• Home
  • Rajasthan News
  • Vijay Nagar News
  • 2001 में पासपोर्ट पर भारत आया पाकिस्तानी, जोधपुर के व्यक्ति की गारंटी पर यहां श्रीगंगानगर में बनवाय
--Advertisement--

2001 में पासपोर्ट पर भारत आया पाकिस्तानी, जोधपुर के व्यक्ति की गारंटी पर यहां श्रीगंगानगर में बनवाया आधार कार्ड, जैसलमेर एयरफाेर्स के पास पकड़ा तो हुआ खुलासा

भास्कर संवाददाता| श्रीगंगानगर एक पाक नागरिक ने भारत की नागरिकता मिले बिना ही खुद को श्रीविजनगर में 23 जीबी के...

Danik Bhaskar | Feb 04, 2018, 07:55 AM IST
भास्कर संवाददाता| श्रीगंगानगर

एक पाक नागरिक ने भारत की नागरिकता मिले बिना ही खुद को श्रीविजनगर में 23 जीबी के वार्ड तीन का निवासी बताते हुए अपना आधार कार्ड बनवा लिया है। यह मामला जैसलमेर, जोधपुर के बाद अब श्रीगंगानगर से भी जुड़ गया है। सीमावर्ती जिले जैसलमेर व श्रीगंगानगर से मामला जुड़ा होने के कारण सुरक्षा एजेंसियां भी हरकत में आ गई हैं। इस मामले के लिए जैसलमेर पुलिस द्वारा भेजे गए पत्र के आधार पर श्रीविजयनगर पुलिस ने इस संबंध में संबंधित के खिलाफ शनिवार को मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस ने बताया कि कोतवाली थाना अधिकारी जैसलमेर ने यहां भेजे पत्र में बताया है कि जैसलमेर एयर फोर्स स्टेशन के गेट पर 3 जनवरी 2018 को एक संदिग्ध व्यक्ति को पकड़ा था। जांच में यह पाक नागरिक निकला। यह संदिग्ध पुरखाराम पुत्र हीराराम भील निवासी, चुताली चक, पोस्ट बिस्मीलाहपुर, तहसील खानपुर जिला रहीमयार खां पाकिस्तान का रहने वाला है जो 2001 में राजस्थान आया था। उसके पास जोधपुर के सेखासर पते का 2001 का बनाया हुआ पासपोर्ट भी मिला है। वर्ष 2001 में ही सेखासर (फलौदी) जोधपुर वीजा से आया और सेखासर के लिए ही उसका वीजा जारी हुआ था। पुरखाराम के पास जो आधार कार्ड मिला है उसका क्रमांक 85178400 839 है। आधार कार्ड बनवाने में सेखासर का धन्नाराम पुत्र नेनाराम गवाह बना था।

आरोपी बोला- जोधपुर का व्यक्ति बना था गारंटर, जैसलमेर पुलिस की सूचना पर यहां मुकदमा दर्ज

पाकिस्तानी पुरखाराम भील और धन्नाराम भील से पूछताछ में पता चला कि उन्होंने श्रीविजयनगर से ही आधार कार्ड के लिए एक शिविर में आवेदन किया गया था। यहां वह अपने किसी रिश्तेदार के यहां ठहरा था। इसलिए इस व्यक्ति पर मामला दर्ज करने के लिए श्रीविजयनगर पुलिस थाने में भेजा पत्र भेजा है। अभी यह पता भी लगाया जा रहा है कि पाक नागरिक ने अपना आधार कार्ड यहां बनवाया कब था? जैसलमेर पुलिस के अनुसार पुरखाराम किसी काश्तकार के यहां मजदूरी करता है। फिलहाल पुरखाराम जेल में है। श्रीविजयनगर से वह ट्रेन के माध्यम से जैसलमेर पहुंचा था जहां एयर फोर्स स्टेशन के सामने काफी देर खड़ा रहा तो उस पर शक हुआ। पूछताछ में सामने आया कि उसने शराब भी पी रखी थी। वह कुछ बता नहीं पाया और घबरा गया तो पुलिस ने सुरक्षा के दृष्टिगत जांच की तो उसके पास आधार कार्ड निकला। हालांकि पूछताछ में यह बात भी सामने आई है कि पुरखाराम पाकिस्तान के हालातों से तंग आकर ही यहां आया था और यहीं बस गया। फिलहाल सुरक्षा एजेंसिंया और पुलिस जांच में जुटे हैं।

पुलिस की जांच, कौन मददगार कितने आए, अब कितने गायब

अब पुलिस जांच करेगी कि यहां श्रीविजयनगर के 23 जीबी में वह कैसे पहुंचा और यहां उसके मददगार कौन-कौन लोग थे? साथ ही यह भी पता लगाया जाएगा कि आधार कार्ड बनवाने के लिए उसने साक्ष्य के रूप में क्या दस्तावेज जमा कराए थे? इसी से पता चलेगा कि पाकिस्तानी नागरिक ने कोई और आईडी तो फर्जी तरीके से नहीं बनवा रखीं?

सरहदी जिलों में घटना होने के बाद खुफिया एजेंसियां सतर्क