• Home
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • Udaipur - नगर निगम, जल संसाधन, शिक्षा विभाग के 1000 में से 237 अधिकारी दफ्तरों में नहीं मिले
--Advertisement--

नगर निगम, जल संसाधन, शिक्षा विभाग के 1000 में से 237 अधिकारी दफ्तरों में नहीं मिले

प्रशासनिक सुधार विभाग जयपुर की टीम ने मंगलवार को शिक्षा विभाग, नगर निगम, जल संसाधन सहित विभिन्न विभागों में औचक...

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 06:50 AM IST
प्रशासनिक सुधार विभाग जयपुर की टीम ने मंगलवार को शिक्षा विभाग, नगर निगम, जल संसाधन सहित विभिन्न विभागों में औचक निरीक्षण कर अधिकारियों और कर्मचारियों की उपस्थिति की जांच की। संयुक्त शासन सचिव डॉ. प्रेम सिंह चारण के नेतृत्व में जयपुर से उदयपुर पहुंचे जांच दल की सूचना पर अनुपस्थित रहने वाले अधिकारियों में हड़कंप मच गया। दल के वेदप्रकाश मीणा ने बताया कि जांच में 99 राजपत्रित अधिकारियों में से 32 और 901 अराजपत्रित में से 205 अधिकारी-कर्मचारी अनुपस्थित मिले। नदारद लापरवाह अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। जब टीम जिला शिक्षा अधिकारी प्रारंभिक और उपनिदेशक कार्यालयों में पहुंची तो आधे से ज्यादा कर्मचारी और अधिकारी कार्यालय से नदारद मिले। खफा मंत्रालयिक कर्मचारी विरोध पर उतर गए। कर्मचारियों ने निरीक्षण के बाद डीईओ माध्यमिक कार्यालय पर पहुंचकर प्रदर्शन किया।

आरोप : निरीक्षण कराकर आंदोलन को कुचलने का प्रयास कर रही सरकार

शिक्षा विभागीय कर्मचारी समन्वय समिति के महामंत्री कमल प्रकाश बाबेल ने आरोप लगाए हैं कि शिक्षा विभाग में पद तोड़ने के खिलाफ एक माह से प्रदर्शन जारी है। सरकार आकस्मिक निरीक्षण करवाकर आंदोलन को कुचलने का प्रयास कर रही है। कर्मचारियों को प्रताड़ित किया जा रहा है। प्रदर्शन के बाद कर्मचारियों ने भाजपा कार्यालय में भाजपा जिलाध्यक्ष दिनेश भट्ट को ज्ञापन देकर बताया कि उदयपुर कार्यालयों में पहले मंत्रालयिक कर्मचारियों के 134 पद स्वीकृत थे, उनमें करीब 75 फीसदी पद समाप्त कर मात्र 36 पद ही रखे हैं, जिससे काम प्रभावित हो रहा है।

कर्मचारियों के पहुंचने से पहले ही दफ्तरों में पहुंचा दल

टीम सुबह 9.40 बजे नगर निगम पहुंची लेकिन तब कई कर्मचारी नहीं आए थे। टीम ने स्टाफ के सभी हाजिरी रजिस्टर कब्जे में लिए। इससे लेट आने वाले कर्मचारी उपस्थिति दर्ज नहीं कर पाए। कुछ कर्मचारी ऐसे भी थे, जो समय पर निगम तो पहुंच गए लेकिन रजिस्टर में हाजिरी दर्ज नहीं होने से बाहर घूमते रहे। टीम मोहता पार्क के पास जल संसाधन कार्यालय भी पहुंची जहां सभी शाखाओं के हाजिरी रजिस्टर कब्जे में लि। यहां भी देरी से आए कर्मचारी उपस्थिति दर्ज नहीं कर पाए।