• Home
  • Rajasthan News
  • Vijay Nagar News
  • श्रीविजयनगर नगरपालिका की पूर्व उपाध्यक्ष के बेटे व बहू का भी सफाई सेवक पद पर चयन, बेटी है भाजपा से पार्षद
--Advertisement--

श्रीविजयनगर नगरपालिका की पूर्व उपाध्यक्ष के बेटे व बहू का भी सफाई सेवक पद पर चयन, बेटी है भाजपा से पार्षद

श्रीविजयनगर| नगरपालिका में नवनियुक्त 28 सफाई कर्मचारियों में वार्ड तीन के भाजपा पार्षद रज्जो के भाई कासिम अली और...

Danik Bhaskar | Jul 16, 2018, 07:00 AM IST
श्रीविजयनगर| नगरपालिका में नवनियुक्त 28 सफाई कर्मचारियों में वार्ड तीन के भाजपा पार्षद रज्जो के भाई कासिम अली और भाभी अतावा का चयन भी हुआ है। कासिम की प|ी अतावा बीए, बीएड शिक्षित है। अतावा ने उर्दू से एमए भी कर ली है। खास बात ये भी है कि चयनित कासिम अली और पार्षद रज्जो की मां मरियम बानो भाजपा से पालिका की पूर्व उपाध्यक्ष भी रह चुकी है। चयन के बाद भास्कर ने अतावा से पूछा- आप इतनी पढ़ी लिखी हैं, सास आपकी पालिका की पूर्व उपाध्यक्ष रह चुकी हैं जबकि ननद वर्तमान में पार्षद है ऐसे में आपका सफाई कर्मी बनना उनको और आपको कैसा लगेगा? क्या सफाई का काम कर पाएंगी? अतावा ने भी सहज जवाब दिया- काम में कैसी शर्म? मैं घर पर भी तो सारा दिन सफाई आदि करती ही हूं। कहा ये केवल एक संयोग मात्र है कि हम पति प|ी दोनों का चयन हुआ है। हालांकि इन दोनों के चयन पर कुछ लोगों ने नाराजगी भी जताई है लेकिन जिला मुख्यालय पर निकली लॉटरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी भी कराई गई थी। अब तक यहां 20 ने ड्यूटी जॉइन कर ली है। उधर, नगरपालिका में नवनियुक्त सफाई सेवकों को नियुक्ति पत्र वितरण के दौरान आयोजित कार्यक्रम में इस भर्ती में चयनित कासिम के पिता लियाकत अली पहुंचे थे। कासिम और अतावा नहीं पहुंचे थे। आयोजित कार्यक्रम में वाल्मीकि समाज के नवयुवकों व महिलाओं ने इस भर्ती में भ्रष्टाचार और लाटरी में धांधली का आरोप लगाते हुए प्रदर्शन किया। चयन से वंचित कुछ युवकों व महिलाओं ने आक्रोश जताया। नारेबाजी भी की। प्रदर्शनकारी नियुक्ति में गड़बड़ी का आरोप लगा रहे थे। इस बीच वहां उपस्थित हवलदार रोहिताश कुमार ने उनकाे समझाइश कर मामला शांत कर दिया। पति-प|ी दोनों का सफाई सेवक रूप में भर्ती होना चर्चा का विषय रहा। लोगों का आरोप था कि भाजपा की सरकार है। बहन भाजपा पार्षद और मां इसी पार्टी में रहते हुए पालिका की उपाध्यक्ष रह चुकी हैं। लोगों का कहना था कि एक ही परिवार से दो लोगों को सरकारी सेवा में भर्ती होना चाहे संयोग हो, लेकिन जांच तो होनी ही चाहिए।