उदयपुर

--Advertisement--

इस साल दस दिन में पूरी होगी सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा, तीन दिन अतिरिक्त बढ़ने से 5000 रुपए तक बढ़ जाएगा हजारों छात्रों का खर्चा

संघ लोकसेवा आयोग (यूपीएससी) ने सिविल सेवा मुख्य परीक्षा की समय सारणी जारी कर दी है।

Danik Bhaskar

Jul 05, 2018, 04:18 PM IST

उदयपुर. संघ लोकसेवा आयोग (यूपीएससी) ने सिविल सेवा मुख्य परीक्षा की समय सारणी जारी कर दी है। हर साल 7 दिन में पेपर पूरे हो जाते थे लेकिन इस बार 10 दिन में परीक्षा पूरी होगी।परीक्षा 28 सितम्बर से 7 अक्टूबर तक चलेगी। 28 सितम्बर को निबंध का प्रश्न पत्र, 29 को सामान्य ज्ञान पहला और सामान्य ज्ञान दूसरा पेपर, 30 को सामान्य ज्ञान तीसरा और सामान्य ज्ञान चौथा का पेपर होगा। 1 अक्टूबर से 5 अक्टूबर तक अवकाश रखा गया है। 6 अक्टूबर को भारतीय भाषा और 7 अक्टूबर को वैकल्पिक प्रश्न पत्र पहला और वैकल्पिक प्रश्न पत्र दूसरा होगा। इस बार परीक्षा के बीच लगातार 5 दिन की छुट्टियां भी हैं। 2017 में परीक्षा 28 अक्टूबर से 3 नवम्बर तक यानी 7 दिन वहीं 2016 में 3 दिसम्बर से 9 दिसम्बर तक परीक्षा चली थी। परीक्षा अवधि 3 दिन अतिरिक्त बढ़ाने से छात्रों की परेशानियां तो बढ़ेंगी ही, आर्थिक भार भी बढ़ेगा। क्योंकि अधिकांश छात्रों को होटलों में रहना पड़ता है। परीक्षा के लिए दृष्टिबाधित और अस्थिबाधित दिव्यांग अपने साथ अपना श्रुति लेखक लेकर आते हैं। ऐसे में दिव्यांग छात्रों को श्रुति लेखकों के खर्चे का भार भी आएगा।

कई राज्यों में नहीं होता सेंटर, दूसरे राज्यों में जाना पड़ता है परीक्षा देने

उल्लेखनीय है कि सिविल सेवा मुख्य परीक्षा का केंद्र दिल्ली और सभी राज्यों की राजधानी में आता है। कुछ राज्यों पंजाब, हरियाणा, गोवा, मणिपुर, त्रिपुरा, नागालैंड में कोई सेंटर नहीं होता है। इन राज्यों के छात्र अपने नजदीक राज्य की राजधानी का सेंटर भरते हैं जिससे उन्हें परीक्षा के लिए दूसरे राज्यों के शहरों में रहना पड़ता है। सिविल सेवा मुख्य परीक्षा के लिए अहमदाबाद, आइजोल, इलाहाबाद, बेंगलोर, भोपाल, चंडीगढ़, चेन्नई, कंटक, देहरादून, दिल्ली, गोवाहटी, हैदराबाद, जयपुर, जम्मू, कोलकाता, लखनऊ, मुंबई, पटना, रायपुर, रांची, शिलांग, शिमला, तिरूवंतपुरम, विजयवाड़ा में ही सेंटर होते हैं।

3 लाख छात्रों ने दी है प्री परीक्षा, मेंस के लिए 15000 छात्र चुने जाएंगे

सिविल सेवा प्री परीक्षा इस बार देशभर से लगभग तीन लाख छात्रों ने दी है। अभी इसका परिणाम आना बाकी है। यूपीएससी 3 लाख छात्रों में से करीब 15000 छात्रों का चयन करेगा जो सिविल सेवा मुख्य परीक्षा देने जाएंगे। इन 15000 छात्रों में से अधिकतर का सेंटर होम टाउन से दूर पड़ता है। ऐसे में उन्हें 10 दिन तक दूसरे शहरों में होटलों में रहना पड़ेगा।

खर्चे का गणित समझिए

राज्यों की राजधानियों में एक सामान्य होटल के रूम का किराया कम से कम 1200 से 2000 के बीच होता है। ऐसे में एक छात्र का अतिरिक्त 3 दिन का रहने का खर्चा लगभग 4500 रुपए तक बढ़ेगा। इसके अलावा प्रतिदिन खाने व अन्य खर्चे को मिला दें तो कम से कम 200 रुपये प्रतिदिन का खर्चा आता है। ऐसे में तीन दिन अतिरिक्त बढ़ने से रहने-खाने के साथ कुल खर्चा 5000 तक बढ़ जाएगा।

Click to listen..