• Home
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • शॉर्ट सर्किट से कार में आग ममेरे भाई जिंदा जल गए
--Advertisement--

शॉर्ट सर्किट से कार में आग ममेरे भाई जिंदा जल गए

गोगुंदा। हादसे के बाद घटनास्थल पर पूरी तरह से जली कार। उदयपुर/गोगुंदा | जिले के गोगुंदा थाना क्षेत्र में बुधवार...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 07:35 AM IST
गोगुंदा। हादसे के बाद घटनास्थल पर पूरी तरह से जली कार।

उदयपुर/गोगुंदा | जिले के गोगुंदा थाना क्षेत्र में बुधवार देर रात जसवंतगढ़ के पास हाइवे पर एक कार अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकरा गई। टक्कर के बाद शार्ट सर्किट से कार में आग लग गई, जिससे उसमें सवार दो लोग जिंदा जल गए। दोनों मृतक नागौर के रहने वाले थे और रिश्ते में ममेरे भाई थे। जसवंतगढ़ गोगुंदा के पास बुधवार रात करीब एक बजे तेज गति से जा रही कार अनियंत्रित होकर डिवाइडर से भिड़ गई। टकराते ही कार के इंजन में आग लग गई, जो कुछ ही क्षणों में भीषण हो गई। कार में सवार दोनों युवक आग की चपेट में आ गए। एक युवक झुलसी और घायल हालत में बाहर निकला पर दम तोड़ दिया। दूसरा युवक सीट पर ही जिंदा जल गया। इस बीच गश्त कर रहे गोगुंदा थानेे केे एएसआई रूपलाल डांगी और एएसआई नारायणसिंह मय जाप्ता मौके पर पहुंचे। उनकी सूचना पर रात 2.15 बजे फायर ब्रिगेड ने मौके पर पहुंचकर आग पर काबू पाया। उछलकर सड़क पर गिरे युवक के पास मिले मोबाइल के आधार पर उसकी पहचान नागौर के सांवरदा निवासी मुकेश (35) पुत्र राजूराम जांगिड़ तथा उसके ममेरे भाई बंटी (33) पुत्र रघुनाथ जांगिड़ के रूप में हुई। शव को गोगुंदा सीएचसी पहुंचाया गया। मृतकों के परिजन शाम तक गोगुंदा पहुंच गए।

काफी स्पीड में थी कार

दीवार तक खिसक गई

कार की गति तेज होने के कारण जैसे ही कार डिवाइडर की दीवार से टकराई। कार पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई और दीवार भी खिसक गई। कार से कुछ ही मिनट में तेज लपटें उठने लगीं। पुलिस के अनुसार लपटें इतनी तेज थीं कि काफी दूर से भी नजर आ रही थीं। कुछ राहगीर हादसे के बाद मौके पर रुके, लेकिन लपटों को देखकर उनकी पास जाने की हिम्मत नहीं हुई।

फर्नीचर का काम करते थे, जियारत कर लौट रहे थे

मृतक मुकेश तथा बंटी रिश्ते में मामा-बुआ के भाई थे। दोनों बड़ौदा में रहकर फर्नीचर बनाने का काम करते थे। पुलिस को जानकारी मिली कि दोनों बड़ौदा से ऊंझा गए थे। वहां धार्मिक स्थल पर जियारत के बाद वापस लौटते समय दोनों सिरोही, गोगुंदा होकर वापस बड़ौदा लौट रहे थे। इस बीच रास्ते में ये हादसा हो गया।

मुकेश ने बंटी को खींचने की कोशिश की, सफल नहीं हुआ

हालात देखकर पता चला कि कार संभवतया मुकेश चला रहा था, जो हादसे के बाद घायल होने के साथ ही बुरी तरह झुलस गया। वह किसी तरह बाहर निकला। उसने बगल की सीट पर बैठे बंटी को खींचकर बाहर निकालने की कोशिश की, पर सफल नहीं हो पाया।