फाजली, अल्वी और शहरयार एक ही दौर के शायर, लेकिन जुदा हैं अंदाज-ए-बयां : आचार्य

Udaipur News - कुल हिंद सेमिनार : कलाकारों ने दी इन्हीं की नज्मों को आवाज उदयपुर | राजस्थान उर्दू अकादमी, जयपुर का “कुल हिंद...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 11:30 AM IST
Udaipur News - rajasthan news fazli alvi and shayariar are the same period poets but differentiate e baia acharya
कुल हिंद सेमिनार : कलाकारों ने दी इन्हीं की नज्मों को आवाज

उदयपुर | राजस्थान उर्दू अकादमी, जयपुर का “कुल हिंद सेमिनार’ शनिवार को कुम्भा भवन में हुआ। गजल कार्यक्रम में डॉ. प्रेम भंडारी और डॉ. पामिल मोदी ने निदा फाजली, मोहम्मद अल्वी और शहरयार की गजलें पेश कीं।

उद्घाटन समारोह में उर्दू की किताब लिखने वाले हरीश तलरेजा और उर्दू अकादमी के अध्यक्ष प्रेम भंडारी का सम्मान किया गया। मुख्य वक्ता नंदकिशोर आचार्य ने कहा कि तीनों शायर किसी समाज शास्त्र की अवधारणा से नहीं है। तीनों एक ही दौर के हैं, लेकिन अंदाज-ए-बयां अलग-अलग हैं। अध्यक्षता करते हुए शीन काफ निजाम ने कहा कि निदा फाजली, अल्वी और शहरयार अपने दौर के ऐसे शायर थे, जिन्होंने नई नस्ल को इस हद तक प्रभावित किया कि नई नस्ल अरसे तक उन्हीं के लहजे में शायरी करने लगी। कार्यक्रम में श्रीनगर से प्रो. जमा आजुर्दा, दिल्ली विवि से प्रो. सादिक, उदयपुर जिला परिषद के सीईओ कमर चौधरी भी मौजूद थे।

समापन समारोह आज : कार्यक्रम के दूसरे दिन रविवार को जवाहर कला केन्द्र के अतिरिक्त महानिदेशक फुरकान खान अतिथि होंगे। साथ ही दिल्ली से प्रो. खालिद अल्वी, प्रो. खालिद अशरफ, डॉ. कासमी व शाहीन तबस्सुम, अलीगढ़ विवि से प्रो. साफे किदवई, जयपुर से मल्का नसीम और गोवा से रबाब अपने शोध पत्र पढ़ेंगे। उदयपुर से प्रो. सरवत खान भी अल्वी पर शोध पत्र प्रस्तुत करेंगी।

X
Udaipur News - rajasthan news fazli alvi and shayariar are the same period poets but differentiate e baia acharya
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना