• Hindi News
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • Udaipur News rajasthan news lakes will not be protected only by stopping the immersion of the tajiya idol you have to understand your property more light in the lakes is fatal to creatures mathur

सिर्फ ताजिया-मूर्ति विसर्जन बंद करने से नहीं संरक्षित होंगी झीलें, अपनी संपत्ति समझना होगा, झीलों में ज्यादा रोशनी जीवों के लिए घातक: माथुर

Udaipur News - इलाहबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस गोविंद माथुर ने कहा- सिर्फ ताजिए ठंडे नहीं करने और मूर्ति विसर्जन नहीं करने से ही...

Jan 16, 2020, 11:16 AM IST
Udaipur News - rajasthan news lakes will not be protected only by stopping the immersion of the tajiya idol you have to understand your property more light in the lakes is fatal to creatures mathur
इलाहबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस गोविंद माथुर ने कहा- सिर्फ ताजिए ठंडे नहीं करने और मूर्ति विसर्जन नहीं करने से ही झीलों का संरक्षण संभव नहीं है। युवाओं को झील संरक्षण के लिए आगे आना होगा, संघर्ष करना होगा। झीलों को अपनी संपत्ति समझना होगा। मैं एक दिन फतहसागर गया तो देखा उसमें बहुत लाइट्स पड़ रही थीं। मोटर बोट्स भी दौड़ती हैं। ऐसे में झील में रहने वाले निरीह जीवों पर क्या बीतती होगी? अजमेर की एक रिट पिटीशन पर जयपुर में रहते हुए मैंने ऑर्डर दिया था तब आनासागर झील में ऑक्सीजन पाइप लाइन की व्यवस्था कराई, जिससे उसमें जीवन बचा हुआ है। उन्होंने उदयपुर में नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) की बैंच की जरूरत की ओर इशारा किया। उन्होंने कहा कि बार एसोसिएशन उदयपुर को हाईकोर्ट बैंच के संघर्ष करने के लिए शुभकामनाएं देता हूं। लेकिन क्या उदयपुर में कोई ट्रिब्यूनल बैंच भी नहीं आ सकती? प्रदेश का सबसे बड़ा वन-पर्यावरण प्रभावित क्षेत्र दक्षिण राजस्थान में है। फिर भी नेशनल ट्रिब्यूनल की बैंच उदयपुर को नहीं मिली, जबकि राजस्थान में यह बैंच है। इलाहबाद हाईकोर्ट चीफ जस्टिस माथुर बुधवार को राजस्थान विद्यापीठ के श्रमजीवी कॉलेज में विधि विभाग भवन के लोकार्पण और नवीन भवन के शिलान्यास समारोह में बोल रहे थे। इससे पहले चीफ जस्टिस माथुर, हाईकोर्ट जस्टिस डॉ. पुष्पेंद्रसिंह भाटी, हाईकोर्ट जयपुर के वरिष्ठ अधिवक्ता आरएन माथुर, पूर्णिया विवि के वीसी प्रो. राजेश सिंह, कुल प्रमुख बीएल गुर्जर, कुलपति प्रो. एसएस सारंगदेवोत ने नए विधि भवन का लोकार्पण कर नए भवन का भूमि पूजन किया।

शिलान्यास समारोह में मौजूद लोग।

जस्टिस भाटी : आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एक घंटे में सुनाएगी फैसला

राजस्थान हाईकोर्ट जस्टिस डॉ. पुष्पेंद्रसिंह भाटी ने कहा कि न्याय पालिका के अंदर भी अब आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर बात शुरू हो गई है ताकि एक घंटे में दोनों पार्टियों को सुनकर फैसला सुनाया जा सके। ऐसे में लॉ स्टूडेंट्स को अब तकनीक से जुड़ने में ही फायदा है। आज किसी भी सीनियर के पास डायरी नहीं है, क्योंकि इंटरनेट पर ही सब चल रहा है। हर फैसला, बहस आदि की सूचना एक क्लिक पर दुनियाभर में उपलब्ध है। इससे पहले कुलपति प्रो. एसएस सारंगदेवोत, पूर्णिया विवि के कुलपति प्रो राजेश सिंह, हाईकोर्ट जयपुर के वरिष्ठ अधिवक्ता आरएन माथुर, कुल प्रमुख बीएल गुर्जर, बार काउंसिल ऑफ इंडिया के मेंबर सुरेशचंद्र श्रीमाली आदि ने कानून और उसकी महत्ता से अवगत कराया। लॉ स्टूडेंट्स को बहुआयामी बनाने के लिए सुझाव दिए। इससे पहले वरिष्ठ अधिवक्ता आरएन माथुर और अधिवक्ता प्रतीक माथुर ने 1 प्रिन्टर, 5 कम्प्यूटर, 312 लॉ जर्नल, ऑरिजनल भारत का संविधान हिन्दी-अंग्रेजी और मनुपात्रा ऑनलाइन सॉफ्टवेयर पुस्तकालय को भेट किए। डीन प्रो. कला मुणेत ने आभार जताया।

चीफ जस्टिस का सवाल

Udaipur News - rajasthan news lakes will not be protected only by stopping the immersion of the tajiya idol you have to understand your property more light in the lakes is fatal to creatures mathur
X
Udaipur News - rajasthan news lakes will not be protected only by stopping the immersion of the tajiya idol you have to understand your property more light in the lakes is fatal to creatures mathur
Udaipur News - rajasthan news lakes will not be protected only by stopping the immersion of the tajiya idol you have to understand your property more light in the lakes is fatal to creatures mathur
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना