• Home
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • Udaipur - 16 साल पहले शहीद हुए रतनलाल के घर आैर गांव में पहली बार पहुंची बिजली
--Advertisement--

16 साल पहले शहीद हुए रतनलाल के घर आैर गांव में पहली बार पहुंची बिजली

पुलवामा में शहीद हुए रतनलाल मीणा के गांव बोरा फला (बड़ी ऊंदरी) के घर और परिवार में शनिवार को खुशी का माहौल था। रतनलाल...

Danik Bhaskar | Sep 09, 2018, 07:11 AM IST
पुलवामा में शहीद हुए रतनलाल मीणा के गांव बोरा फला (बड़ी ऊंदरी) के घर और परिवार में शनिवार को खुशी का माहौल था। रतनलाल की शहादत के 16 साल बाद यहां शनिवार को बिजली पहुंची तो हर किसी के चेहरे पर खुशी नजर आई।

दैनिक भास्कर में मुद्दा उठाने के बाद ग्रामीण विधायक फूलसिंह मीणा की पहल से इस गांव में रोशनी पहुंची है। विधायक मीणा और गिर्वा प्रधान तख्तसिंह शक्तावत सुबह बिजली विभाग के अधिकारियों के साथ बोरा फला पहुंचे। यहां जैसे ही शहीद के पिता लच्छू, मां रूपा देवी और शहीद की प|ी पुष्पा मीणा ने एलईडी चालू करने के लिए बटन दबाया तो मानो दीवाली की तरह घर रोशन हो गया। इसके साथ इस गांव के 25 घरों में बिजली की सुविधा पहली बार पहुंची है। विधायक ने ग्रामीणों को गांव में पक्की सड़क जल्द बनवाने का अाश्वासन दिया। इस मौके पर बिजली विभाग के एक्सईन मनोज सुहालका, एईएन दीपक सुहालका, स्थानीय सरपंच पूनमचंद मौजूद थे।

कनेक्शन होने के बाद पहली बार बिजली से रोशन हुआ शहीद का घर।

चुनौती भरा था पहाड़ियों पर खंभे गाड़कर लाइन बिछाना

एक्सईएन मनोज सुहालका ने बताया कि पीपलवास से बोरा फला गांव तक दीनदयाल ज्योति योजना के तहत 100 खंभे गाड़कर लाइन बिछाई। खड़ी पहाड़िया होने से रस्सों से बांधकर जैसे-तैसे खंभे पहाड़ों पर पहुंचाए। इसमें ग्रामीणों ने भी काफी सहयोग किया।

पति ने शहादत से गांव का नाम राेशन किया था, पुण्यतिथि पर गांव को रोशन किया : शहीद की प|ी पुष्पा मीणा ने बताया कि आने वाली 20 सितम्बर को ही शहीद पति की पुण्यतिथि है। उससे ठीक पहले गांव में बिजली पहुंची और रोशनी हुई। यह दिन हमारे लिए दिवाली से कम नहीं है। अब पक्की सड़क और बन जाए तो आना-जाना आसान हो जाएगा।