• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • Udaipur News Rajasthan News The Health Committee Of The Corporation Responsible For The Cleanliness Its Members Are Aware Of Cleanliness Survey

निगम की जिस स्वास्थ्य समिति के जिम्मे सफाई का जिम्मा, उसके सदस्य ही स्वच्छता सर्वेक्षण से अंजान

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
स्वच्छता सर्वेक्षण-2019 की बुधवार को जारी रैंकिंग में उदयपुर 85वें नंबर से 52 पायदान पिछड़कर 137वें नंबर पर पहुंच गया। कमियां फील्ड वर्क की ही नहीं रही, बल्कि निगम का प्रशासनिक तंत्र भी सर्वे को लेकर काफी हद तक सोया रहा। शहरी सफाई व्यवस्था की देखरेख स्वास्थ्य समिति के हाथों में रहती है, लेकिन इस समिति में भी कभी स्वच्छता सर्वेक्षण को लेकर चर्चा होती नजर नहीं आयी। सर्वेक्षण की रैंकिंग घोषित होने के बाद भास्कर ने निगम की स्वास्थ्य समिति के सदस्यों से ही जानकारी ली तो वे इस सर्वे की गाइडलाइन से बेखबर नजर आए। जिस समिति पर इस सर्वे को लेकर बड़ी जिम्मेदारी थी उसके सदस्यों को ही आवश्यक जानकारी नहीं थी तो आमजन को सर्वे को लेकर निगम ने क्या जागरूक किया होगा यह बड़ा सवाल उठता है। निगम को जब यह आभास हो चुका था कि सर्वेक्षण टीम गोपनीय सर्वे को लेकर कभी भी उदयपुर आ सकती है तब तक भी लापरवाही बनी रही।

सदस्य बोले समिति की बैठक में भी सफाई पर नहीं हुई कोई चर्चा
सर्वेक्षण को लेकर क्या गाइड लाइन तय की गई थी इसकी हमें जानकारी नहीं दी। समिति की बैठक में भी कभी चर्चा नहीं हुई। उसी का परिणाम रहा। -सिद्धार्थ शर्मा, सदस्य स्वास्थ्य समिति

नए निगम आयुक्त ने स्वास्थ्य अधिकारी से पूछा उदयपुर के पिछड़ने का कारण
स्वच्छता सर्वेक्षण- 2019 की रैंकिंग में उदयपुर के पिछडऩे से निगम सकते में आ गया है। शहर भर में निगम की किरकिरी होने के बाद गुरुवार शाम निगम आयुक्त अंकित सिंह ने स्वास्थ्य अधिकारी नरेंद्र श्रीमाली को बुलाकर समीक्षा की। आयुक्त ने श्रीमाली से पूछा कि रैंकिंग में पीछे रहे तो क्यों रहेω। छोटे-छोटे काम जो कम समय में करना संभव हो उन पर पहले ध्यान दिया जाए ताकी अगले सर्वे में रैंकिंग ठीक हाे सकें।

स्वच्छता को लेकर पार्षदों की कभी बैठक नहीं बुलाई
जब समिति के सदस्यों को ही सर्वे की जानकारी नहीं थी तो दूसरे पार्षद या आमजन को कैसे होगी। बैठक में भी नहीं बताया कि स्वच्छता सर्वेक्षण में क्या क्या होना है। सर्वे को लेकर सभी पार्षदों की भी कभी बैठक नहीं बुलाई गई। -राशिद खान, सदस्य स्वास्थ्य समिति

सफाई के नए-नए प्रयोगों में ही हम डूब गए, मुझे दिख है : समिति अध्यक्ष
सर्वेक्षण को लेकर समिति सदस्यों के साथ चर्चा तो हुई थी अब कोई कुछ भी कहे। रैंकिंग पिछड़ने से मुझे भी बहुत दुख है। सफाई व्यवस्था को लेकर नए नए प्रयोग किए, उसमें हम डूब गए। सफाई व्यवस्था की मॉनिटरिंग एक ही स्वास्थ्य अधिकारी के जिम्मे थी वह दो भागों में बांट दी गई। इससे व्यवस्था सुधरने की बजाय बिगड़ी ज्यादा। -ओम चित्तौड़ा, स्वास्थ्य समिति अध्यक्ष, निगम

सर्वेक्षण को लेकर कभी कोई चर्चा ही नहीं हुई
स्वास्थ्य समिति की बैठक में सर्वेक्षण को लेकर कभी चर्चा नहीं हुई यह सत्य बात है। इसके अलावा इतने सफाई कर्मचारियों की भर्ती होने पर भी कोई आउटपुट नजर नहीं आया। -विजय प्रजापत, सदस्य स्वास्थ्य समिति

खबरें और भी हैं...