भागलपुर से उदयपुर पहुंची किशोरी, नींद आने से छूटा स्टेशन

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
उदयपुर | 13 वर्षीय किशोरी ट्रेन में नींद आ जाने के चलते सही स्थान की जगह उदयपुर पहुंच गई। किशोरी का नाम अनामिका है। अपने पैतृक घर भागलपुर बिहार से ट्रेन में बैठकर बुआ के घर जाने को निकली थी। उसकी बुआ कलवाही टोली की निवासी है। बालिका काे मंसही फाटक पर उतरना था, लेकिन नींद के कारण वह आगे निकल गई। हड़बड़ी में जब वह उठी तो बुधवार रात करीब 12:15 पर रतलाम से चलकर उदयपुर को आने वाली रतलाम उदयपुर एक्सप्रेस से उदयपुर आ पहुंची। किशोरी को सबसे पहले सहयोगी यात्री रियांसी और मुकेश वैरागी ने देखा और उसे उदयपुर सिटी रेलवे स्टेशन पर आरपीएफ को सौंपा। चाइल्ड लाइन कार्यकर्ता वीरेंद्र और महेंद्र सिंह ने थाने की सूचना पर मौके पर पहुंच सीडब्ल्यूसी न्यायपीठ के बीके गुप्ता को सूचित किया। इस पर गुप्ता ने थाना अधिकारी ओम कुमार बैरवा को किशोरी को तुरंत रोजनामचा रिपोर्ट दर्ज कर महिला पुलिस कर्मी से साथ सादा वर्दी में पेश करने के निर्देश दिए। समिति की डॉ राजकुमारी भार्गव और चाइल्ड लाइन नोडल समन्वयक नवनीत औदिच्य ने रात को ही बालिका को पानेरियों की मादड़ी मनु संस्थान द्वारा संचालित बालिका गृह में भिजवाया। चाइल्ड लाइन और बालिका गृह को उसके परिजनों का पता लगाने और मेडिकल के निर्देश दिए। बयान में बताया की वह चौथी तक पढ़ी है। अपना नाम लिखना जानती है। मां की मौत हो चुकी है और पिता दिल्ली में मजदूरी करते हैं। संस्था और पुलिस उसके परिजनों का पता लगाने में जुटी है।

अनामिका।

खबरें और भी हैं...