21 बंदूकों की सलामी से करेगा। इससे पहले सेक्टर-7 के रथ को गंगाजल, गोमूत्र से धोया गया। चक्र पूजन विधान के साथ नए रथ को जोड़ने का काम किया गया। जगन्नाथ धाम सेक्टर-7 समिति, आलोक इन्टरेक्ट क्लब, रथ निर्माण संघ निश्चय कुमावत, शशांक टांक, नारायण चौबीसा के नेतृत्व में संतोषी माता मंदिर, झीणीरेत, गुलाबबाग से दोपहर 1.30 बजे आमंत्रण यात्रा निकलेगी। रथ यात्रा में शामिल होने और बापू बाजार में महाआरती करने का न्योता दिया जाएगा।

आठ हजार घरों में फहराई धर्म ध्वजाएं, महिला-पुरुष सब खीचेंगे रथ

रथयात्रा के लिए अभी तक 8000 से अधिक घरों में धर्म ध्वज फहरा दिए गए हैं। इस बार रथयात्रा 2 किमी लंबी हो सकती हैं। क्योंकि, सांकेतिक हाथी-घोड़े, बैंड-ढोल, भजन मंडली झांकियां, रामरेवाडिय़ा, पालकी रथ सहित अनेक साधन रथयात्रा की शान बढ़ाएंगे। खास बात यह है कि भगवान जगन्नाथ के मुख्य रथ को सभी महिला-पुरुष नंगे पैर और मेवाड़ी वेशभूषा के साथ खींच सकेंगे। रथ में ओसरेदार पुजारी रामगोपाल सहित पुजारी परिवार के 4 चार सदस्य एक समय में बारी-बारी से अपनी सेवाएं देंगे। रमेश लालवानी, कैलाश जीनगर, घनश्याम चावला, राजेन्द्र श्रीमाली, पंकज पालीवाल, लाला वैष्णव, इकबाल अली, डॉ. प्रदीप कुमावत आदि मौजूद थे।

Click to listen..