पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ये है 13 साल का आदिवा

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मां-बाप दिहाड़ी मजदूर, आंधी में उड़ी झोपड़ी, दरी-गद्दों पर बेटे ने की जूडो प्रैक्टिस, खेलो इंडिया स्कीम में नेशनल लेवल पर खेलेगा 13 साल का मुकेश


ये है 13 साल का आदिवासी छात्र मुकेश मीणा। उदयपुर शहर से 25 किमी दूर जंगलों और पहाड़ियों के बीच डोडावली ग्राम पंचायत में पीपलिया गांव में छोटी से झोपड़ी में इनका परिवार रहता है। घर में न बिजली है न ही वहां तक जाने के लिए सड़क और न ही पास में कोई स्कूल। खेल सुविधाएं तो दूर-दूर तक नहीं। मुकेश ने किसी स्कूल में जूडो खेल देखा और उसने जिद पाल ली कि वह भी इस खेल का धुरंधर बनेगा। बिना सुविधा संसाधन के ही झोपड़ी में ही गद्दे और दरी बिछाकर जैसे-तैसे उसने प्रैक्टिस शुरू कर दी। इसके हुनर का अंदाजा पास के स्कूल टीचर किशन सोनी को लगा तो उन्होंने प्रशिक्षण देना शुरू किया। आज आदिवासी छात्र मुकेश मीणा की जिद ने उसे जूडो में राष्ट्रीय स्तर पर पहुंचा दिया है। मुकेश का केंद्र सरकार की खेलो इंडिया योजना में चयन हो गया है। एक झोपड़ी में रहने वाले जूडो के इस धुरंधर की प्रतिभा को और तराशने के लिए सरकार उसकी पढ़ाई-लिखाई, खाने-पीने पर प्रति वर्ष पांच लाख रुपए खर्च करेगी। मुकेश के माता-पिता दिहाड़ी मजदूरी कर जीवन यापन करते हैं। कई बार अंधड़ में मुकेश के कच्चे घर की छत उड़ गई पर उसने प्रैक्टिस जारी रखी। फिलहाल मुकेश को गुजरात के नडियाद जूडो सेंटर में जूडो के अंतरराष्ट्रीय प्रशिक्षक सतपाल सिंह राणा और घनश्याम ठाकुर नियमित प्रशिक्षण दे रहे हैं।

अब भी परिवार रहता है झोपड़ी में, केंद्र सरकार अब इस आदिवासी खिलाड़ी पर हर साल 5 लाख रुपए खर्च करेगी

उदयपुर. अपने घर के बाहर मुकेश मीणा।

मुकेश को गांव में प्रशिक्षण देने वाले शारीरिक शिक्षक किशन सोनी ने बताया कि खेलो इंडिया में राजस्थान से सिर्फ मुकेश का ही सब जूनियर जूडो में चयन हुआ है। मुकेश के हौसलों और उसकी प्रतिभा को देख सोनी ने अपने स्तर पर ही निजी मित्रों और भामाशाहों से 80 हजार की जूडो मेट और ड्रेस पीपलिया में उपलब्ध कराया और प्रशिक्षण दिया। मुकेश पहले उच्च प्राथमिक विद्यालय पीपलिया में पढ़ा फिर अपनी प्रतिभा के दम पर उदयपुर जनजाति खेल छात्रावास मधुबन में प्रवेश पाया। शहर के रेलवे ट्रेनिंग स्कूल में भी पढ़ा और जूडो प्रशिक्षक एवं शारीरिक शिक्षक सुशील सेन और किशन सोनी ने प्रशिक्षण दिया।

एेसे हुआ चयन : नेशनल सब जूनियर में राष्ट्रीय खिलाड़ियों को दी ऐसी पटखनी, 5 मिनट की फाइट 3 मिनट में ही जीती

उदयपुर के छोटे से गांव पीपलिया के आदिवासी छात्र मुकेश ने बीते वर्ष रांची झारखण्ड में स्कूल नेशनल सबजूनियर जूडो प्रतियोगिता में 25 किग्रा भार में सिल्वर मेडल जीतकर देश में दूसरा स्थान प्राप्त किया था। इस प्रतियोगिता में उसने हरियाणा, उत्तर प्रदेश, गुजरात और त्रिपुरा के खिलाड़ियों को पटखनी दी थी। किशन ने बताया कि मुकेश जूडो का इतना धुरंधर खिलाड़ी हो चुका है कि अपने वर्ग में पिछले साल राष्ट्रीय खिलाड़ियों को भी धूल चटाकर तीन मिनट की फाइट को डेढ़ मिनट में जीत चुका है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें