--Advertisement--

सुख कुछ लेकर और दुख कुछ देकर ही जाता है

उदयपुर | शिव मंदिर, सेक्टर 3 में बुधवार को पूर्णाहुति यज्ञ के साथ श्रीमद्भागवत कथा का समापन हुआ। कथा वाचक पं. स्कन्द...

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2018, 07:25 AM IST
सुख कुछ लेकर और दुख कुछ देकर ही जाता है
उदयपुर | शिव मंदिर, सेक्टर 3 में बुधवार को पूर्णाहुति यज्ञ के साथ श्रीमद्भागवत कथा का समापन हुआ। कथा वाचक पं. स्कन्द कुमार पंड्या ने कहा कि हरि कथा कभी समाप्त नहीं होती। इस धर्म यात्रा का कुछ समय के लिए ठहराव जरूर हो जाता है। जगत शिरोमणि मंदिर में भजन कीर्तन हुए। अस्थल आश्रम में महंत रासबिहारी शरण शास्त्री ने सत्संग, दान का महत्व बताया। सूर्येश्वर महादेव मंदिर, तीतरड़ी में कथा वाचक पुष्करदास महाराज ने कहा कि सुख जब भी आता है तो कुछ लेकर ही जाता है। जबकि दुख इंसान को बहुत कुछ देकर जाता है।

कई जगह पुरुषोत्तम कथा का समापन

जगन्नाथ स्वामी की निकली शोभायात्रा

थूर में राम महायज्ञ की पूर्णाहुति

थूर गांव के थूरेश्वर महादेव मंदिर, हनुमान टेकरी पर पुरुषोत्तम मास पर शुरू हुए राम महायज्ञ की पूर्णाहुति हुई। रमेश पटेल ने बताया कि स्वामी मुनीषानंद के सानिध्य में कथावाचक मोतीलाल चौबीसा ने पुरुषोत्तम कथा के प्रसंग सुनाए। मास पर्यंत रूद्राभिषेक, विष्णु सहस्र नाम व राम चरित्र मानस पाठ भी हुए।

तैलिक साहू समाज पंच महासभा ने बुधवार भगवान जगन्नाथ स्वामी की भव्य शोभायात्रा निकाली। महिला-पुरुष श्रद्धालु भक्ति गीतों पर झूमे। भगवान जगन्नाथ स्वामी के जय घोष गूंजे। यात्रा से पहले हनुमान चौक में धर्मसभा हुई।

X
सुख कुछ लेकर और दुख कुछ देकर ही जाता है
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..